VIDEO : हनीट्रैप की जांच कर रहे पलासिया टीआई को हटाया, एसएसपी बोली- मोनिका-आरती से पूछ रहे हैं किससे कहां मिली

VIDEO : हनीट्रैप की जांच कर रहे पलासिया टीआई को हटाया, एसएसपी बोली- मोनिका-आरती से पूछ रहे हैं किससे कहां मिली
VIDEO : हनीट्रैप की जांच कर रहे पलासिया टीआई को हटाया, एसएसपी बोली- मोनिका-आरती से पूछ रहे हैं किससे कहां मिली

Reena Sharma | Updated: 21 Sep 2019, 03:55:38 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

  • इंदौर एसएसपी ने कहा मोनिका और आरती दयाल से की जा रही है कड़ी पूछताछ
  • नारकोटिक्स मामले की जांच गंभीरता से न करने पर किया टीआई को लाइन अटैच

चिंतन विजयवर्गीय @ इंदौर. हनीट्रैप की जांच कर रहे इंदौर पलासिया थाने के टीआई अजीत सिंह बैस को लाइन अटैच कर दिया गया है। हालांकि इस मामले में फिलहाल इंदौर एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र ने खुलकर बात करने से इंकार कर दिया और बताया कि नारकोटिक्स मामले की जांच गंभीरता से न करने के चलते टीआई को लाइन अटैच किया गया है। अब पलासिया टीआई का प्रभार शशीकांत चौरसिया को सौंपा गया है। चौरसिया इसके पहले इंदौर के हीरा नगर थाने में पदस्थ रह चुके हैं।

मिश्र ने कहा हनीट्रप केस में पलासिया पुलिस ने भोपाल से गिरफ्तार तीनों महिला आरोपी श्वेता, बरखा और श्वेता व इंदौर से मोनिका और आरती दयाल से कड़ी पूछताछ की है। बताया जा रहा है मोनिका और आरती दयाल को शुक्रवार को इंदौर पलासिया थाने की पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इसके बाद इन्हें २२ सिंतबर तक रिमांड पर रखा गया है। मिश्र ने कहा हम लगातार आरोपी महिलाओं से यह जानने की कोशिश कर रहे हैं कि उन्होंने कब, किससे संपर्क किया था और किसकी क्या भूमिका थी, इनकी मुलाकात कहां किससे हुई है यह भी जानकारी जुटाई जा रही है। साथ ही होटल्स और प्रॉपर्टी की भी पूरी डिटेल्स ली जा रही है।

यह था नारकोटिक्स मामला

HoneyTrap Breaking : आरती दयाल और निगम इंजीनियर को मोनिका ने किया था कैमरे में कैद

पलसिया पुलिस ने चरस के साथ नितिन निवासी विनोबा नगर को पकड़ा था। आरोप है की उसे छोडऩे के बदले पचास हज़ार रुपए की मांग की जा रही थी। रुपए नहीं देने पर एनडीपीएस एक्ट में केस दर्ज कर लिया। इसी मामले में सन्नी व्यास को चालीस हज़ार रुपए लेकर छोड़ दिया गया था। परिवार ने रुपए मांगने की कॉल रिकार्डिंग अफसरों को दी और तब ही तीन पुलिस्कर्मियो को लाइन अटैच कर दिया। एसएसपी का कहना है की इसी मामले में जांच में देरी के कारण टीआई को हटाया गया है।

इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस भेजे जांच के लिए

ब्यूटी ब्लैकमेलर: पूर्व मंत्री के इशारों पर चल रहा था इन हसीनाओं का गिरोह, कांग्रेस के 7 विधायकों का होना था हनीट्रैप

शुक्रवार को सभी आरोपी महिलाओं को कोर्ट में पेश भी किया गया था। यहां श्वेता के वकील ने एक पत्र कोर्ट में पेश करते हुए श्वेता को आंखों की समस्या होने के साथ ही पथरी की शिकायत का जिक्र किया और उसे मेडिकल ट्रीटमेंट की आवश्यकता की बात कही। इस कारण से न्यायाधीश ने इस पर कोई सुनवाई नहीं की। इसके पहले मामले में पुलिस ने आरोपियों के पास से मिले पेन ड्राइव, सीडी, लैपटॉप सहित अन्य इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को जांच के लिए लैब भेज दिए गए हैं। वहीं, पुलिस ने देर रात तक आरोपियों ने पूछताछ की।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned