प्रदेश के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल का हाल, मासूम का शव बॉक्स में रखकर भूला स्टाफ

स्ट्रेचर पर रखे-रखे शव के कंकाल बनने के बाद अस्पताल की लापरवाही का एक और मामला, मर्चुरी रूम में बॉक्स में मिला मासूम का शव...

By: Shailendra Sharma

Published: 18 Sep 2020, 06:59 PM IST

इंदौर. लापरवाहियों के लिए सुर्खियों में रहने वाले मध्यप्रदेश के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल एमवाय में एक बार फिर मानवता को शर्मसार करने का मामला सामने आया है। इस बार अस्पताल प्रबंधन एक मासूम बच्चे के शव को मर्चुरी रूम में बॉक्स में रखने के बाद भूल गया। बीते एक हफ्ते में ये दूसरा मामला है जब अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही उजागर हुई है। इससे पहले मर्चुरी रूम में एक शव अंतिम संस्कार के इंतजार में स्ट्रेचर पर रखे-रखे कंकाल बन चुका है जिसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुई थीं और मानवाधिकार आयोग ने भी इस मामले पर संज्ञान लिया है।

 

my.jpg

जांच के दौरान एक और लापरवाही उजागर
मर्चुरी रूम में मासूम बच्चे का शव बॉक्स में रखे होने का खुलासा उस वक्त हुआ जब स्ट्रेटर पर रखे-रखे शव के कंकाल बनने की घटना की जांच करने के लिए अपर आयुक्त रजनी सिंह एमवाय अस्पताल के मर्चुरी रूम पहुंची थीं। जांच के दौरान ही जब मर्चुरी रूम के फ्रीजर देखे गए तो पास ही एक बॉक्स दिखाई दिया और जिसमें मासूम का शव रखा हुआ था। पता चला है कि जिस मासूम का शव बॉक्स में रखा मिला है उसकी मौत 5 दिन पहले इलाज के दौरान हुई थी। मासूम घायल हालत में 11 सितंबर को अलीराजपुर में लावारिस हालत में मिला था जिसे एक सोशल वर्कर ने इंदौर के एमवाय अस्पताल में भर्ती कराया था। इलाज के दौरान मासूम की 12 सितंबर को मौत हो गई लेकिन हैरान कर देने वाली बात ये है कि मासूम की मौत के बाद न तो उसके शव का पोस्टमार्टम किया गया और न ही पुलिस को इसके बारे में सूचना दी गई। अस्पताल के ही किसी कर्मचारी ने मासूम के शव को बॉक्स में रखकर मर्चुरी रूम में रख दिया और उसे रखकर भूल गया।

 

2_1600352242.jpg

अपर आयुक्त ने कही जांच की बात
मासूम बच्चे का शव बॉक्स में मिलने के बाद जब मीडिया ने अपर आयुक्त रजनी सिंह से सवाल किया तो उन्होंने बताया कि बच्चा अस्पताल में ही भर्ती था और बच्चे की मौत के बाद अस्पताल पुलिस को सूचना देना भूल गया। लापरवाही किसकी है और कौन इसके लिए जिम्मेदार है इसकी जांच की जाएगी और कमिश्नर को इसकी जांच रिपोर्ट भी सौंपी जाएगी। बता दें कि 15 सितंबर को अस्पताल की लापरवाही की एक और तस्वीर उस वक्त सामने आई थी जब अंतिम संस्कार में स्ट्रेचर पर रखे-रखे एक शव के कंकाल बन जाने की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई थीं। शव के कंकाल बनने की खबर मीडिया में आने के बाद मानवाधिकार आयोग ने मामले पर संज्ञान लिया है और जांच के निर्देश दिए हैं और उसी मामले की जांच के दौरान अब एमवाय अस्पताल स्टाफ की एक और लापरवाही उजागर हुई है।

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned