एमवाय अस्पताल रात में बन जाता है ओपन रैन बसेरा

एमवाय अस्पताल रात में बन जाता है ओपन रैन बसेरा

Chintan Vijayvargiya | Publish: Sep, 16 2018 11:59:00 PM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

मरीज के परिजन के लिए नहीं है कोई इंतजाम, आवारा पशु भी घूमते है परिसर में

इंदौर. स्मार्ट सिटी की तरफ कदम बढ़ा रहे शहर का एमवाय अस्पताल रात के समय ओपन रैन बसेरे की शक्ल ले लेता है। अस्पताल के बाहरी परिसर के साथ अंदर भी जहां जिसको जगह मिलती है रात के समय सो जाता है। आवारा पशु भी परिसर में घूमते है जो लोगो के लिए खतरा है। जिम्मेदार भी इसको लेकर कोई एक्शन प्लान नहीं बना पाए है।
एमवाय अस्पताल प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल के रूप में पहचाना जाता है। रोजाना काफी संख्या में इंदौर सहित आसपास के मरीज इलाज के लिए पहुंचते है। गरीब तबके से होने के कारण सुविधाओं के अभाव में इन्हें परेशानी उठाना पड़ती है। सबसे ज्यादा दिक्कत मरीज के साथ आए अटेंडर को होती है। अस्पताल में मरीज के साथ एक ही व्यक्ति रह पाता है। अन्य लोगो को रात में परिसर में सोना पड़ता है। इनकी संख्या भी काफी होती है। हालत ये है कि रात के समय एमवाय अस्पताल का बाहरी व आंतरिक दोनो ही परिसर एक ओपन रैन बसेरे की शक्ल ले लेते है। इन सबके बाद भी जिम्मेदार लोगो को ध्यान इस और नहीं जाता। एमवाय अस्पताल परिसर काफी बड़ा है। मरीजो के परिजन की सुविधा को देखते हुए प्रशासन यहां पर उनके रूकने के लिए रैन बसेरा बनवा दे तो उन्हें राहत मिले।


बदमाश भी सोते मिले

एमवाय अस्पताल परिसर में मरीज के परिजन के साथ बदमाश, असामाजिक तत्व, दिमागी रोगी भी रात के समय आकर सो जाते है। पुलिस ने जब भी यहां पर आकस्मिक चेकिंग अभियान चलाया है यहां पर कोई ना कोई बदमाश पुलिस के हाथ लगा है। ऐसे में ये सुरक्षा को लेकर भी खतरा है। चोर भी यहां घूमकर मरीजो के परिजन का सामान चुरा ले जाते है। ऐसे में जरुरी है कि परिसर में ऐसी कोई व्यवस्था शासन करे जिससे मरीज के परिजन को सोने की जगह मिल सके। अन्य लोग वहां पर नहीं आ पाए। कई बदमाश तो पुलिस से बचने के लिए परिसर में आकर लोगो के बीच सो जाते है।


आवारा पशु भी बड़ी संख्या में

एक तरह से एमवाय परिसर में काफी संख्या में लोग सोते है। वही काफी संख्या में आवारा पशु भी वहां घूमते रहते है। ये लोगो की सुरक्षा को भी खतरा है। कई बार आपस में लड़ते हुए आवारा पशु सोते लोगो पर भी आ जाते है। इन्हें कोई भगाता है तो उस पर भी काटने के लिए लपकते है। इन्हें पकडऩे के लिए भी कभी प्रयास नहीं किए गए।


शासन को दी है जानकारी

एमवाय अधीक्षक वीएस पाल ने बताया एमवाय अस्पताल परिसर में मरीज के साथ आए परिजन रात में सोते है ये हमारी जानकारी में है। इस बारें में शासन को बताया जा चुका है।

Ad Block is Banned