HoneyTrap की ब्यूटी ब्लैकमेलर्स जेल में रोजाना पढ़ रही अखबार, वे जानना चाहती हैं कि क्या छप रहा है उनके खिलाफ

HoneyTrap की ब्यूटी ब्लैकमेलर्स जेल में रोजाना पढ़ रही अखबार, वे जानना चाहती हैं कि क्या छप रहा है उनके खिलाफ
HoneyTrap की ब्यूटी ब्लैकमेलर्स जेल में रोजाना पढ़ रही अखबार, वे जानना चाहती हैं कि क्या छप रहा है उनके खिलाफ

Reena Sharma | Updated: 06 Oct 2019, 12:41:52 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

हनी ट्रैप मामला: एक आरोपी का पति और बेटा फिर मिलने पहुंचे

चिंतन विजयवर्गीय @ इंदौर. हनी ट्रैप मामले में जिला जेल में बंद सभी महिला आरोपियों ने जेल प्रशासन से रोजाना सभी अखबार पढऩे के लिए मांगे हैं। वे जानना चाहती हैं कि उनके मामले में क्या छप रहा है। जेल में एक आरोपी से मिलने के लिए फिर पति व बेटा पहुंचे। वहीं एसआइटी प्रभारी शनिवार को भी इंदौर नहीं आए।

मामले की आरोपी श्वेता विजय जैन, श्वेता स्वप्निल जैन, आरती दयाल, मोनिका उर्फ सीमा यादव और बरखा सोनी जिला जेल में बंद हैं। शनिवार को श्वेता का पति विजय और बेटा जेल पहुंचे। जेल प्रशासन ने नियम अनुसार दोनों की मुलाकात श्वेता से कराई। कुछ देर रहने के बाद दोनों निकल गए।

इनसे जेल में नहीं करवा रहे कोई काम

जेल अधीक्षक अदिति चतुर्वेदी के मुताबिक सभी महिलाओं को अलग-अलग बैरक व सेल में रखा है। इन्होंने सभी अखबार पढऩे के लिए मांगे हैं। वे अपने खिलाफ छप रही खबरों को पढऩा चाहती हैं। सभी कैदियों को बैरक व सेल में अखबार दिए जाते हैं इसी के तहत इन्हें भी दे रहे हैं। अभी इन सभी का केस अंडर ट्रायल है तो फिलहाल जेल में कोई काम नहीं करवाया जा रहा है। जेल स्टॉफ व अन्य कैदियों से यही कहती हैं कि हमने कोई अपराध नहीं किया। हमारे खिलाफ झूठा केस दर्ज किया है। ये अन्य कैदियों से ज्यादा बात नहीं करतीं।

एसआइटी प्रभारी नहीं आए, जांच की रूपरेखा अटकी

वहीं शनिवार को भी नए एसआइटी प्रभारी डीजी राजेंद्र कुमार इंदौर नहीं पहुंचे। उनके अलावा एडीजी मिलिंद कानसकर, एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र ही एसआइटी में हैं। इसी के चलते जांच को लेकर रूपरेखा नहीं बन पा रही है। संभावना है कि सोमवार को राजेंद्र कुमार इंदौर आ जाएंगे।

बैंक खाते सीज, बड़ी राशि के कई ट्रांजेक्शन मिले

पुलिस जांच में इस गिरोह की मास्टरमांइड के रूप में श्वेता पति विजय जैन सामने आई है। उसकी कई संपत्तियों की जानकारी पुलिस को मिली है। जो उसने हनी ट्रैप के जरिए खरीदी। सभी के बैंक खाते भी पुलिस सीज करवा चुकी है। पिछले कुछ सालों के ट्रांजेक्शन भी मिले हैं। यह राशि काफी बड़ी है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned