विस चुनाव : ताई-भाई की खींचतान, नहीं मिली इंदौर को मंत्री की कुर्सी

विस चुनाव : ताई-भाई की खींचतान, नहीं मिली इंदौर को मंत्री की कुर्सी

Amit S. Mandloi | Publish: Sep, 07 2018 11:32:22 AM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

नेताओं के वर्चस्व की चाह में उलझा इंदौर संभाग, भाजपा-कांग्रेस दोनों में है गुटबाजी

नितेश पाल. इंदौर. विधानसभा में दूसरा सबसे ज्यादा 37 सीटों वाला इंदौर संभाग प्रदेश का भविष्य तय करता है। यहां वर्चस्व रखने वाली पार्टी की प्रदेश में सरकार तय करने में अहम भूमिका रहती है, लेकिन दोनों प्रमुख राजनीतिक दलों के बड़े नेताओं की आपसी खींचतान के चलते ये क्षेत्र दोनों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। भाजपा के तो यह हाल है कि इंदौर जिले को ताई-सुमित्रा महाजन और भाई-कैलाश विजयवर्गीय की आपसी खींचतान के कारण मंत्री का एक भी पद लंबे समय से शिवराज कैबिनेट में नहीं मिला।

इंदौर : टिकट के समय साफ दिखता है मतभेद

इंदौर की नौ सीटों पर सुमित्रा महाजन और कैलाश विजयवर्गीय के साथ ही भाजपा के बड़े नेताओं का दखल रहता है। 2013 में सुमित्रा महाजन इंदौर-1 और सांवेर से अपने समर्थक सुदर्शन गुप्ता और राजेश सोनकर को टिकट दिलवाने कामयाब रही थीं। वहीं, विजयवर्गीय ने उषा ठाकुर, रमेश मेंदोला और जीतू जिराती को टिकट दिलाया था। इंदौर में तीसरी ताकत महापौर मालिनी गौड़ की है। वे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की करीबी मानी जाती हैं। उधर, कांग्रेस के भले ही एक विधायक है, लेकिन पार्टी में मतभेद भाजपा से कम नहीं है। कांग्रेस मीडिया सेल अध्यक्ष शोभा ओझा, राष्ट्रीय सचिव सज्जन सिंह वर्मा, वरिष्ठ नेता महेश जोशी सहित कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी, उपाध्यक्ष तुलसी सिलावट में खींचतान की खबरंे आती रहती हैं। चल रही है। शहर और जिला संगठन ही नहीं खड़ा हो पाया है।

झाबुआ आलीराजपुर : भूरिया-भूरिया के बीच तनातनी

यहां की राजनीति दो भूरिया परिवारों के बीच ही रही है। कांग्रेस में कांतिलाल भूरिया का परिवार राजनीति करता रहा है। भाजपा से दिलीप सिंह भूरिया नेतृत्व करते रहे थे। दिलीप की मृत्यु के बाद उनकी बेटी निर्मला भूरिया बड़ी नेता के तौर पर उभरी हैं, लेकिन रतलाम-झाबुआ लोकसभा उपचुनाव में हार के बाद उनका ग्राफ गिरा है। यहां पर सबसे ज्यादा झगड़े कांग्रेस के अंदर चलते रहे हैं। पिछले चुनावों में जहां कांतिलाल के परिवार में बगावत हो गई थी। कलावती भूरिया निर्दलीय चुनाव लड़ी थीं। वहीं, दिलीप के न रहने पर भाजपा को भी दिक्कत आ रही है।

धार : विक्रम और रंजना के बीच अदावत

भाजपा के वरिष्ठ नेता विक्रम वर्मा और पूर्व मंत्री रंजना बघेल में आपसी अदावत काफी ज्यादा है। धार में सांसद सावित्री ठाकुर भी इस बार विधानसभा चुनाव लडऩा चाहती हैं। कांग्रेस में भी खींचतान कम नहीं है। जिलाध्यक्ष बालमुकुंद सिंह गौतम, विधायक उमंग सिंघार और हनी बघेल के अपने-अपने इलाके तय हैं, जिनमें आपसी वर्चस्व को लेकर लड़ाई लगातार जारी है। वहीं, आदिवासी सीटों वाले इस जिले में आदिवासी संगठन जयस गहरी पैठ बना चुका है।

खंडवा-बुरहानपुर : यहां भी बगावत के सुर

पूर्वी निमाड़ के ये दोनों जिले भाजपा की राजनीति में त्रिकोणीय संघर्ष के लिए जाने जाते हैं। सांसद और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान, मंत्री विजय शाह और अर्चना चिटनीस के बीच में वर्चस्व को लेकर झगड़े चलते रहे हैं। यहां आपसी रार इतनी ज्यादा रही है कि पिछले चुनावों में चौहान के चलते शाह ने बगावत करने की धमकी तक दी थी। चिटनीस और नंदकुमार का विवाद जगजाहिर है। कांग्रेस में भी यहां पहले तनवंतसिंह कीर व शिवकुमार सिंह ठाकुर में ठनी रहती थी।

बड़वानी-खरगोन कांग्रेस में खुद को बड़ा बताने की होड़

दोनों आदिवासी जिलों में राजनीतिक विवाद गहरे हैं। यहां से दो मंत्री अंतरसिंह आर्य और बालकृष्ण पाटीदार हैं। भाजपा सांसद सुभाष पटेल और पाटीदार समाज का नेतृत्व करने वाले बालकृष्ण पाटीदार के बीच उलझनें हैं। वहीं, बाबूलाल महाजन भी यहां प्रमुख ताकत हैं। चुनावों में उम्मीदवारी के लिए उन्होंने जिलाध्यक्ष का पद तक छोड़ा था। कांग्रेस में भी यहां सबकुछ ठीक नहीं है। पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव के साथ ही वर्तमान कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष बाला बच्चन सहित विजयलक्ष्मी साधौ लगातार अपना वर्चस्व जताने की कोशिश करते रहते हैं। यादव जहां पिछड़ा वर्ग और किसानों की राजनीति करते हैं, वहीं बच्चन आदिवासियों के नेता के तौर पर ताकत दिखाते हैं। पार्टी में पदों का मामला हो या टिकटों का दोनों अपने-अपने तरीके से खुद को बड़ा बताने की कोशिश करते रहे हैं।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned