कैलाश विजयवर्गीय ने कमलनाथ को बताया मानसिक दरिद्र, कहा- राहुल गांधी नेतृत्व करते रहे तो कांग्रेस इतिहास बन जाएगी

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा- 'मानसिक दरिद्र हैं कमलनाथ', जानिए वजह।

By: Faiz

Published: 26 Oct 2020, 06:18 PM IST

इंदौर/ मध्य प्रदेश में उपचुनाव के दिन जैसे जैसे नजदीक आ रहे हैं, चुनावी पारा बढ़ता जा रहा है। इसी बीच राहुल लोधी ने विधायक पद से इस्तीफा देकर कांग्रेस की रही सही मुश्किलें और भी बढ़ा दी हैं। हालांकि, कांग्रेस ने पहले की तरह इस बार भी भाजपा पर खरीद फरोख्त आरोप लगा दिया है, जिसपर एक बार फिर प्रदेश की राजनीति गर्मा गई है। कांग्रेस के आरोपों पर पलटवार करते हुए भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने सोमवार को पलटवार करते हुए कमलनाथ को मानसिक रूप से दिवालिया बता दिया। विजयवर्गीय ने कहा कि कमलनाथ के पास बहुत संपत्ति है, करोड़ों रुपए तो हैं, लेकिन वो मानसिक रूप से वे दरिद्र हैं। वहीं, राहुल गांधी को लेकर विजयवर्गीय ने कहा कि, अगर वो ही कांग्रेस का नेतृत्व करते रहेंगे तो कांग्रेस इतिहास का पन्ना बन जाएगी।

 

पढ़ें ये खास खबर- नरोत्तम मिश्रा का कमलनाथ पर तंज, कहा- एक विधायक और गया तो हो जाएंगे '30 मार खां'


कांग्रेस कार्यकर्ता असुरक्षित महसूस कर रहे हैं- विजयवर्गीय

कैलाश विजयवर्गीय ने राहुल लोधी के भाजपा में शामिल होने का कारण बताते हुए कहा कि, अब कांग्रेस के किसी भी कार्यकर्ता को पार्टी के देश प्रदेश के नेतृत्व पर भरोसा नहीं रहा है। यही करारण है, जो कांग्रेस में इस तरह की परिस्थितियां पैदा हो रही हैं। कांग्रेस के जितने भी नौजवान हैं, उन्हें पार्टी में रहकर अपना भविष्य असुरक्षित महसूस होने लगा है। कमलनाथ के आइटम वाले बयान पर बोलते हुए विजयवर्गीय ने कहा कि, कमलनाथ ने जिस तरह के शब्दों का इस्तामल कर दरिद्रता दिखाई है, उससे प्रदेश की राजनीतिक प्रतिष्ठा खराब हुई है। कमलनाथ के पास बहुत संपत्ति है, करोड़ों रुपए हैं, लेकिन मानसिक रूप से वे दरिद्र हैं। जो मानिसक रूप से दरिद्र होता है, तो उसके शब्द भी दरिद्र हो जाते हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- DJ बंद कराने को लेकर दो पक्षों में विवाद, खूनीसंघर्ष में 1 की मौत 5 घायल, देखें वीडियो


कमलनाथ अपने ही कार्यकर्ताओं का कर रहे अपमान

भाजपा नेताओं के लगातार फोन आने वाले कमलनाथ के बयान पर कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि, इस उम्र में उनकी जिस प्रकार से जमीन खिसक रही है। मैं नहीं समझा की अभी उनका मानसिक संतुलन ठीक है। उनमें इतना अहंकार भर गया है कि, वो महिलाओं के अपमान करने से भी परहेज नहीं कर रहे, फिर उसे गलत भी नहीं मान रहे, जबकि उनके नेता खुद गलती मानते हुए उनकी बात से असहमति जता चुके हैं। बावजूद इसके वो माफी मांगने को राजी नहीं है। ये मानसिक रूप से दिवालियापन नहीं तो और क्या है?

Kamal Nath
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned