श्रीफल में दिए गणेशजी ने दर्शन, स्थापना के आज 36 वर्ष होंगे पूरे

शहर के प्रमुख गणेश मंदिरों में एक मंदिर ऐसा भी है जहां पर श्रीगणेश श्रीफल रूप में विराजित किए गए हैं। जूनी इंदौर शनिमंदिर के पास ही स्थित इस मंदिर की ख्याति शहर ही नहीं, बल्कि पूरे प्रदेश में है। मंदिर पर गणेश चतुर्थी दस दिवसीय महोत्सव धूमधाम से मनाया जाता है। शनिवार को मंदिर में एकाक्षी श्रीफल गणेश स्थापना के 36 वर्ष पूरे कर ३७वें वष्र में प्रवेश हो रहा है। इस अवसर पर शनिवार को सुंदरकांड समेत कई विशेष आयोजन होंगे।

By: लवीं ओव्हल

Published: 18 Sep 2021, 03:36 PM IST

इस मंदिर की स्थापना के पीछे का किस्सा भी काफी रोचक है जो भक्तों की श्रद्धा का कारण भी है। दरअसल, पं. मुरलीधर व्यास को यजमानों के घर पूजन कराने में एक नारियल मिला। मुरलीधर ने उस नारियल को फोडऩे के लिए उसका जूट (जटा) हटाना शुरू किया तो उसमें बीज जैसी कोई आकृति दिखाई दी। इसके बारे में ज्यादा जानने के लिए उन्होंने बड़ा रावला के वैद्य रामचन्द्र जमींदार को यह नारियल दिखाया। रामचन्द्र ने बताया कि इस नारियल में बड़ा बीज बन रहा है। यह बीज यदि किसी गर्भवती महिला को खिलाया जाए तो बच्चे की सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होगा।
शुभमुहूर्त में नहीं कर पाए स्थापना
पं. मुरलीधर ने नारियल संभालकर घर में रख लिया। 18 सितंबर 1985 दिन बुधवार को गणेश चतुर्थी थी। गणेशजी की स्थापना का शुभ मुहूर्त 11.45 बजे का था। मुरलीधर हर वर्ष गणेश स्थापना करते थे लेकिन इस दिन किसी कारणवश वे समय पर मूर्ति नहीं ला पाए। उन्होंने निश्चय किया कि मूर्ति भले नहीं ला पाए लेकिन समय पर यह नारियल फोड़कर गणेश पूजन तो करेंगे ही।
बीज में निकल आई सूंड की आकृति
पं. व्यास ने निश्चित समय पर नारियल फोडऩे के लिए हाथ ऊपर किया तो वह ऊपर ही अटक गया। उन्होंने तीन बार यह नारियल फोडऩे का प्रयास किया लेकिन फोड़ नहीं पाए। इसके बाद उन्होंने नािरयल को ठीक से देखा तो उसमें जो बीज बन रहा था उसमें सूंड जैसी आकृति महसूस हुई। यह देखकर पं. व्यास ने उसी नारियल को भगवान गणेश के रूप में अपने घर में ही स्थापित कर लिया।
आज भी मूल स्वरूप में है श्रीफल
साधारत: नारियल 6 से 8 माह में सूखकर गोल हो जाता है या सढ़ जाता है। अगर उसमें बीज बनता है तो वह भी ज्यादा दिन नहीं टिक पाता है। जिस नारियल को एकाक्षी नारियल वाले गणेश के रूप में पूजा जा रहा है, वह नारियल ३६ साल पहले जैसा था आज भी वैसा ही है। नारियल रूपी यह गणेश मंदिर फिलहाल मुरलीधर व्यास के घर में स्थापित हैं लेकिन लोगों की आस्था के चलते यहां पर मंदिर का रूप दे दिया गया है।

लवीं ओव्हल
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned