हाथरस गैंगरेप केस : भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने कहा- CM योगी के प्रदेश में गाड़ी कभी भी पलट जाती है

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा- 'योगी जी जो वहां के सीएम हैं, मैं जानता हूं कि उनके प्रदेश में गाड़ी कभी भी पलट जाती है।'

 

By: Faiz

Published: 30 Sep 2020, 05:47 PM IST

इंदौर/ हाथरस गैंगरेप केस में लगातार आलोचनाओं का सामना कर रही योगी सरकार पर कांग्रेस एक के बाद एक सवालिया हमले कर रही है। इस बीच भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय का बयान सामने आया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि, 'आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है और केस फास्ट ट्रैक में जा रहा है, मुझे लगता है कि थोड़ा सब्र करना चाहिए वे सभी जेल जाएंगे।' इस दौरान कैलाश ने ये भी कहा कि, 'योगी जी जो वहां के सीएम हैं, मैं जानता हूं कि उनके प्रदेश में गाड़ी कभी भी पलट जाती है।'

 

पढ़ें ये खास खबर- 2 दिन की बच्ची की हत्या कर मंदिर में फेंका शव, 15 दिनों में तीसरी मासूम की हत्या

 

ट्विटर पर कही ये बात

वहीं, उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल से ये भी कहा कि, हाथरस की घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय है। योगी सरकार ने घटना की जांच और आरोपियों को त्वरित सजा दिलाने के लिए फ़ास्ट ट्रेक कोर्ट का गठन करके सही कदम उठाया है। इन दरिदों को दी जाने वाली सजा अन्य लोगों के लिए मिसाल बने ताकि भविष्य में कोई ऐसा अपराध करने का साहस न करे!


राजनीतिक हुआ मामला

बता दें कि, उत्तर प्रदेश के हाथरस में गैंगरेप का शिकार हुई 19 वर्षीय दलित युवती ने दिल्ली के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया था। इसके बाद युवती के पार्थिव शरीर का पुलिस की कड़ी निगरानी में बुधवार को अंतिम संस्कार कर दिया गया। हालांकि, पीड़िता के परिवार का आरोप है कि, उनकी अनुमति के बिना शव का अंतिम संस्कार किया गया है। यही नहीं गांव के लोगों ने भी इस तरह चुपचाप से अंतिम संस्कार किये जाने का विरोध किया था, लेकिन पुलिस ने सख्ती बरतते हुए अंतिम संस्कार कर दिया।

 

पढ़ें ये खास खबर- सब्जी पर संकट : देशभर में यहां सबसे सस्ते हैं प्याज, टमाटर और आलू के दाम


मृतका के भाई का आरोप

news

पीड़िता के भाई का आरोप है कि, 'पुलिस ने जबरन शव को ले लिया और मेरे पिता को दाह संस्कार के लिए साथ ले गए। पिता के हाथरस पहुंचने पर पुलिस द्वारा उन्हें तुरंत शमशान ले जाया गया।' उन्होंने कहा, 'हमने पुलिस को बताया कि, हम सुबह अंतिम संस्कार करेंगे, लेकिन उन्होंने पिता की एक न मानी और जल्दी अंतिम संस्कार करने के कई बहाने दिये। उन्होंने कहा कि, 24 घंटे हो गया है और शरीर विघटित हो रहा है। हालांकि, हम सुबह अंतिम संस्कार इसलिए भी करना चाहते थे क्योंकि तब तक समाज और रिश्तेदार भी आ जाते।


प्रशासन ने दी सफाई

हाथरस के डीएम ने मामले पर सफाई देते हुए कहा कि, 'परिवार द्वारा लगाया जा रहा सहमति के बिना अंतिम संस्कार का आरोप गलत है। पिता और भाई ने ही रात में अंतिम संस्कार कर लेने की अनुमति दी थी। अंतिम संस्कार के समय परिवार के लगभग सभी सदस्य भी मौजूद थे। पीड़िता का शव ले जाने वाला वाहन रात 12.45 से 2.30 बजे तक गांव में ही मौजूद था।'

 

पढ़ें ये खास खबर- क्या आपके घर भी बिजली का बिल आता है ज्यादा? ये हो सकते हैं कारण


ये है मामला

news

बता दें कि यूपी में हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव में 14 सितंबर को 19 साल की एक दलित लड़की के साथ कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म की घटना सामने आई। पुलिस द्वारा पीड़िता को अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती किया गया, जहां उसकी हालत में सुधार न होने के कारण सोमवार की सुबह उसकी हालत गंभीर हो जाने पर तत्काल उसे दिल्ली भेज दिया गया, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। इसके बाद आनन फानन में किये गए मृतका के अंतिम संस्कार को लेकर उत्तर प्रदेश कांग्रेस उसपर लगातार सवाल खड़े करके योगी सरकार को घेर रही है।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned