MP में सबसे ज्यादा संक्रमित ये शहर, हर रोज बढ़ रही कोरोना वायरस केस की संख्या

Corona Update : जानिए क्या है जानलेवा कोरोना वायरस का जिलेवार रिपोर्ट...

इंदौर : नोवल कोरोना वायरस COVID-2019 का संक्रमण तेजी से मध्यप्रदेश में फैलने लगा है। 20 मार्च को कोरोना का पहला मामला मिलने के बाद 26 मार्च तक मध्यप्रदेश में 15 कोरोना वायरस पॉजिटिव मिले। मध्यप्रदेश स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी coronavirus कोरोना वायरस रिपोर्ट के अनुसार इंदौर-4, जबलपुर-6, भोपाल-2, शिवपुरी-1, उज्जैन-1 और ग्वालियर में एक कोरोना वारयस के मरीज मिले। जिनमें एक की मृत्यु हो चुकी है। coronavirus cases in mp...

कोरोना वायरस के आंकड़ों पर एक नजर (26 मार्च तक)

  • मप्र में अभी 36 सेम्पल की जाँच रिपार्ट आना बाकी है।
  • 06 सेम्पल रिजेक्ट हुए। ठीक से सेम्पलिंग नहीं हो पाई थी।
  • 15 पॉजिटिव केस अभी तक मिले। Death cases एक की मौत हुई।
  • मप्र में अब तक 178 केस की रिपोर्ट निगेटिव आई है।
news

 

प्रदेश के 6 जिलों में पहुंचा कोरोना

कोरोना वायरस coronavirus news का कहर अब मध्यप्रदेश के जिलों में बरपा रहा। अबतक प्रदेश के 6 जिले (जबलपुर, इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, शिवपुरी, उज्जैन) में कोरोना वायरस के संक्रमित मरीज मिले हैं। सोशल डिस्टेंस होने से इनकी संख्या कम होने की उम्मीद है। 14 अप्रैल तक इन संक्रमित आंकड़ों के आधार पर लॉकडाउन बढ़ाने का निर्णय लिया जाएगा।

20 मार्च को जबलपुर में कोरोना वायरस coronavirus-2019 संक्रमित का पहला मरीज मिला था। जिसके बाद जबलपुर में स्विट्जरलैंड से लौटे युवक समेत 4 लोगों में कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। बाद में इंदौर, ग्वालियर और शिवपुरी में कोरोना संक्रमित मरीज के मिलने का सिलसिला शुरू हुआ।

corona_report_news.jpg

 

22 मार्च को भोपाल में ब्रिटेन से लौटी छात्रा पॉजिटिव मिली। इसी दिन जबलपुर में भी एक कोरोना का मामला सामने आया था। इसके बाद 23 मार्च को जबलपुर में सराफा कारोबारी परिवार के संपर्क में आए एक और युवक में कोरोना की पुष्टि हुई थी।

24 मार्च को ग्वालियर और शिवपुरी में एक-एक युवक पॉजिटिव मिला और फिर 25 मार्च को इंदौर में 9, भोपाल में 1 कोरोना संक्रमण का केस मिला। इसी दिन उज्जैन में एक महिला जो 65 साल की कोरोना संक्रमण के चलते उसकी मौत हो गयी।

District Wise Details आंकडों का विश्लेषण करें तो कोरोना वायरस चैन की तरह मध्यप्रदेश में फैलना अभी शुरू हुआ है। यही वजह है कि सोशल दूरी बनाकर कोरोना के वायरस को दूर किया जा सकता है। पहले चरण में मध्यप्रदेश में सिर्फ एक महिला की मौत हुई, जिसकी उम्र 65 वर्ष थी।

coronavirus_1.jpg

 

विशेषज्ञों के अनुसार कोरोना वायरस के लक्षण 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे और 65 वर्ष से अधिक उम्र के नागरिकों में ज्यादा प्रभाव छोड़ते हैं यानि की इन आयु वर्ग के लोगों में कोरोना के संक्रमण का खतरा अधिक होता है।

कोरोना संक्रमण से बचाव

सोशल डिस्टेंस का सीधा मकसद कोरोना वायरस के महामारी को बढ़ने से रोकना। अगर ऐसा करने में सफल होते हैं तो इससे स्वास्थ्य प्रणाली पर बोझ कम पड़ेगा। सोशल डिस्टेंस इस बीमारी को रोकने से ज्यादा इसके बढ़ने की दर को कम करने का साधन है, जिससे लोग ज्यादा बीमार नहीं पड़ेंगे। इंफेक्शन कम फैले और बीमारी थम जाए, इसलिए एक-दूसरे से कम संपर्क रखने यानि सोशल डिस्टेंस बनाने के निर्देश दिये जा रहे हैं।

शोध के अनुसार कोविड-19 कोरोना वायरस को नियंत्रण करने का सावधानी और सोशल डिस्टेंस यानि एक-दूसरे दूरी ही इसका इलाज है। सोशल मीडिया पर चल रहे भ्रमक इलाज, टीके और उपचार गलत हैं इस बाद की पुष्टी हो चुकी है। अपने पास की दुकानों से सामान खरीदें, बाहर घूमने के लिये नहीं निकलें, समान ले तुरन्त घर वापस पहुचें, लाये गए समान को सेनिटाइस करें, साबुन से हाथ धोयें, तभी घरों में प्रवेश करें, कपड़े तुरन्त बदलें, बूट- चप्पल घर के बाहर उतारें।

coronavirus coronavirus cases
Show More
KRISHNAKANT SHUKLA
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned