मालेगांव ब्लास्ट: रामजी और संदीप डांगे का पहले ही हो चुका है एनकाउंटर

मुंबई में एटीएस के निलंबित अफसर के खुलासे से हड़कंप, इंदौर के रामजी और संदीप को लापता बताकर एटीएस ने घोषित कर रखा है इनाम


इंदौर।
महाराष्ट्र एटीएस के एक निलंबित अफसर ने मालेगांव ब्लास्ट के आरोपित रामजी कलसांगरा और संदीप डांगे के बारे में नया खुलासा कर हड़कंप मचा दिया है। इस अफसर के मुताबिक, एटीएस ने ब्लास्ट में वांटेड रामजी और संदीप को एटीएस ने 26 दिसंबर 2008 को ही एनकाउंटर में मार गिराया था।

एक न्यूज चैनल से बातचीत में निलंबित इंस्पेक्टर मेहबूूब मुजावर ने बताया कि रामजी उर्फ रामचंद्र और संदीप को एटीएस अभी भी वांटेड बता रही है, लेकिन वे बीते 19 अगस्त को सोलापुर के चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट की कोर्ट में इस बात के प्रमाण दे चुके हैं कि ये दोनों एटीएस द्वारा मारे जा चुके हैं। मेहबूूब के इस खुलासे से सनसनी फैल गई है।

 latest update of malegaon bomb blast 2008 Mumbai

गौरतलब है कि इस ब्लास्ट में आरोपित रहा रामजी इंदौर के बंगाली चौराहे के पास, जबकि संदीप लोकमान्यनगर में रहता था। रामजी मूलत: शाजापुर जिले का रहने वाला है और उसके परिवार के सदस्यों की वहीं होने की जानकारी है। बंगाली चौराहे के पास वाला मकान वे लोग बेचकर जा चुके हैं। संदीप के परिवार के सदस्य अब भी लोकमान्यनगर में ही रहते हैं।

यह भी पढ़ें: 
मिलिए लेडी यायावर से, जिन पर देश की महिलाएं करती है Proud

साध्वी प्रज्ञा भी थी आरोपित
29 सितंबर 2008 को एक मोटर साइकिल में बम लगाकर मालेगांव में ब्लास्ट किया गया था। इस हादसे में छह लोगों की जान चली गई थी, जबकि 100 से ज्यादा जख्मी हुए थे। मामले की जांच महाराष्ट्र एटीएस को सौंपी गई तो उसने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर, लेफ्टिनेंट कर्नल श्रीकांत पुरोहित सहित 14 आरोपितों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी। इन 14 लोगों में रामजी और संदीप भी शामिल थे।
Show More
Kamal Singh
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned