जांच रिपोर्ट में खुलासाः कर्मचारी बगैर आदेश के ही ले गए थे बुर्जुगों को बाहर

भिखारियों को शहर के बाहर छोडऩे के मामले की जांच रिपोर्ट आई, 6 और कर्मचारियों को पाया गया दोषी, उपायुक्त भी दिए गए काम की मानिटरिंग सही तरह से नहीं करने के लिए दोषी।

By: Hitendra Sharma

Published: 10 Feb 2021, 02:36 PM IST

इंदौर. निराश्रित बुर्जुगों और भिखारियों को शहर से बाहर शिप्रा में छोडऩे के मामले में जांच रिपोर्ट मंगलवार रात को जांच कमेटी ने सौंप दी। जांच कमेटी ने इस मामले में भिखारियों को शहर से बाहर ले जाने वाली गाड़ी में मौजूद कर्मचारियों को ही इसके लिए जिम्मेदार माना है। इसके चलते उस समय गाडी में मौजूद 6 और कर्मचारियों की सेवा समाप्ती की अनुशंसा की गई है। जबकि बुर्जुगों को रैनबसेरे पहुंचाने के आदेशों का सही तरह से पालन नहीं कराने के मामले में पहले से ही निलंबित उपायुक्त प्रतापसिंह सोलंकी को जिम्मेदार माना गया है।

इस मामले की जांच के लिए बनाई गई आईएएस अधिकारी और अपर आयुक्त एस. कृष्ण चैतन्य की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय कमेटी ने गाडी में मौजूद कर्मचारियों, निलंबित उपायुक्त, अपर आयुक्त सहित अन्य अधिकारी और कर्मचारियों के साथ ही इंदौर से बाहर ले जाए गए बुर्जुगों और भिखारियों के भी बयान दर्ज किए थे। सोमवार को ही बयानों को दर्ज करने का काम पूरा कर लिया गया था। इसके आधार पर ही रिपोर्ट तैयार कर मंगलवार को सौंप दी गई। रिपोर्ट में गाड़ी पर मौजूद कर्मचारियों को ही दोषी माना गया है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि उन्हें निर्देश दिए गए थे कि भिखारियों को शिवाजी वाटिका के पास से रैन बसेरे में आदर सहित ले जाएं। लेकिन वे उन्हें शहर के बाहर ले गए। और उनके साथ बुरा बर्ताव भी किया गया। इसमें गाड़ी में सवार सभी 8 मस्टर कर्मचारियों की गलती है। इसमें से दो कर्मचारियों को पहले ही नौकरी से निकाला जा चुका है, जबकि 6 और कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की अनुशंसा की गई है।

वहीं जांच रिपोर्ट में उपायुक्त प्रतापसिंह सोलंकी को भी दोषी माना गया है। रिपोर्ट में बताया गया है कि उन्हें वरिष्ष्ठ अधिकारियों द्वारा निर्देश दिए गए थे कि सभी भिक्षुओं को वे रैनबसेरों में शिफ्ट करवाएं, लेकिन उन्होने इस काम की सही तरह से मानिटरिंग नहीं की। जिसके चलते कर्मचारी भिक्षुओं को रैन बसेरे में ले जाने के बजाए शहर से बाहर ले गए। जिससे निगम की बदनामी हुई। उनके खिलाफ भी विभागीय जांच की अनुशंसा जांच रिपोर्ट में की गई है।

अपर आयुक्त को माना निर्दोष

वहीं जांच रिपोर्ट में अपर आयुक्त शृंगार श्रीवास्तव की कोई गलती नहीं मानी गई। रिपोर्ट में बताया गया है कि अपर आयुक्त को निगमायुक्त द्वारा दिए गए निर्देश के बाद ही उन्होने विभाग का दायित्व नहीं होने के बाद भी उपायुक्त को भिक्षुओं को रैन बसेरे में पहुंचाने के लिए कहा था। साथ ही इसके लिए आवश्यक संसाधनों की व्यवस्था भी करवाई थी। उन्होने केवल रैन बसेरे तक ही सभी को पहुंचाने के लिए आदेश दिए थे। इसलिए उनकी कोई गलती नहीं है।

इन कर्मचारियों की नौकरी जाएगी

नगर निगम आयुक्त प्रतिभा पाल ने बताया कि जांच रिपोर्ट में 6 ओर कर्मचारियों की गलती पाई गई है। उनके कारण निगम की छवि धूमिल हुई है। इनकी सेवाएं समाप्त की जाएगी। इनके नाम जितेंद्र तिवारी, राज परमार, अनिकेत करोने, गजानंद माहेश्वरी, राजेश चौहान, सुनील सुरागे हैं। उपायुक्त सोलंकी की काम को सही तरीके से कराने की जिम्मेदारी थी, लेकिन उन्होने भी इस पर ध्यान नहीं दिया। उनके खिलाफ विभागीय जांच की जाएगी।

Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned