जिनके नाम पर अस्पताल उन्हीं को भूले श्रीमान

जिनके नाम पर अस्पताल उन्हीं को भूले श्रीमान

Lakhan Sharma | Publish: Sep, 11 2018 11:14:02 AM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

- जिला अस्पताल में भारत रत्न पंडित पंत की जयंती पर नहीं हुआ कोई कार्यक्रम, माला भी नहीं चडाई

 

इंदौर।

भारत रत्न देश के पूर्व गृहमंत्री, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और स्वतंत्रता संग्राम सेनानी पंडित गोविंद वल्लभ पंत की कल जयंती थी। पंडित पंत के नाम पर हमारे इंदौर का जिला अस्पताल है लेकिन ताज्जुब की बात है कि यहां के जिम्मेदार उनकी जयंती ही भूल गए। जयंती के अवसर पर जिला अस्पताल में कार्यक्रम करना तो दूर जिम्मेदारों ने उनकी तस्वीर पर एक माला चढ़ाना भी उचित नहीं समझा । जिससे अधिकारियों की लापरवाही सामने आई है। गौरतलब है कि पेशे से वकील रहे पंडित पंत देश के गृहमंत्री उत्तर प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री रहे हैं । वह स्वतंत्रता संग्राम सेनानी होने के साथ ही भारत रत्न के खिताब से भी नवाजी जा चुके हैं । इसके बावजूद जिला अस्पताल के प्रभारी और सिविल सर्जन डॉ एम पी शर्मा उनकी जयंती को नजरअंदाज कर दिया । इसके चलते अब शहर भर में सिविल सर्जन की थू थू हो रही है।

- राजनेताओं के भरोसे रहते हैं अधिकारी

गौरतलब है कि शासकीय विभागों के जिम्मेदार ऐसे कार्यक्रमों में हमेशा राजनेताओं के भरोसे रहते हैं । इसके चलते हुए खुद कभी इसका ध्यान नहीं रखते ना ही अपने कार्यक्रमों में इस को शामिल करते हैं । क्योंकि हमेशा से ऐसा होता आया है या तो सत्ताधारी पार्टी के नेता अपने नेताओं की जयंती और पुण्यतिथि मनाते आए हैं तो विपक्ष में रहने वाले नेता उनकी पार्टी के नेताओं की पुंयतिथि को जन्मदिन मनाते हैं । खासबात रही कि कांग्रेस नेताओं ने भी इसका ध्यान नही दिया और एक भी कांग्रेसी नेता इनकी तस्वीर पर माला चढ़ाने नहीं पहुंचा। जबकि पंत भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के बड़ें नेताओं में गिने जाते हैं। 1957 में ही उन्हें भारत रत्न के सम्मान से नवाजा जा चुका है।

- गलत है, एसा नही होना चाहिए

इस संबंध में जिले के प्रमुख और स्वास्थ्य विभाग के मुख्य सीएमएचओ डॉ एच एन नायक से बात की गई तो कहना है कि यह सिविल सर्जन को ध्यान रखना था। अगर एसा हुआ है तो यह बड़ी लापरवाही है। जिसके नाम पर अस्पताल उनका हमेशा सम्मान होना चाहिए, मैं इस संबंध में उनसे बात करूंगा कि एसा क्यों हुआ।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned