वुमन को मिले हथियार के अधिकार : पक्ष इससे अपराध बढ़ेंगे, कानून सख्त हो : विपक्ष

एमरल्ड हाइट्स में शुरू हुई तीन दिनी नेशनल कॉन्फ्रेंस इचएमयूएन में स्टूडेंट्स ने ग्लोबल समस्याओं पर की डिबेट

इंदौर . एमरल्ड हाइट्स स्कूल में तीन दिनी द एमरॉल्ड हाइट्स मॉडल यूनाइटेड नेशंस (ईएचएमयूएन) कॉन्फे्रंस की शुरुआत मंगलवार से हुई। पहले दिन देशभर के २१ स्कूल्स के ३०० स्टूडेंट्स ने पार्टिसिपेट किया। २६ अप्रैल तक चलने वाली इस कॉन्फ्रेंस में स्टूडेंट्स के विचारों को एकजुट किया जा रहा है ताकि ग्लोबल समस्या को सुलझाया जा सकें।

इसके लिए स्टूडेंट्स ने खासी तैयारी भी की। हर कोई अलग-अलग एजेंडे पर अपने विचार व्यक्त कर रहा था। इसके लिए ३०० स्टूडेंट्स की ६ कमेटियां बनाई गईं। इन सभी कमेटियों के हेड एमरल्ड स्कूल्स के स्टूडेंट्स हैं। हर कमेटी के डेलिगेट्स को दिए गए एजेंडा पर दमदार तरीके से अपना पक्ष रखना है। कॉन्फे्रंस की ओपनिंग सेरेमनी में कांग्रेस नेता जयवर्धन सिंह ने स्पीच भी दी। इस मौके पर स्कूल के डायरेक्टर सिद्धार्थ सिंह, सुवेग राठी और रघु परमार भी मौजूद थे।

ये कमेटियां बनाई गईं : यूनाइटेड सिक्योरिटी काउंसिल, डीआईएससीआई, यूनाईटेड ह्यूमन राइट काउंसिल, नॉर्थ अटलांटिका ट्रस्टी ऑर्गनाइजेशन, येएसएस और प्रेस क्रॉप।

Indore

चंद मिनट में हो जाए फैसला
कमेटी यूएनएचआर : चेयरपर्सन अथर्वी बैस
महिलाओं के अधिकारों और राइट टू डिजिटल प्रायवेसी पर बहस की। गल्र्स ने कहा कि अब समय आ गया है कि वुमन को अपनी सेफ्टी के लिए गन या कोई दूसरे हथियार देना चाहिए। अमरीका और अफ्रीकन कंट्री में बढ़ते अपराधों के कारण हर आम आदमी को हथियार रखने का कानून कर दिया था। दूसरे डेलिगेट्स ने इसे सिरे से नकार दिया और कहा कि अगर हमारे यहां भी हर कोई गन रखने लगेगा तो अपराध और बढ़ जाएंगे, जिन पर काबू पाना मुश्किल होगा। इससे अच्छा है कानून व्यवस्था और कड़ी की जाए। एेसे कानून बनें जिसमें लंबे केस नहीं बल्कि चंद मिनटों में फैसला हो।

Indore

अंतरराष्ट्रीय संबंध पर असर नहीं
कमेटी नाटो : चेयरपर्सन अमेय प्रताप सिंह
इनकी कमेटी ने नाटो, इजराइल और रूस के बीच संबंधों पर चर्चा की। डेलिगेट्स ने कहा कि अगर नाटो इजराइल की मदद करता है तो दूसरे देश ग्रुप से अलग हो सकते हैं। इजराइल के पक्ष में खड़े डेलिगेट्स ने कहा कि हम जो कर रहे हैं वो सही है। इससे अंतरराष्ट्रीय संबंधों पर कोई असर नहीं पड़ेगा। नाटो इजराइल से संबंध स्ट्रॉन्ग कर सकता है क्योंकि एक वक्त में इजराइल ने उसकी मदद की है। इजराइल के पक्ष में खड़े डेलिगेट्स ने कहा कि हम जो फिलिस्तीन के साथ कर रहे हैं वह सही है। संबंध बिगड़े तो रूस पर भी असर पड़ेगा।

Indore

अवैध प्रवासियों को बाहर करो
यूएस सेनेट : प्रेसीडेंट माधव पांड्या
कमेटी के ५२ मेंबर्स यूएस पार्लियामेंट में बहस कर रहे थे। इसमें सबसे गर्म मुद्दा मेक्सिकन बॉर्डर पर दीवार बनाने को लेकर था। रिपब्लिक और डेमोक्रेट्स आपस में बहस कर रही थी। इसके अलावा अवैध प्रवासियों पर भी चर्चा की गई। डेलिगेट्स ने कहा कि अमरीका में बाहरी व्यक्ति को आने की इजाज न दी जाए। अन्य ने विरोध किया। आखिर में लंबी बहस के बाद अमरीकी नीतियों में बदलाव की जरूरत पर एक राय बनी। साथ ही निर्णय हुआ कि अमरीका, मेक्सिको और सेनेट मिलाकर बॉर्डर दीवार का निर्माण कर सकते हैं। इससे घुसपैठियों पर रोक लगाई जा सकती है।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned