डायग्नोसिस सेंटर ने गलती से दूसरे मरीज की दे दी रिपोर्ट, न्यूरो सर्जन खोलने ही वाले थे सिर, तभी...

  • ऑपरेशन के ठीक पहले सामने आई हकीकत
  • डॉक्टर की सतर्कता से टला ऑपरेशन, वरना हो जाती अनहोनी
  • एमवायएच स्थित कृष्णा डायग्नोसिस सेंटर की लापरवाही

By: हुसैन अली

Published: 19 Mar 2020, 05:24 PM IST

इंदौर. एमवायएच में पिछले दिनों भर्ती मरीज की स्थिति पता करने के लिए डॉक्टर ने यहां पीपीपी मॉडल पर चल रहे डायग्नोसिस सेंटर में जांच करवाई। जांच रिपोर्ट में मरीज को सिर में गंभीर चोट बताई गई। डॉक्टर ने उसे ऑपरेशन के लिए तैयार रहने के लिए कहा। ऑपरेशन के ठीक पहले न्यूरो सर्जन ने रिपोर्ट को ध्यान से देखा तो पता चला, रिपोर्ट किसी और मरीज की है। गलत रिपोर्ट देने के मामले में डॉक्टर ने अस्पताल अधीक्षक को डायग्नोसिस सेंटर की शिकायत की है। अस्पताल प्रशासन ने इस संबंध में जांच करने वाले निजी सेंटर को नोटिस जारी किया है।

पल्हर नगर निवासी नबोकुमार अदक को एक्सीडेंट में सिर में गंभीर चोट लग गई थी। परिजन उसे एमवायएच लाए। उसे सर्जरी विभाग में भर्ती कर लिया गया। चूंकि मामला सिर की चोट का था, इसलिए इलाज के लिए न्यूरो सर्जरी विभाग के डॉक्टरों को बुलाया गया। न्यूरो सर्जन ने इलाज के साथ मरीज को सीटी स्कैन करवाने की सलाह दी। मरीज ने अस्पताल में ही पीपीपी मॉडल पर चल रहे कृष्णा डायग्नोसिस सेंटर में जांच करवाई। उसे जो जांच रिपोर्ट दी गई उसमें सिर की हड्डी टूटने सहित रक्त का थक्का जमना बताया गया। इस रिपोर्ट के आधार पर न्यूरो सर्जरी विभाग के डॉक्टरों ने जल्द ऑपरेशन की सख्त जरूरत बता दी।

न्यूरो सर्जन को हुई शंका

8 मार्च को मरीज का ऑपरेशन होना था। इसके पहले न्यूरो सर्जन डॉ. राकेश गुप्ता सर्जरी वार्ड में मरीज को देखने पहुंचे। उन्होंने मरीज और उसकी रिपोर्ट देखी तो उन्हें शंका हुई। रिपोर्ट के आधार पर जो समस्या बताई जा रही थी, उसके अनुसार उसमें लक्षण नहीं दिख रहे थे। उन्होंने रिपोर्ट को ध्यान से पढ़ा तो पता चला, उक्त रिपोर्ट किसी अन्य मरीज की थी। इस बीच ऑपरेशन के लिए मरीज का सिर भी मुंडवा दिया था।

तुरंत टाल दी सर्जरी

हकीकत सामने आते ही डॉ. गुप्ता ने ऑपरेशन टालकर मामले की जानकारी एमवायएच अधीक्षक को दी। डायग्नोसिस सेंटर के मैनेजर को फटकार लगाई। दरअसल, किसी भी मरीज की जांच रिपोर्ट काफी संवेदनशील होती है। डॉक्टरों का पूरा उपचार मरीज की जांच रिपोर्ट पर आधारित होता है। एेसे में डायग्नोसिस सेंटर की लापरवाही से मरीज की जान पर आ सकती है।

मरीज को डायग्नोसिस सेंटर द्वारा गलत जांच रिपोर्ट दे दी गई थी। मामले में हमने अधीक्षक को तुरंत जानकारी दे दी थी।

-डॉ. राकेश गुप्ता, न्यूरो सर्जन, एमवायएच

मेरे पास इस संबंध में शिकायत आई थी। हमने डायग्नोसिस सेंटर को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

-डॉ. पीएस ठाकुर, अधीक्षक, एमवायएच

मुझे एेसे किसी मामले की जानकारी नहीं है। हमारे पर एमवायएच प्रबंधन की ओर से कोई नोटिस नहीं आया है।

- नरेश तन्ना, मैनेजर, कृष्णा डायग्नोसिस सेंटर

हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned