डीपीएस बस हादसा : बसें बंद करने की धमकी देने वाले स्कूलों के खिलाफ एफआईआर की मांग

Arjun Richhariya

Publish: Feb, 15 2018 04:31:19 PM (IST)

Indore, Madhya Pradesh, India
डीपीएस बस हादसा : बसें बंद करने की धमकी देने वाले स्कूलों के खिलाफ एफआईआर की मांग

प्रिंसिपल सोनार को बचाने के लिए शहर के अन्य स्कूलों ने भी मुहिम तेज़ करदी है ...

इंदौर. डीपीएस बस हादसे को एक महीना पूरा हो गया है और अभी तक दोषियों को सज़ा नहीं मिली है। हादसे में मारे गए बच्चों के परिजन अभी भी इस आस में है कि कानून उनके दोश्यिों को जल्द से जल्द कड़ी सज़ा देगा। इसी के चलते परिजन लगातार थाने से लेकर कोर्ट तक के चक्कार काट रहे हैं। परिजन की इसी सक्रियता के चलते पिछले शनिवार पुलिस ने डीपीएस के प्रिंसिपल सुदर्शन सोनार को गिरफ्तार करके जेल भेजा। वहीं दूसरी ओर प्रिंसिपल सोनार को बचाने के लिए शहर के अन्य स्कूलों ने भी मुहिम तेज़ कर दी है। स्कूलों ने कहा है कि यदि सोनार को जल्द नहीं छोड़ा गया तो वे अपने स्कूलों की बसें भी बंद कर देंगें।

धमकी देने वाले स्कूलों पर भड़के लोग
गुरूवार को पालक संघ ने डीआईजी आॅफिस का घेराव किया और बसें बंद करने वाले स्कूलों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। पालक संघ के साथ पहुंचे लोगों ने डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र से कहा कि धमकी देने वाले स्कूलों के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज होना चाहिए। इस मौके पर उन्होंने पुलिस द्वारा सहयोग न मिलने की बात भी उठाई और कहा कि प्रशासन सोनार को बचाने में लगा है

सोनार का दूसरा दिन भी जेल में बेचैनी में गुजरा
डीपीएस प्रिंसिपल सुदर्शन सोनार का जेल में दूसरा दिन भी बेचैनी में गुजरा। महाशिवरात्रि की छुट्टी के चलते जेल पर न तो किसी से मुलाकात हुई न उनका मेडिकल टेस्ट हो सका। टेस्ट के बाद उनका बैरक भी बदल सकता है।
सोनार दूसरे दिन मंगलवार को गुमसुम बैठे रहे। पत्नी से मुलाकात हुई तो थोड़ा सामान्य रहे। बुधवार को महाशिवरात्रि की छुट्टी के चलते कोई उनसे नहीं मिल सका। बताते हैं, बुधवार को सोनार का मेडिकल टेस्ट भी होने वाला था। इसके जरिए उनकी बीमारी पता की जाना है। जेल में आने के बाद से वे डिप्रेशन में हैं।

इसके चलते बैरक बदलकर उन्हें निगरानी में रखा जाना है। मेडिकल टीम के सीओ भी उन पर निगरानी रखेंगे। बताते हैं, मंगलवार रात उन्हें दाल-रोटी, जबकि बुधवार सुबह दलिया दिया गया। मंगलवार को मिलने पत्नी व भाई ने कुछ कपड़े उन्हें दिए। फिलहाल कोर्ट ने आगामी तारीख पर सुनवाई तक सोनार को जेल में रहने के निर्देश दिए हैं। उन्हें बैरक नंबर एक में रखा गया है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned