जूनियर आयुर्वेद डॉक्टर्स ने नुक्कड़ नाटक और गरबा कर दिखाया आक्रोश, देखें वीडियो

amit mandloi | Publish: Aug, 12 2018 02:19:35 PM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

जूनियर आयुर्वेद डॉक्टर्स अपनी मांगों को लेकर सड़कों पर उतरे

इंदौर. मध्यप्रदेश आयुर्वेद छात्र संगठन इंदौर से जूनियर आयुर्वेद डॉक्टर्स अपनी मांगों को लेकर सड़कों पर उतर आए हैं। जूनियर डॉक्टर्स आम जनता के बीच अपनी समस्याओं को लेकर पहुंचे और जनता से समर्थन भी मांगा। अष्टांग आयुर्वेद महाविद्यालय के छात्र एवं चिकित्सको ने देवीअहिल्या विश्विद्यालय सेंट्रल मॉल के सामने से होते हुए रीगल चौराहे तक रैली के रूप में समर्थन मांगा। जूनियर डॉक्टर्स ने रीगल चौराहा पर नुक्कड़ नाटक व गरबा कर अपना आक्रोश दिया। गरबा कर नाराजगी जाहिर करने का ये एक अनूठा तरीका था। आम जनता को शासन का रवैय्या समझाने की कोशिश की। सभी छात्र अष्टांग आयुर्वेद महाविद्यालय के है जो विगत दिनों से अपनी मांगों को लेकर अनिश्चित कालीन हड़ताल पर है।

स्पष्ट निर्णय नहीं मिलने तक जारी रहेगी हड़ताल

छात्र अध्यक्ष प्रवीण चौरे के अनुसार प्रदेश स्तरीय हड़ताल जारी है और जब तक कोई स्पष्ट निर्णय नही मिल जाता समाप्त नहीं की जाएगी। प्रवीण चौरे का कहना है कि केंद्र सरकार तो आयुर्वेद के प्रति समर्पित भाव से सोचती है। इसके लिए आयुष का प्रथक मंत्रालय भी बनाया और विश्व योग दिवस भी इसी का उदाहरण है। आयुष विभाग को लेकर राज्य सरकार का रवैया केंद्र से विपरीत है। राज्य आयुर्वेद छात्रो के प्रति दोहरा रवैया रखती है।

चौरे ने बताया कि, एक तरफ तो खराब स्वास्थ सेवाएं और डॉक्टर की कमी की बात कही जाती है वहीं दूसरी तरफ चिकित्सकों को बेरोजगारी की मुहर लगाकर सड़को पर उतारने को मजबूर किया जाता हैं। पीएससी एवं एनआरचम के तहत कई रोजगार की कई बार मंचो से घोषणा हो चुकी और पद स्वीकृत भी हो गए, किन्तु शासन उनकी विज्ञप्तियां नहीं दे रहा हैं। जब तक छात्रों की 3 सूत्रीय मांगे स्टायफंड बढ़ाना, पीएससी एवं एनएचआरएम के तहत रोजगार नही पूर्ण की जाती है तो प्रदेशव्यापी आंदोलन जारी रहेगा। सरकार और प्रशासन को हमारी परेशानियों पर ध्यान देना ही होगा ।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned