मौत के बाद मासूम अपनी मां को जगाता रहा

महू से इलाज के लिए एमवाय अस्पताल आई एक महिला की इलाज के दौरान मौत हो गई। सुबह से दोपहर तक महिला का शव मर्चुरी के बाहर पड़ा रहा। महिला का तीन साल का मासूम बेटा अपनी मां को जगाता रहा। आखिरकार कुछ समाजसेवियों ने मिलकर महिला का अंतिम संस्कार किया और रिश्तेदार के संग बेटे को रवाना किया।

By: Sanjay Rajak

Updated: 18 Apr 2020, 12:23 PM IST

इंदौर. 16 अपे्रल को किशनपुरा महू निवासी अन्नीबाई पति रुपेश(26) को इलाज के लिए एमचायएच अस्पताल में भर्ती किया गया था। शुक्रवार सुबह 6.30 बजे उसकी मौत हो गई। शव रिश्तेदार के सुपुर्द कर दिया गया। दोपहर ३ बजे तक शव के पास तीन वर्ष का बेटा बैठा रहा। सूचना मिलने पर श्रम आंदोलन के राजेश बिड़कर अपने साथी ईश्वर पथरोड, परमजीत मेकन और विजयराव सोनवाने के साथ एमवायएच अस्पताल आए।

मां के पास बैठा रहा मासूम

बिड़कर ने बताया कि जब हम एमवायएच पहुंचे तो मर्चुरी के बाहर महिला के शव के पास उसका 2-3 वर्ष का बेटा बैठा हुआ था। थोड़ी देर में ही एक रिश्तेदार आया। उसने बताया कि मृतक महिला अन्नीबाई निवासी खुरदा महू है। सुुबह 6.30 बजे मौत हो गई थी। इसके बाद हमने एम्बुलेंस से शव को जूनी इंदौर मुक्तिधाम पहुंचाया। यहां पर विधि विधान से महिला के बेटे से संस्कार करवाए। इसके बाद रिश्तेदार को वापस एमवायएच छोड़ा।

पुलिस नहीं आई, निगम टीम भी नदारद

बिड़कर ने बताया कि महिला की मौत कैसे हुई, हमने रिश्तेदार से पूछा भी था, लेकिन वह नहीं बता पाया। हमने एमवायएच से ही पुलिस कंट्रोल रूम के 0731-2522500 पर कॉल किया, लेकिन पुलिस नहीं आई। इसके बाद 0731-5455555 नंबर पर कॉल कर नगर निगम कंट्रोल रूम पर सूचना देकर सैनिटाइजर टीम बुलाई गई, लेकिन वह भी नहीं आई। जब मुक्तिधाम पहुंचे तो पंचनामा बनाने के लिए सीएसपी जूनी इंदौर को भी सूचना दी गई परंतु पुलिस थाने से कोई भी नहीं आया। इसके बाद हमने दाह संस्कार की प्रक्रिया पूरी करवाई।

Sanjay Rajak Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned