फर्जी टीआई बनकर कोर्ट, पुलिस और पंचायत में नौकरी का झांसा देकर वसूले हजारों रुपए

टीआई बनकर ठगने वाला धराया

इंदौर@ न्यूज टुडे. एक बदमाश टीआई की वर्दी पहनकर लोगों को ठगता रहा। उसने कोर्ट, पुलिस और पंचायत में नौकरी दिलाने के नाम पर लोगों से रुपए वसूले और ठगी की। कल शिकायत मिली तो पुलिस ने पकडक़र कर उसके खिलाफ धोखाधड़ी की कार्रवाई की।

अलीराजपुर जिले में सोंडवा पुलिस ने कल शाम मुकामसिंह (२५) निवासी सुमन्यावट की शिकायत पर आरोपी केशरसिंह निवासी बड़वानी को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ धारा ४२० व १७१ के तहत कार्रवाई की है। पीडि़त मुकामसिंह ने पुलिस को बताया कि आरोपी १० जनवरी को थानेदार की वर्दी पहने मिला था। उसने खुद को बड़वानी थाने का टीआई बताते हुए उसको कोर्ट में चपरासी की नौकरी दिलवाने के नाम पर ३५ हजार रुपए लिए थे। नौकरी नहीं मिलने पर मुकामसिंह उसे खोजने निकला, तब खुलासा हुआ कि बदमाश ने मालदेव को ब्लाक में चपरासी बनाने के नाम पर ४२ हजार रुपए, सचिन पिता जोगडिय़ा को पुलिस में ड्राइवर की नौकरी व सचिन की पत्नी को नगर पालिका में नौकरी दिलवाने के नाम पर ६० हजार रुपए ऐंठे। इसी तरह बहादुर से भी नौकरी दिलवाने के नाम पर २४ हजार रुपए ऐंठ लिए थे। टीआई होने का रौब दिखाकर ठगोरा उन सभी से रुपए लेने के बाद टालमटोल करने लगा था। आखिर कल शाम मुकामसिंह ने मामले की जानकारी पुलिस को दी। पुलिस ने घेराबंदी कर ठग को गिरफ्तार कर पुलिस की वर्दी भी जब्त की है।

इंदौर में पकड़े जा चुके हैं फर्जी अफसर
छोटी ग्वालटोली थाने पर नकली एसआई परवीन को गिरफ्तार किया था। खुद को ट्रेनी बताते हुए वह खुद ही थाने जा पहुंची थी। टीआई से मिली तो तब उसके स्टार लगाने के तरीके पर शक होने पर उससे सख्ती से पूछताछ की गई, तब नकली एसआई ने हकीकत बताई थी। वहीं पिछले दिनों सरवटे बस स्टैंड पर एक सिक्यूरिटी गार्ड को पकड़ा था, जो पुलिस अफसर बनकर व्यापारियों को धमका रहा था।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned