सीआईएफएस कर्मचारी बनकर फर्जी ओएलएक्स साइट से कर रहे ठगी

सीआईएफएस कर्मचारी बनकर फर्जी ओएलएक्स साइट से कर रहे ठगी

Chintan Vijayvargiya | Publish: Sep, 07 2018 08:26:08 PM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

क्राइम ब्रांच ने दर्ज किया केस, राजस्थान में संचालित हो रहा गिरोह

इंदौर. ओएलएक्स की हूबहू बेवसाइट बनाकर लोगो से ठगी करने वाले गिरोह के खिलाफ क्राइम ब्रांच ने धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है। मुख्य आरोपित खुद को सीआईएफएस कर्मचारी बताकर मंहगा मोबाइल सस्ते में बेच देने का झांसा देता। क्राइम ब्रांच के पास करीब 30 शिकायत आ चुकी है।
एएसपी क्राइम अमरेंद्र सिंह चौहान ने बताया कि शरद शर्मा (50) निवासी शगुन रेसीडेंसी कनाडिय़ा रोड की रिपोर्ट पर मोबाइल नंबर 87418-49185 के धारक के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया। 24 दिसंबर 2017 को ओएलएक्स बेवसाइट पर आईफोन 7 बेचने के लिए आरोपित ने विज्ञापन पोस्ट किया। उसमें दिए नंबर पर फरियादी ने फोन किया तो मोबाइल बेचने वाले ने अपना नाम श्रीकांत बताया। उसने खुद को सीआईएफएस कर्मचारी बताकर झारखंड में पोस्टिंग की जानकारी दी। उसने रुपए की जरुरत होने पर महज 15 हजार रुपए में फोन देने का विज्ञापन दिया था। श्रीकांत ने वाट्सऐप के जरिए मोबाइल के फोटो भेजे। इस पर शरद ने पेटीएम के माध्यम से 15 हजार रुपए भेज दिए। कोरियर से फोन भेजने के बारें में बताया गया। एक नंबर से कोरियर कर्मचारी बनकर फोन भी शरद को आए लेकिन उसे कोई कोरियर नहीं मिला। बाद में श्रीकांत को फोन किए तो उसने मोबाइल व रुपए दोनो देने से मना कर दिया।
इसी के बाद शरद ने मामले की शिकायत की। जांच में आया है कि राजस्थान के भरतपुर के गिरोह ने ओएलएक्स से मिलती जुलती बेवसाइट बनाई है। इसी पर सस्ते इलेक्ट्रानिक्स सामान के विज्ञापन पोस्ट कर लोगो से ठगी करते है। क्राइम ब्रांच के पास करीब 30 शिकायत आ चुकी है। सस्ते सामान को भेजने के बदले पहले रुपए ले लिए जाते है। क्राइम ब्रांच की टीम भरतपुर में गिरोह की तलाश करने गई थी। वहां पर गिरोह को लेकर कुछ अहम सुराग पुलिस को मिले है। ये गिरोह देशभर के लोगो से इसी तरह ओएलएक्स की हूबहू बेवसाइट ठगी से करता है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned