पूर्व लोकसभा अध्यक्ष बोली - जो भी नियुक्ति करो, पहले हमसे राय तो लो

पूर्व लोकसभा अध्यक्ष बोली - जो भी नियुक्ति करो, पहले हमसे राय तो लो

Mohit Panchal | Publish: Aug, 08 2019 10:58:31 AM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

पूर्व लोकसभा अध्यक्ष महाजन ने लिखा राष्ट्रीय अध्यक्ष को पत्र

इंदौर। मोदी सरकार के पिछले कार्यकाल में कई ऐसी नियुक्तियां हुर्इं थीं, जिसकी इंदौर के नेताओं को भनक तक नहीं लगी। इस बार ऐसा न हो, जिसके लिए पूर्व लोकसभा स्पीकर ने राष्ट्रीय अध्यक्ष को एक पत्र लिखा है। कहा कि नियुक्ति करने से पहले एक बार स्थानीय संगठन से जरूर पूछा जाना चाहिए, वरिष्ठों की भी राय ली जाए।

केंद्र सरकार में दर्जनों ऐसे विभाग हैं, जिनमें राजनीतिक नियुक्तियां होती हैं। पिछली मोदी की सरकार में इंदौर के कुछ नेताओं को उपकृत किया गया। बड़ी बात ये है कि उनमें से कुछ का भाजपा से पूर्व में कभी ताल्लुक नहीं रहा।

मंत्री ने अपनी पसंद से नियुक्ति कर दी। जब व्यक्ति पोस्ट लेकर आ गए तब स्थानीय संगठन और वरिष्ठ नेताओं को मालूम पड़ा कि उनकी नियुक्तियां हो गई हैंं। ऐसे में वर्षों से संगठन के लिए काम कर रहे नेता खुद को ठगा सा महसूस कर रहे थे।

इस बार ऐसा नहीं हो, जिसके लिए पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन (ताई) ने राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा को हाल ही में एक पत्र लिखा है। कहा है कि सरकार में जो भी नियुक्ति हो, उससे पहले स्थानीय संगठन से नाम मांगें या उसके संबंध में राय लें।

महिलाओं के लिए जिस नेता ने काम किया, उससे महिला आयोग में नियुक्ति पर चर्चा करे। वैसे ही अजा, अजजा वर्ग के लिए भी उसके नेताओं से बात करें। ऐसा करने से सरकार के विभाग में कार्यकर्ता प्रामाणिकता से काम करेगा और संगठन को मजबूती मिलेगी।

डॉ. शर्मा का भी रखा नाम
राष्ट्रीय अध्यक्ष को पत्र लिखने का खुलासा ताई ने तीन दिन पहले दीनदयाल भवन में नगर भाजपा अध्यक्ष गोपी नेमा सहित कुछ प्रमुख नेताओं के सामने किया। उन्होंने यहां तक बताया कि महिला आयोग के लिए मैंने तो डॉ. उमाशशि शर्मा का उदाहरण दिया। महापौर रहते हुए खूब काम किया और बाद में भी काफी सक्रिय हैं। ऐसे लोगों को उपकृत किया जाना चाहिए। इस पर नेमा ने चुटकी लेते हुए बोल दिया था कि ताई मैं भी तो बहुत सालों से बैठा हुआ हूं।

'कलाकार' ले आए थे पद
पिछली सरकार में इंदौर से करीब एक दर्जन नेताओं की अलग-अलग विभागों में नियुक्ति हुई थी, जिसमें से कुछ का भाजपा की सक्रिय राजनीति से कोई लेना-देना नहीं था। उन्होंने विभाग के मंत्री से अच्छे संबंध व रिश्तेदारी का फायदा उठाया।

उनकी नियुक्ति के बाद कुछ नेताओं ने सवाल भी खड़े किए थे। संगठन को यहां तक शिकायत की थी कि पार्टी लाइजनरों को पद बांट रही है। इस बार कुछ नेता धार लगाकर बैठे हैं, ऐसी नियुक्ति होने पर सीधे पीएम को ट्वीट करके शिकायत करेंगे।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned