किशोरी नहीं बता रही ड्रग्स की लत लगाने वालों की जानकारी

- बाल कल्याण समिति करवाएगी कॉउसलिंग

किशोरी नहीं बता रही ड्रग्स की लत लगाने वालों की जानकारी
- बाल कल्याण समिति करवाएगी कॉउसलिंग
- ६ महीने से थी नशे की लत का शिकार

इंदौर. घर से भागकर नशे की लत का शिकार हुई किशोरी अपने दोस्तों की जानकारी नहीं दे रही है। वह अब भी उन्हीं लोगों के साथ रहने व नशा करने की जिद कर रही है। छह महीने से किशोरी नशा कर रही थी। दोस्तों के साथ नहीं जाने देने पर परिवार के लोगों को आत्महत्या कर लेने की धमकी भी वह देती रही।

परदेशीपुरा इलाके से घर से भागकर नशे की लत का शिकार हुई किशोरी की कॉउंसलिंग बाल कल्याण समिति कराएगी। मामला सामने आने के बाद उन्होंने पुलिस से संपर्क कर किशोरी की जानकारी ली। परिवार से बात कर उन्हें किशोरी को लेकर शुक्रवार को बुलाया है। फिलहाल किशोरी पुलिस व परिवार को कोई जानकारी नहीं दे रही है। बयान में परिवार ने बताया करीब एक साल पहले बेटी की दोस्ती उसकी उम्र की दो लड़कियों से हुई थी। इसी के बाद वह उनसे मिलने लगी। बाद में तो अक्सर स्कूल के बहाने घर से निकलकर उनके साथ बेटी रहती। छह महीने पहले उसे नशे की लत लगी। वह सिगरेट पीने लगी तो परिवार ने उसे डांटा। तब वह कहने लगी कि मैं अगर नशा नहीं करूंगी तो वे लोग मुझे व पूरे परिवार को मार डालेंगे। उनकी गैंग बहुत बड़ी है। एक बार पहले भी दो दिन के लिए वह घर से बिना बताए चली गई थी। नशा नहीं मिलने पर वह घर में विवाद करने लगती। हरकतें जब काफी बढ़ गई तो परिवार ने पुलिस में शिकायत की।
मोबाइल से बिगड़ी संगत

किशोरी ने परिवार से मोबाइल के लिए जिद की। पहले मना किया बाद में परिवार ने मोबाइल दिला दिया। इसी पर दिनभर वह फेसबुक पर चेटिंग करती रही। माता-पिता दोनों दुकान संभालते थे तो ध्यान नहीं दे पाए। इसी दौरान व दो लड़कियों के संपर्क में आई। एक के बारे में पता चला है कि उसके घर कई युवाओं का आना है। वह नशा सप्लाए करती है। उसके परिवार के लोग भी इन सबसे काफी परेशान हैं। उसी ने कुछ हमउम्र लडक़ों से किशोरी की दोस्ती करवाई। परिवार को लगता है कि किशोरी को मोबाइल नहीं देते तो आज ये हालत नहीं होती।
दोस्तों की जानकारी ले रहे

टीआई राजीव त्रिपाठी ने बताया बाल कल्याण समिति के जरिए कॉउसलिंग करवा कर दोस्तों की जानकारी ले रहे हैं। समिति के निर्देश पर मामले में आगे कार्रवाई होगी। नशे की लत लगाने व नशा सप्लाए करने वाले दोस्तों की धरपकड़ की जाएगी। नाबालिग दोस्तों के परिवार को बुलाकर समझाइश देंगे।

००००

०००सबमिट/ गुरु०००

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned