पालक सडक़ पर उतरे ताकि अब और कोई अपने बच्चों को न खोए

amit mandloi

Publish: Jan, 14 2018 06:48:43 PM (IST) | Updated: Jan, 14 2018 06:50:48 PM (IST)

Indore, Madhya Pradesh, India
पालक सडक़ पर उतरे ताकि अब और कोई अपने बच्चों को न खोए

डीपीएस हादसे से आहत, 3500 से अधिक अभिभावकों ने अपने बच्चों की सुरक्षा के लिए हस्ताक्षर अभियान में हिस्सा लिया

इंदौर. डीपीएस स्कूल बस सडक़ हादसे में अपने बच्चों को खो चुके पालक अब शहर के अन्य स्कूली बच्चों के लिए चिंतिंत हैं। जो उनके बच्चों के साथ हुआ, वैसा हादसा अब शहर में न हो, इसलिए आज सैकड़ों पालक रीगल तिराहे पर एकजुट हुए और अपनी मंागों को लेकर सत्याग्रह की शुरुआत की। शोकसभा कर बच्चों को श्रद्धांजलि भी दी गई।
आभा चैतन्य वेलफेयर सोसाइटी द्वारा दिनभर का उपवास कर सत्याग्रह किया जा रहा है। आने-जाने वाले लोगों से हस्ताक्षर लिए जा रहे हैं। सोसाइटी के मनीष गुप्ता ने बताया कि अभी तक ३५०० से अधिक अभिभावकों ने अपने बच्चों की सुरक्षा के लिए हस्ताक्षर अभियान में हिस्सा लिया और शोकसभा में शामिल होकर मृत बच्चों को श्रद्धांजलि दी। इस सत्याग्रह में वे अभिभावक भी हैं, जिन्होंने हादसे में अपने बच्चों को खो दिया। आज जितने भी हस्ताक्षर होंगे, उन्हें मांगों के साथ मुख्यमंत्री को भेजा जाएगा।

यह है मांगें
स्कूल संचालक, प्रिंसिपल, जिम्मेदार आरटीओ अधिकारी आदि पर गैरइरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज कर गिफ्तार करें।
इंदौर के बायपास की सर्विस लेन में कई जगह तकनीकी खामियां हैं, जिससे एक्सीडेंट होते हंै, इसे शीघ्र दूर किया जाए।
सर्वोच्च न्यायालय के स्कूल बसों को जारी किए दिशा-निर्देश का सख्ती से पालन करवाया जाए। स्कूल बसों की अधिकतम आयु १० वर्ष की जाए।
उच्च स्तरीय न्यायिक जांच एवं प्रभावित परिवारों एवं ड्राइवर आदि को उचित मुआवजा दिया जाए।
स्कूल बसों के जीपीएस और स्पीड लिमिट डिवाइस को ट्रैफिक पुलिस कंट्रोल रूम से लिंक किया जाए।
स्कूल बसों के पीेछे स्कूल प्रबंधन के साथ पुलिस प्रशासन का नंबर भी लिखवाया जाए।
स्कूली वाहनों के संचालकों से सुरक्षा एवं नियमों के पालन का शपथ पत्र लिया जाए।
स्कूली वाहन चालकों और सह चालकों का चरित्र प्रमाणमत्र लिया जाए और स्वास्थ्य परीक्षण भी किया जाए।
स्कूली वाहन चालक व सहचालकों के लिए नियमित प्रशिक्षण शिविर लगाए जाएं।
बीआरटीएस कॉरिडोर से स्कूली वाहनों का परिवहन शुरू किया जाए।
स्कूल बस हादसे में जिन घायलों का इलाज बॉम्बे हॉस्पिटल व अन्य में चल रहा है, उनके स्वास्थ्य के संबंध में दैनिक प्रेस नोट जारी किया जाए।


स्कूल बस के ड्राइवर-कंडक्टर को दी सीख
डीपीएस बस हादसे को देखते हुए कल एक वर्कशॉप आयोजित की गई। डीआरपी लाइन पर इस कार्यक्रम में स्कूल वाहनों के ड्राइवर, कंडक्टर और मेंटेनेंस देखने वालों को बुलाया गया। डीआईजी हरिनारायण चारी मिश्र भी उपस्थित थे। इस दौरान इन सभी को बताया गया कि स्कूली वाहनों में किन बातों का ध्यान रखें। सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन के साथ ही दूसरे नियम कायदे के बारे में बताया गया।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

1
Ad Block is Banned