Breaking : अब कार से 12 घंटे में दिल्ली से पहुंच जाएंगे मुंबई, सीमलेस एक्सप्रेस वे से MP के भी ये शहर जुड़ेंगे

  • आइएमए के कॉन्क्लेव में आए केंद्रीय सडक़ परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने किया दावा
  • 1.03 लाख करोड़ की योजना पर शुरू हो गया काम

इंदौर. इंदौर मैनेजमेंट एसोसिएशन के कार्यक्रम में शनिवार को नौजवानों को प्रबंधन के गुर सिखाने आए केंद्रीय सडक़ परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने दावा किया कि हमने दिल्ली-मुबंई के लिए सीमलेस एक्सप्रेस-वे की योजना तैयार की है। इस एक्सप्रेस-वे से कार से दोनों महानगरों के बीच का सफर 12 घंटे में तय किया जा सकेगा। एक्सप्रेस-वे को इंदौर से भी जोड़ रहे है, इसके लिए मंदसौर जिले के गरोठ तक वाया उज्जैन फोरलेन सडक़ का निर्माण किया जाएगा। उन्होंने भारत की अर्थव्यवस्था को ५ ट्रिलियन डालर करने पर कहा कि पैसे की कमी नहीं है, राजनीतिक इच्छा शक्ति और त्वरित निर्णय लेने वाले अफसरों को तैनात करना होगा।

Breaking : अब कार से 12 घंटे में दिल्ली से पहुंच जाएंगे मुंबई, सीमलेस एक्सप्रेस वे से MP के भी ये शहर जुड़ेंगे

शनिवार को खेल प्रशाल में एसोसिएशन द्वारा आयोजित इंटरनेशनल कानक्लेव में वे संबोंधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भारत माला प्रोजेक्ट के तहत दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे पर काम तेजी से चल रहा है। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने 1.03 लाख करोड़ के इस प्रोजेक्ट को 2023 तक बनाने का लक्ष्य तय रखा है। इसके बन जाने के बाद राष्ट्रीय राजधानी से आर्थिक राजधानी के बीच का सफर वाहन से 12 घंटे का हो जाएगा।

वर्तमान में लगते हैं 24 से 30 घंटे

वर्तमान में 24 से 30 घंटे लगते हैं। यह एक्सप्रेस वे-6 राज्यों के पिछड़े और आदिवासी इलाकों से होकर गुजरेगा। दिल्ली में नोएडा के समीप से अलवर, कोटा, मंदसौर, झाबुआ, आलीराजपुर, सूरत, वडोदरा होते हुए मुंबई पहुंचेगा। इसे दो खंड में बना रहे हंै। पहला हिस्सा दिल्ली से वडोदरा 844 किमी और दूसरा हिस्सा वडोदरा से मुंबई 447 किमी है।

देश की अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर का रोडमेप तैयार

उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य आगामी 5 साल में देश की अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डालर करना है। इसके लिए प्रधानमंत्री ने पूरा रोडमेप तैयार कर लिया है। इस पर लगातार अभ्यास चल रहा है। देश में पैसे-संसाधन की कमी नहीं है। हमें तेजी से निर्णय लेने वाले अधिकारियों की जरूरत है, जिससे चुनौतियों से आसानी से निपटा जा सकें। देश के अफसरों को काम टालने की प्रवृत्ति छोडऩा पड़ेगी।

Show More
हुसैन अली Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned