scriptLack of money became a hindrance in IIT's satellite campus | आईआईटी के सैटेलाइट कैंपस में रोड़ा बनी पैसों की कमी | Patrika News

आईआईटी के सैटेलाइट कैंपस में रोड़ा बनी पैसों की कमी

उज्जैन कैंपस के लिए करीब 500 करोड़ की जरुरत, अभी 350 करोड़ के कर्ज में चल रहा है संस्थान

इंदौर

Updated: May 11, 2022 05:30:25 pm

अभिषेक वर्मा, इंदौर.
आईआईटी इंदौर का उज्जैन में प्रस्तावित सैटेलाइट कैंपस खटाई में पड़ गया है। इसके पीछे प्रमुख वजह नए कैंपस के लिए पर्याप्त फंड का इंतजाम नहीं हो पाना है। अभी आईआईटी इंदौर केंद्र से मिली राशि की किश्त ही नहीं लौटा पा रहा है। सैटेलाइट कैंपस के निर्माण में करीब 500 करोड़ लागत का अनुमान है।
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (आईआईटी), इंदौर ने 6 माह पहले उज्जैन में सैटेलाइट कैंपस तैयार करने का प्रस्ताव बनाया था। इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर के शोध केंद्र के रुप में विकसित करने के लिए नए कोर्स शुरू किए जाना थे। जोर-शोर से इसकी तैयारी शुरू हुई और उच्च शिक्षा विभाग ने कैंपस की नींव रखने के लिए उज्जैन की विक्रम यूनिवर्सिटी के दरवाजे खोल दिए। माना जा रहा था कि 2022-23 सत्र से ही यह कैंपस शुरू हो जाएगा। लेकिन, मौजूदा हालातों में यह संभव होता नजर नहीं आ रहा। दरअसल, आईआईटी ने इस सैटेलाइट कैंपस के लिए 100 एकड़ जमीन और करीब 500 करोड़ रुपए का प्रस्ताव तैयार किया था। प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव उज्जैन में आईआईटी का कैंपस शुरू होने की घोषणा तक कर चुके हैं। इधर, सैटेलाइट कैंपस अटकने की एक और बड़ी वजह आईआईटी में हुए बदलाव को भी माना गया है। ये प्रस्ताव कार्यवाहक निदेशक प्रो. निलेश कुमार जैन के कार्यकाल में बना था। अभी प्रो.सुहास जोशी निदेशक है जो कि कैंपस का दायरा बढ़ाने में ज्यादा रुचि नहीं दिखा रहे।

आईआईटी के सैटेलाइट कैंपस में रोड़ा बनी पैसों की कमी
आईआईटी के सैटेलाइट कैंपस में रोड़ा बनी पैसों की कमी
केंद्रीय मंत्री से थी उम्मीद
उम्मीद जताई जा रही थी कि सैटेलाइट कैंपस के लिए केंद्र सरकार अपना खजाना खोलेगी। मगर, सफलता नहीं मिल सकी। सूत्रों के अनुसार आईआईटी को अभी केंद्र सरकार से मिले 350 करोड़ रुपए ही लौटाना है। नियमानुसार पुराने आईआईटी को केंद्र से मिलने वाले धन की 25 फीसदी और नए आईआईटी को 10 फीसदी राशि लौटाना पड़ती है। हाल ही में केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने आईआईटी इंदौर व उज्जैन का दौरा किया। लेकिन, उन्होंने भी इसके लिए सहमति प्रदान नहीं की।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.