उद्घाटन के इंतजार में 472 फ्लैट

जर्जर क्वार्टर में रहने को मजबूर पुलिसकर्मी: प्रदेश की पहली हाईराइज बिल्ंिडग बनकर तैयार

By: रमेश वैद्य

Published: 27 Jun 2021, 01:33 AM IST

इंदौर. पुलिस विभाग में सरकारी क्वार्टर की कमी से परेशानी है। प्रदेश की पहली हाईराइज बिल्ंिडग में 472 क्वार्टर तैयार हैं। उद्घाटन नहीं होने से इन्हें पुलिसकर्मियों को रहने के लिए नहीं दिया गया। बाकी 236 फ्लैट के तैयार होने पर एक साथ आवंटन की बात अफसर कर रहे हंै। पुलिस के लिए प्रदेश की पहली हाईराइज बिल्ंिडग बनकर इंदौर में तैयार हुई है।
पुलिस विभाग सरकारी क्वार्टर की कमी से काफी समय से परेशान हैं। ऐसे में हाईराइज बिल्ंिडग के बनने से काफी मदद मिल जाएगी। 15वीं बटालियन में हाईराइज के 8 टॉवर बन रहे हैं। इनमें से दो टॉवर में २३६ फ्लैट बनकर पुलिस विभाग को सौंपे जा चुके हैं। बाकी 6 टॉवर अभी नहीं मिले हैं। जानकारी के मुताबिक 4 टॉवर में 472 फ्लैट बनकर काफी समय से तैयार हैं। 2 टॉवर के २३६ फ्लैट का काम चल रहा है। दो टॉवर का निर्माण पूरा होने का इंतजार हो रहा है। इसके बाद सभी फ्लैट पुलिस को सौंपे जाएंगे। वहीं, पुलिस की माने तो जो फ्लैट तैयार हैं उनका आवंटन कर दिया जाना चाहिए। निर्माण पूरा होने पर खाली पड़े इन फ्लैट का मेंटनेंस नहीं हो पा रहा है। वहीं, क्वार्टर की कमी के चलते पुलिसकर्मी भी परेशान हैं। जैसे पहले दो टॉवर का आवंटन किया जा चुका है, वैसे ही इनका भी कर दिया जाना चाहिए। वर्तमान में पुलिस विभाग को ३००० क्वार्टर की जरुरत है। हाईराइज बिल्ंिडग में बन रहे ९४४ फ्लैट से काफी मदद मिलेंगी। पुलिस हाउसिंग बोर्ड इन हाईराइज को बना रहा है। इसकी कीमत करीब १५० करोड़ रुपए है। हाईराइज के चलते कम जगह पर ज्यादा लोगो को बसाया जा सकता है।
जर्जर क्वार्टर खाली कराने में नाकाम विभाग
क्वार्टर की कमी के कारण जर्जर हो चुके घरों में लोग रहने का मजबूर है। कई की तो हालत यह है कि उनकी रिपेयरिंग भी नहीं की जा सकती। इन्हें तोडक़र नए सिरे से बनाया जाना है। जर्जर हो चुके क्वार्टर को खाली कराने में विभाग भी नाकाम रहा है। ऐसे में यहां हादसे का अंदेशा हमेशा बना रहता है।
‘जल्द पूरा हो जाएगा काम’
पुलिस हाउसिंग बोर्ड के सहायक यंत्री किशन विरानी ने बताया कि दो टॉवर पुलिस विभाग को सौंप दिए हैं। 4 टॉवर का काम पूरा हो चुका है, लेकिन अभी वे खाली हैं। बाकी बचे दो टॉवर का काम पूरा होते ही सभी फ्लैट एक साथ पुलिस विभाग को सौंप देंगे। लॉकडाउन के चलते काम में देरी हुई। दो महीने में बाकी काम भी पूरा हो जाएगा।

रमेश वैद्य Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned