scriptHuge disturbances in the voter list .... thousands of people wandering | मतदाता सूची में भारी गड़बड़ी.... भटकते रहे हजारों लोग | Patrika News

मतदाता सूची में भारी गड़बड़ी.... भटकते रहे हजारों लोग

निर्वाचन विभाग की शैली व वोटर लिस्ट पर खड़े हो रहे सवाल, सर्च करने पर कुछ को मिले शहर के दूसरे कोने में नाम

 

इंदौर

Published: July 07, 2022 11:31:16 am

इंदौर। मतदाता सूची में कल बड़े पैमाने पर गड़बडिय़ां सामने आईं। सूची में नाम नहीं होने से मतदाता इधर-उधर भटकते नजर आए। ये बात साधारण नहीं, एक बड़े घोटाले का संकेत दे रही है। हकीकत तो ये है कि हर मोहल्ले में चुन-चुन कर भाजपा समर्थित लोगों के नाम उड़ाए गए।
कल मतदान के दौरान बूथों पर बड़ी संख्या में मतदाता वोटर आईडी कार्ड लेकर पहुंचे। पहले तो उन्हें लगा कि बीएलओ उन्हें पर्ची देकर नहीं गया। जब वे टेबलों पर पहुंचे तो उनकी जमीन खिसक गई। मतदाता सूची में सचमुच उनका नाम नहीं था। उनका कहना था कि वे वर्षों से उसी पते पर रह रहे हैं और कई चुनाव में मताधिकार का प्रयोग भी कर चुके हैं।
मतदाता सूची में भारी गड़बड़ी.... भटकते रहे हजारों लोग
मतदाता सूची में भारी गड़बड़ी.... भटकते रहे हजारों लोग
ऐसे में नाम कैसे कट गया। नाम कटने के पीछे कारण €या है? काटने पर डिलिट की सूची में नाम सामने आता है। उसमें भी नजर नहीं आ रहा। ऐसा कैसे हो सकता है। इन सभी सवालों का टेबल पर बैठे राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं के पास कोई जवाब नहीं था। जानकारों ने ऑनलाइन दी गई साइट पर जांच की तो कुछ के नाम शहर के दूसरे कोने के वार्डों में जरूर सामने आए। दूर होने की वजह से वे वोट देने नहीं गए।
भाजपा के अभियान को पलीता
छह माह से प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा बूथ विस्तारक और त्रिदेव अभियान चला रहे थे। ऐसे सारे अभियान धरे रह गए। इससे अच्छा तो ये होता कि त्रिदेवों से कम से कम मतदाता सूची की जांच करवा लेते। जमीनी स्तर पर उनकी पार्टी को समर्थन देने वाले मतदाताओं के नाम ही काट दिए गए। भाजपा कोरी-कागजी कार्रवाई कर खुद की पीठ थपथपाती रही। बात बूथ जीतने की कर रही है और बूथ से वोटर गायब हो गए। ऐसा ही विधानसभा चुनाव में हुआ तो पार्टी की स्थिति खराब हो जाएगी।
2250 बूथ पर यही हाल
ऐसा एक- दो जगह नहीं हुआ, नगर निगम के 2250 बूथ पर यही हाल था। ये सारे वोट भाजपा से जुड़े होने की बात दमदारी से इसलिए भी कही जा सकती है कि पर्ची बनाने के लिए वे भाजपा की टेबल पर ही पहुंचे थे। इससे स्पष्ट कि वे किस पार्टी को अपना समर्थन देते। ये बात भी उतनी ही सच है कि हर बूथ पर 100 से 250 तक नाम गायब मिले। कई नाम तो ऐसे भी सूची में थे, जो उन क्षेत्रों में नहीं रहते हैं।
होना चाहिए घोटाले की जांच
वर्ष 2013 विधानसभा चुनाव में राऊ विस में जो खेल हुआ था, वह निगम चुनाव में नजर आया। उस चुनाव में 15 हजार के करीब मतदाताओं के नाम काटे गए थे और 10 हजार फर्जी जोड़े गए थे। जांच हुई तो कम्प्यूटर विभाग से जुड़े एक बड़े गिरोह की भूमिका संदिग्ध नजर आई थी, लेकिन मामले को रफा-दफा कर दिया गया। ऐसा ही घोटाला निगम चुनाव में नजर आ रहा है। इस घोटाले की जांच गंभीरता से होना चाहिए। जिला निर्वाचन अधिकारी व कले€टर मनीष सिंह को चाहिए कि पूरे मामले की बारीकी से जांच कर दोषियों पर कार्रवाई करें।
मामला चुनाव आयोग देखे
2019 के लोकसभा चुनाव में मतदाता सूची में जिनके नाम थे, वे बिना कारण काट दिए गए। हर बूथ पर 5 से 10 प्रतिशत नाम गायब हैं। ये चूक कहां और कैसे हुई, इसकी जांच चुनाव आयोग को करना चाहिए और उसकी रिपोर्ट देना चाहिए। मतदाता के अधिकार का हनन किया गया। दोषी पर गंभीर कार्रवाई की जाना चाहिए।
पुष्यमित्र भार्गव, महापौर प्रत्याशी भाजपा
भाजपा प्रदेश मीडिया प्रभारी बोले
नगरीय निकाय चुनाव के पहले चरण में भारी संख्या में लोगों को मतदाता पर्ची नहीं मिली। एक परिवार के वोट कई मतदान केंद्रों पर विभाजित कर दिए गए। इस कारण कई लोग वोट नहीं डाल पाए। चुनाव आयोग बताए, इसके लिए जिम्मेदार कौन है?
- लोकेंद्र पाराशर, प्रदेश भाजपा मीडिया प्रभारी
केके का पलटवार
आदरणीय पाराशरजी, आज निकाय चुनाव के दौरान समूचे प्रदेश में मतदाता सूची में नाम बड़े स्तर पर सुनियोजित स्तर पर काटे गए। ये चिंतनीय है। आपने भी सच को उजागर किया। इस साहस को सलाम। निक्मेपन को सार्वजनिक करना एक धर्म है, जिसे आपने निभाया।
- केके मिश्रा, प्रदेश कांग्रेस मीडिया प्रमुख

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Maharashtra Cabinet Expansion: कल 15 मंत्री लेंगे शपथ, देवेंद्र फडणवीस को मिलेगा गृह विभाग? जानें शिंदे कैबिनेट के संभावित मंत्रियों के नामबिहारः कांग्रेस ने बुलाई विधायकों की बैठक, नीतीश कुमार के साथ जाने पर बन सकती है सहमति!Google ने दिल्ली हाई कोर्ट को दी जानकारी, हटाए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और उनकी बेटी के खिलाफ पोस्ट वेब लिंक'इनकी पुरानी आदत है पूरे सिस्टम पर हमला करने की', कपिल सिब्बल के बयान पर बोले कानून मंत्री किरेण रिजिजूअरविंद केजरीवाल ने कहा- देश की राजनीति में परिवारवाद और दोस्तवाद खत्म कर भारतवाद लाएंगेAmit Shah Visit To Odisha: अमित शाह बोले- ओडिशा में अच्छे दिन अनुभव कर रहे लोग, सीएम नवीन पटनायक की तारीफ भी कीAsia Cup 2022 के लिए टीम इंडिया का हुआ ऐलान, विराट कोहली-केएल राहुल की हुई वापसी'नीतीश BJP का साथ छोड़े तो हम गले लगाने को तैयार', बिहार में मचे सियासी घमासान पर बोले RJD नेता शिवानंद तिवारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.