बेटी के विवाह के मुहूर्त ने ले ली पिता की जान

बेटी के विवाह के मुहूर्त ने ले ली पिता की जान

Hussain Ali | Publish: Apr, 24 2019 04:11:01 PM (IST) | Updated: Apr, 24 2019 04:11:02 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

बेटी के विवाह के मुहूर्त ने ली पिता की जान

इंदौर. प्रेमचंद की कालजयी रचना सद्गति रचनाधर्मियों को आकर्षित करती रही है। अस्सी के दशक में सत्यजीत रे ने भी इस कहानी पर फिल्म बनाई थी। सद्गति पर आधारित नाटक मंगलवार की शाम अभिनव कला समाज में चल रहे नाट्यकुंभ मंे मंचित किया गया। इसे पुष्पलता सांगड़े के निर्देशन में भोपाल की तृषा लोकनाट््य समिति के कलाकारों ने पेश किया। नाट्यकुंभ मंे यह अब तक की श्रेष्ठ प्रस्तुति साबित हुई।

नाटक की कहानी इतनी है कि नीची जाति का दुखिया अपनी बेटी के विवाह का मुहूर्त निकलवाने के लिए पंडित के घर जाता है। पंडित जी मुहूर्त देखने के बदले में दुखिया से बहुत सारे काम करवाते हैं। वे दुखिया को खलिहान से भूसा लेकर आने, घास काटने, आंगन गोबर से लीपने के काम के बाद लकड़ी काटने का भी हुक्म देते हैं। दुखिया दो दिन से बुखार में है और सुबह से भूखा भी है। पंडित के घर में उसे पानी तक नहीं मिलता। थके और बीमार दुखिया को लकड़ी काटते शाम हो जाती है और आखिरकार दुखिया लकड़ी काटते काटते मर जाता है। घबराया हुआ पंडित दुखिया की लाश को ठिकाने लगाने के लिए उसके पैर में रस्सी बांध कर घसीटता हुआ जंगल में फेंक आता है। निर्देशक पुष्पलता सांगड़े ने बेहद कल्पनाशीलता के साथ नाटक तैयार किया। अभिनव कला समाज का मंच छोटा होने से नाटक का ज्यादातर हिस्सा मंच के नीचे खेला गया। हालांकि इससे पीछे वाले दर्शकों को खड़े रह कर देखना पड़ा। दुखिया के घर से लेकर पंडित के घर तक के दृश्य बेहद सूझबूझ से तैयार किए गए थे। संवाद बुंदेलखंडी में थे और सभी कलाकारों ने बुंदेली का उच्चारण इतनी सहजता से किया जैसे वही उनकी मातृभाषा हो।

marriage

अभिनय को मिली दाद

दुखिया के रूप में जैकी भावसार का अभिनय श्रेष्ठतम था। उसका पत्नी के साथ हंसी मजाक हो या पंडित के सामने सहमना, थकान से लड़खड़ाना और आंखों में बेबसी के भाव उनके अभिनय को बहुत ऊंचाई पर ले गए। पंडित की भूमिका में शोभित खरे का अभिनय भी गजब का था। उनका वाचिक ही नहीं आंगिक अभिनय भी ब्राह्मण होने के गर्व को जाहिर कर रहा था। पंडिताइन के रूप में भारती मजूमदार और दुखिया की पत्नी बनी विभा परमार का अभिनय भी उनके पात्रों के अनुरूप था। देखा जाए तो सभी कलाकार मंच पर इस तरह मौजूद रहे कि महसूस ही नहीं हुआ कि वे अभिनय कर रहे हैं। नाटक समाज से जुड़े कई सार्थक संदेश देकर गया।

drama

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned