पूरे लाव-लश्कर के साथ निकली अहिल्या माता की भव्य पालकी, झूमे भक्त

पूरे लाव-लश्कर के साथ निकली अहिल्या माता की भव्य पालकी, झूमे भक्त

Sudhir Pandit | Publish: Sep, 08 2018 11:11:44 PM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

- विशाल पालकी यात्रा से सम्पूर्ण क्षेत्र का माहौल आध्यात्मिक व धार्मिक हो उठा

इंदौर. देवी अहिल्याबाई की पालकी यात्रा शनिवार को उनकी 223वीं पुण्यतिथि पर परंपरागत रीति रिवाज एवं लाव लश्कर के साथ निकली। यात्रा में घोड़े पर सवार अहिल्या माता के वेश में कई युवती और महिलाएं शामिल हुई तो हर कोई देखता रह गया। हर कोई माता के दर्शन और उनके कुमकुम को लगाने के लिए उत्सुक दिखा।
यात्रा शुरू होने के पहले अहिल्या उत्सव समिति की अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने देवी की पूजा अर्चना की। इसके बाद पालकी यात्रा हैप्पी वांडरर्स सभागृह से नगर भ्रमण के लिए निकली। यात्रा के प्रारंभ में शहनाई वादक शहनाई की सुमधुर गूंज माहौल में रस घोल रही थी। इसके बाद सुसज्जित घोड़ों पर देवी अहिल्या बाई की महिला सेना आकर्षक वेशभूषा में मौजूद थी। लेजिम, झांझ और ढोल पार्टी अपने अलग अंदाज में इस पालकी यात्रा को उत्साह से ओतप्रोत कर रहे थे। नेपाली सांस्कृतिक परिषद, बंगाली समाज, केरल समाज के लोग अपनी परंपरागत वेशभूषा में इस पालकी यात्रा में शामिल होकर लघु भारत के स्वरूप का आभास करा रहे थे। सरदार लोगों की गतका पार्टी पालकी यात्रा का मुख्य आकर्षण था। सिख समुदाय के इस जत्थे ने अपने मनभावन प्रदर्शन से लोगों का दिल जीत लिया। लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन इस पालकी यात्रा में पैदल चल रही थी। उनके साथ नगर भाजपा के संगठन मंत्री जयपालसिंह चावड़ा, नगर अध्यक्ष गोपीकृष्ण नेमा, विधायक सुदर्शन गुप्ता, महेंद्र हार्डिया, उषा ठाकुर, सभापति अजयसिंह नरूका सहित कई पार्षद व शहर के कई गणमान्य नागरिक भी पालकी यात्रा की शोभा बढ़ा रहे थे। अहिल्या उत्सव समिति द्वारा गत 103 वर्षों से निकाली जा रही इस पालकी यात्रा के सुचारू संचालन के सूत्र देवी अहिल्या उत्सव समिति के कार्यकारी अध्यक्ष अशोक डागा, शंकर लालवानी, सुधीर देडग़े, कमलेश नाचन व अनिल भोजे जुटे हुए थे। पालकी यात्रा में शामिल अखाड़ों के उस्ताद अपने शिष्यों के साथ करतब दिखाते हुए चल रहे थे। साथ ही पालकी यात्रा में भजन मंडलियां भी शामिल होकर भजन गाते हुए चल रही थी। विभिन्न मंचों से पालकी यात्रा का भव्य स्वागत किया जा रहा था। पालकी यात्रा हैप्पी वांडर्स सभागृह से निकलकर चिमनबाग, जेल रोड, एमजी रोड, कृष्णपुरा छत्री, नंदलालपुरा, यशवंत रोड होते हुए रात को गोपाल मंदिर पहुंची। गोपाल मंदिर में देवी अहिल्या बाई की पूजा अर्चना की गई। भगवान की आरती संपन्न हुई तथा प्रसाद वितरण के साथ इस भव्य पालकी यात्रा का समापन हुआ।

-----------------
अहिल्याबाई को मप्र व महाराष्ट्र ही नहीं पूरे देश में पूजा इंदौर. लोक माता देवी अहिल्याबाई अपने कर्मों से केवल महाराष्ट्र व मध्य प्रदेश ही नहीं वरन संपूर्ण देश में पूजी जाती हैं। हम देश के किसी भी धर्मस्थल पर चले जाएं। देवी अहिल्या के किए हुए काम वहां उनकी स्मृति की चिरस्थायी बनाते हुए मिल जाएंगे।

शनिवार को यह बात देवी अहिल्या उत्सव समिति द्वारा आयोजित पुरस्कार वितरण समारोह में मुख्य अतिथि महाराष्ट्र सरकार के जल संसाधन मंत्री श्रीराम शिंदे ने कही। आपने कहा, महाराष्ट्र वालों को देवी अहिल्या बाई व लोक सभा स्पीकर सुमित्रा महाजन पर एक समान गर्व है, क्योंकि देवी अहिल्याबाई ने जिस तरह महाराष्ट्र में जन्म लेकर मध्य प्रदेश को अपना कर्म क्षेत्र बनाकर महाराष्ट्र का नाम ऊंचा किया, उसी तरह सुमित्रा महाजन भी महाराष्ट्र में जन्म लेकर मध्य प्रदेश में देवी अहिल्या के पवित्र विचारों को मन में रखकर काम कर रही है और आज लोक सभा स्पीकर के पद पर विराजित होकर सम्पूर्ण भारत में महाराष्ट्र व मध्य प्रदेश का नाम रोशन कर रही हैं। अध्यक्षता कर रही लोक सभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा कि आज अनूठा संयोग है कि देवी अहिल्या बाई इंदौर में आज उनका मायका और ससुराल दोनों उपस्थित है। समारोह में अहिल्याबाई होल्कर के परिवार के वंशज युवा यशवंतराव होलकर तृतीय (रिचर्ड होलकर के सुपुत्र) भी मुंबई से इंदौर आकर इसमें शामिल हुए। उन्होंने अपने संक्षिप्त संबोधन में कहा कि आज भी हमारा परिवार अहिल्याबाई का स्मरण करते हुए ही सभी कार्य करते हैं। समारोह को महाराष्ट्र सरकार के पशुपालन मंत्री महादेव जानकर ने भी संबोधित किया। सुबह माल्यार्पण के बाद इंद्रेश्वर महादेव व गोपाल मंदिर में अभिषेक किया।
गुणीजन सम्मान पारिख को

इस वर्ष का गुणीजन सम्मान मेडिकल की परीक्षा में सात गोल्ड मेडल हासिल करने वाली श्रीनी डॉ. अजय परीख को प्रदान किया। इस अवसर अहिल्या उत्सव समिति द्वारा आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजयी प्रतिभागियों को भी पुरस्कार प्रदान किए। नगर निगम तथा आईडीए द्वारा प्रतिवर्ष दी जाने वाली अनुदान राशि का चेक भी महापौर व आईडीए अध्यक्ष द्वारा सुमित्रा महाजन को प्रदान किए। मंच पर महापौर मालिनी गौड़, आईडीए अध्यक्ष शंकर लालवानी, अशोक डागा भी उपस्थित थे। स्वागत भाषण कार्यकारी अध्यक्ष अशोक डागा ने दिया। अतिथियों का शाल श्रीफल भेंटकर सम्मान सुधीर देडग़े, कमलेश नाचन, अनिल भोजे, रामस्वरूप मूंदड़ा, प्रतीक तागड़ ने किया। स्वागत पद्मा भोजे, ज्योति तोमर, सुरेश बंसल ने किया। संचालन विनीता धर्म व शरयू वाघमारे तथा आभार कमलेश नाचन ने माना।

 

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned