नए शिकार से पहले लुटेरी दुल्हन गिरफ्तार

अब तक कर चुकी है तीन शादियां, पीथमपुर के युवक से शादी के बाद रात में ही गहने और रुपए लेकर हो गई थी फरार

पीथमपुर/बड़वानी. पुलिस ने शादी की पहली ही रात गहने और रुपए लेकर फरार होने वाली लुटेरी दुल्हन और उसके साथियों को बुधवार गिरफ्तार कर लिया। लुटेरी दुल्हन इससे पहले की अपना दूसरा शिकार बना पाती, पुलिस खुद लडक़े वाला बनकर उसके पास पहुंची। बात तय होने से पहले युवती और उसकी मां ने लडक़े वालों से रुपयों की मांग की। इस पर पुलिस ने जाल बिछाकर उसे और उसके साथियों को गिरफ्तार कर लिया। लुटेरी दुल्हन इससे पहले तीन लोगों को शिकार बना चुकी थी।
जानकारी के अनुसार जिले के ठीकरी में रहने वाली किरण देवेसिंग पंवार, उसकी मां सुनिताबाई पति देवेसिंग पंवार (५०), मौसी चकेलीबाई पति गुड्डु मेहरा निवासी मुम्मई माता मंदिर बड़वानी (४८) और बिचौलिया वीरु पिता लालजी शर्मा (३८) निवासी न्यू हाउसिंग बोर्ड बड़वानी युवकों और उनके परिवारों को जाल में फंसाने का काम करते थे। वह बड़वानी में किराए का मकान लेकर रहते थे। शादी के लिए वह लडक़े वालों से रुपयों की मांग किया करते थे। इसके बाद शादी की पहली ही रात में किरण (लुटेरी दुल्हन) लडक़े वालों के घर से गहने और रुपए लेकर चंपत हो जाती थी। उन्होंने बड़वानी में रहकर पीथमपुर में रहने वाले महेंद्र पिता दुर्गाशंकर से शादी की बात तय की। इस बीच बिचौलिए वीरू ने उनकी बात तय कराई। २१ नवंबर को महेंद्र और किरण की शादी कराई गई। इस दौरान लडक़ी पक्ष को लडक़े वालों ने ७० हजार रुपए भी दिए। इसी रात किरण लडक़े वालों के घर से रुपए और गहने लेकर चंपत हो गई। उसकी तलाश में दूल्हा महेंद्र और परिवार वाले करते रहे। इसकी शिकायत उन्होंने कोतवाली थाने बड़वानी पहुंचकर की। तभी से पुलिस लुटेरी दुल्हन, उसकी मां और बिचौलिए की तलाश कर रही थी।
कार्रवाई में इन पुलिस कर्मियों का रहा सहयोग
आरोपियों को गिरफ्तार करने मं टीआई राजेश यादव, एसआई मोहनसिंह डावर, जानी चारेल, शिवराम निर्वेल, झिरमल सापलिया, एएसआई आरसी चौहन, आरक्षक जगजोध सिंह, बलवीर, योगेश पाटील साइबर, सुरेंद्रसिंह, गेंदालाल, महिला आरक्षक रेशम, प्रिंयका, गायत्री का सहयोग रहा।
पुलिस ने ऐसे फंसाया जाल में
लुटेरी दुल्हन का शिकार हुए दूल्हे महेंद्र और उसके पिता की शिकायत मिलने के बाद पुलिस सक्रिय हुई। लुटेरी दुल्हन की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की एक टीम बनाई गई। पुलिस की टीम ने लुटेरी दुल्हन और उसके साथियों को गिरफ्तार करने के लिए जाल बिछाया। पुलिस ने उनके बिचौलिए वीरू शर्मा से बात की। इस दौरान खुद लडक़े वाला बनकर पुलिसकर्मी लुटेरी दुल्हन के घर पहुंचे। यहां लडक़ी को देखने के बाद सगाई की रस्म की बात हुई। यहां लडक़ी की मां सुनीता बाई ने सगाई के लिए ५० हजार और शादी के समय एक लाख रुपए, गहने की मांग की। पुलिस ने बात तय हो जाने के बाद तत्काल घेराबंदी कर किरण, सुनीता बाई, मौसी चकेलीबाई और बिचौलिए वीरू शर्मा को गिरफ्तार किया। यहां से उन्हें न्यायालय में पेश किया गया। जहां से सभी को जेल भेज दिया गया।
अब तक कर चुकी है तीन शादियां
किरण की पहली शादी उदयपुर में तय हुई थी। दुल्हन की मां सुनीताबाई ने बताया कि वहां से किरण का तलाक कराया। वहां से भी ये रुपए और गहने लेकर आई थी। उसके बाद लडक़ी ने राजस्थान निवासी पुसाराम जाट से लव मैरिज की। लव मैरिज के कुछ दिन बाद लडक़ी वहां से अपनी मां के पास ठीकरी आ गई। उसके बाद उन्होंने पीथमपुर के दुर्गाशंकर के लडक़े महेन्द्र पंचाल को शिकार बनाया। पुलिस ने वीरु शर्मा, किरण पंवार, सुनीताबाई पंवार, चकेलीबाई मेहरा के कब्ज से मंगलसूत्र, नाक का कांटा, चांदी की एक जोड़ बिछिया और ४० हजार रुपए बरामद किए हैं।

रमेश वैद्य
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned