इंदौर / रहवासी क्षेत्र में घुसा खूंखार तेंदुआ, एक बच्ची समेत चार लोगों को किया घायल

चार लोगों को किया घायल, वन विभाग की टीम ने काफी मशक्कत के बाद तेंदुए को बेहोश करके पकड़ लिया...।

By: Manish Gite

Updated: 11 Mar 2021, 02:54 PM IST

इंदौर। शहर से लगे रालामंडल वन्य प्राणी अभ्यारण्य ( Ralamandal Wildlife Sanctuary ) से निकलकर एक खूंखार तेंदुआ बाहर आ गया। बुधवार को दिखने के बाद जब इसकी सर्चिंग की जा रही थी, तो गुरुवार को सुबह यह खंडवा रोड स्थित लिंबोदी गांव में नजर आया। इसे पकड़ने का प्रयास किया गया, लेकिन वो गुरुवार सुबह से ही वन विभाग के हाथ नहीं आया। इस दौरान तेंदुए के हमले में एक छोटी बच्ची समेत चार लोग घायल हो गए। हालांकि दोपहर ढाई बजे के करीब तेंदुए को बेहोश करके पकड़ लिया गया।

 

इंदौर से लगे रालामंडल से बाहर आया तेंदुआ लिंबोदी गांव के रहवासी क्षेत्र में छुप गया था। उसे पकड़ने के लिए वन विभाग की टीम ने डेरा डाल लिया था। तेंदुआ (leopard ) सुबह से एक बच्चे समेत चार लोगों को पंजा मारकर घायल कर चुका था। घायलों का इलाज अस्पताल में चल रहा है। दहशत में लोग अपने घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं। लिंबोदी गांव में कर्फ्यू जैसे हालात बन गए थे।

 

बताया जा रहा है कि सर्चिंग के दौरान गुरुवार सुबह लिंबोदी क्षेत्र में तेंदुआ दिख गया। वन विभाग की टीम जब तेंदुए को घेरने लगी तो वह खेमराज राठौर नाम के शख्स के घर में घुस गया। उस समय खेमराज बाथरूम में नहा रहे थे और उनकी पत्नी पद्मा किचन में खाना बना रही थी। तेंदुए ने उनकी पत्नी पर हमला कर दिया और पंजा मार दिया। उस कारण पद्मा के शरीर पर खरोंच आ गई है। पत्नी ने जब चिल्लाया तो उनके पति खेमराज बाथरूम से बाहर आ गए, इस पर तेंदुए ने उन पर भी हमला कर दिया।

 

इससके बाद तेंदुआ एक निर्माणाधीन मकान के निचले हिस्से में छुप गया, जहां चौकीदार सुखलाल का नाती और नातिन खेल रहे थे। तभी तेंदुआ ने नातिन को पकड़ लिया और सिर को मुंह में दबा लिया। यह नजारा देख बच्चे की मां और चौकीदार जोर से आवाज लगाते हुए बच्ची की तरफ दौड़े तो तेंदुए ने बच्चे को छोड़ दिया और चौकीदार पर लपक गया। उसका हाथ उसने अपने मजबूत जबड़े में भर लिया था।

 

दहशत में गांव में छाया सन्नाटा

तेंदुए के हमले के बाद लोग अपने घरों में घुस गए और गांव में कर्फ्यू जैसा माहौल लगने लगा था। पुलिस और वन विभाग की टीम ने तेंदुए को चारों तरफ से घेर लिया। लोगों को हिदायद की जा रही थी कि वे अपने घरों से न निकले। इस बीच पुलिस ने आसपास की दुकानें भी बंद करवा दी थी।

 

बंदूक की आवाज से डरा

इस बीच वन विभाग की ट्रेंकोलाइजर गन भी तैयार थी। जैसे ही एक कर्मचारी ने गन चलाई तो तेंदुआ डरकर उछाल मारते हुए बाहर निकल गया और दहाड़कर फिर भीतर चले गया। थोड़ी देर बाद उसे बेहोश करने वाला इंजेक्शन लगा दिया गया। थोड़ी देर बाद ही वो बेहोश हो गया और वन विभाग के अमले ने उसे पकड़ लिया। बाद में उसे जंगल में छोड़ दिया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः फिर शहर में घुसा तेंदुआ, अक्सर सड़कों पर आ जाते हैं खूंखार टाइगर

यह भी पढ़ेंः शहर में तेंदुआः दूसरे दिन भी एक ही बंगले तक पहुंचा तेंदुआ, दहशत में रहवासी
यह भी पढ़ेंः मध्य प्रदेश फिर बना तेंदुआ स्टेट, अब राज्‍य में मौजूद हैं 3421 तेंदुए

 

एक नजर

  • आरती शुक्ला पति शुकराज शुक्ला के साथ उनकी 7 माह की बच्ची को सिर में चोंट लगी। आरती को सिर में तो वहीं शुकराज शुक्ला को हाथ में चोंट है।
  • स्थानीय डाक्टर डॉ. संदीप राय ने प्राथमिक उपचार देकर उन्हें महाराजा यशवंत राव चिकित्सालय भेजा गया है।

तेंदुआ स्टेट बन चुका है मध्यप्रदेश

दिसंबर 2017 से मार्च 2018 तक देशभर में चले बाघ आकलन के दौरान प्रदेश में 3421 तेंदुओं की गणना हुई है, जो देशभर में सबसे अधिक हैं। केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावडेकर ने तेंदुआ गिनती के आंकड़े घोषित किए हैं। साल 2014 की गिनती में प्रदेश में 1817 तेंदुए थे। इस तरह प्रदेश में इन चार सालों के भीतर 1604 तेंदुों की बढ़ोतरी हुई है। इसी के साथ मध्यप्रदेश तेंदुआ स्टेट भी बन चुका है। इससे पहले मध्यप्रदेश टाइगर स्टेट, घड़ियाल स्टेट बन चुका है और गिद्ध स्टेट भी बनने जा रहा है।

Show More
Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned