फर्जी आयकर अफसर फिर रिमांड पर, फर्जी लेटर हेड से बनवाता था विभाग की सील

फर्जी आयकर अफसर फिर रिमांड पर, फर्जी लेटर हेड से बनवाता था विभाग की सील
fake officer

Krishnapal Singh Chauhan | Publish: Apr, 29 2019 07:01:03 AM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

राजेंद्र नगर थाना क्षेत्र का मामला, मास्टरमाइंड से आयकर विभाग के दो इंस्पेक्टर ने करीब एक घंटे की पूछताछ

 

फिल्म स्पेशल 26 के तर्ज पर फर्जी आयकर विभाग संचालित करने वाले आरोपी को पुलिस ने फिर से रिमांड पर लिया है। वहीं आयकर विभाग के इंस्पेक्टर भी उससे फर्जीवाड़े के संबंध में कई अहम सवाल पूछ चुके है। जिसमें उसके द्वारा फर्जी लेटर हेड से विभाग की सील अर्जित करना कबूला है। आयकर विभाग ने उससे मिली जानकारी के आधार पर अपनी जांच शुरू कर दी है।

टीआई सुनील शर्मा के मुताबिक सिलिकॉन सिटी में फर्जी आयकर विभाग संचालित करने में पकड़ाए मास्टरमाइंड आरोपी देवेंद्र डाबर निवासी भील कॉलोनी, सुनील मंडलोई, रवि सोलंकी, दुर्गेश गेहलोत, सतीश गावड़े को रिमांड खत्म होने पर रविवार को कोर्ट में पेश किया है। मामले में कई अहम बिंदु पर जांच होना शेष है। इसके लिए मास्टरमाइंड देवेंद्र को फिर से दो दिन की रिमांड पर लिया है। वहीं उसके साथियों को कोर्ट ने जेल भेजा है। पुलिस सूत्रों की माने तो शनिवार को आयकर विभाग के दो इंस्पेक्टर राजेंद्र नगर थाने आरोपी देवेंद्र व अन्य से पूछताछ करने पहुंचे। इंस्पेक्टर ने देवेंद्र से एक घंटे से अधिक लगातार पूछताछ की। जिसमें वह किस तरह फर्जी आयकर विभाग संचालित कर रहा था जैसे सवाल पूछे गए। देवेंद्र से जब अफसरों ने पूछा की वह किस हिसाब से धाराओं का इस्तेमाल करता। तो वह सकपका गया, कहने लगा कि उसने बाजार से आयकर विभाग से संबंधित पुस्तक खरीदी। उसका प्रयोग कर वह फर्जी कार्रवाई के दौरान मनगढ़त धाराओं लगा देता। फिर अधिकारियों ने उससे पूछा कि वह विभाग में चलने वाली हुबहु सील कहां से लाया है। उसे यह सील किस परमीशन पर मिली है। तब देवेंद्र ने खुलासा किया कि उसने विभाग के नाम का नकली लेटर बनाया जो हुबहु असली जैसा दिखता है। उसी का इस्तेमाल कर उसने शहर की एक दुकान से आयकर विभाग में इस्तेमाल होने वाली सील प्राप्त की। लंबी पूछताछ के बाद अधिकारियों ने उसके हस्ताक्षर के नमूने भी लिए। वहीं फर्जी विभाग संचालित करते हुए आरोपी ने कई स्थान पर ट्रेनिंग सेंटर संचालित किए। जिसमें मांडू व धार के कई स्थानों का उसने जिक्र किया। तब इंस्पेक्टर ने उक्त स्थान पर पहुंच जांच करने के निर्देष दिया है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned