दो माह से बंद है सडक़

एलआइजी लिंक रोड का काम अब तक अधूरा

By: रमेश वैद्य

Published: 04 Mar 2021, 07:01 PM IST

इंदौर. एलआइजी लिंक रोड का एक हिस्सा पिछले करीब दो माह से बंद है। यहंा पर सीवरेज लाइन डालने का काम नगर निगम को सडक़ निर्माण के ठीक दो वर्ष बाद याद आया है। सडक़ बनने के बाद डाली जा रही इस लाइन का काम पूरा हो चुका है, लेकिन खास बात यह है कि सीमेंट-कांक्रीट सडक़ को खोदकर अब फिर से कांक्रीट से ठीक करने के बजाय पेवर्स ब्लॉक लगाए जा रहे हैं। वहीं सडक़ लगाातर दो माह से बंद होने की वजह से आने-जाने वाले राहगीरों को खासी परेशानी हो रही है।
लगातार बढ़ रहा टै्रफिक
करीब 4 वर्ष पहले बनी लिंक रोड बनने के बाद एमआइजी चौराहे से खजराना रिंग रोड तक के बीच आना-जाना आसान हो गया है। कई कॉलोनियों समेत रिंग रोड से सीधे एलआइजी चौराहा तक पहुंचने के लिए इसी सडक़ का इस्तेमाल किया जाता है। कई लोग तो रेडिसन चौराहे और बॉम्बे हॉस्पिटल से विजय नगर से बीआरटीएस पकडऩे के बजाए सीधे इस लिंक रोड से एलआइजी चौराहा पहुंचना पसंद करते हैं। ऐसे में इस रूट का टै्रफिक रोजाना बढ़ रहा है। निगम अधिकारियों का कहना है काम जल्द ही पूरा हो जाएगा। शीघ्र ही सडक़ दूसरी तरफ भी यातायात के लिए मार्ग चालू हो जाएगा।
दावा निकला खोखला
दो माह पूर्व ही नगर निगम ने यहां पर सीवरेज लाइन डालने के खुदाई शुरू कर दी। यह लाइन चौराहे से लेकर रिंग रोड तक आने वाली लेन में डाली गई है। पिछले दो माह से लाइन डालने का काम जारी है जो अब तक पूरा नहीं हुआ है। इस काम को दो माह में पूरा करने का दावा किया गया था, लेकिन अब तक काम अधूरा ही है।
पेवर्स ब्लॉक से बढ़ेगी परेशानी
इस सडक़ पर करीब ४ से 5 फीट के हिस्से में लगाए गए पैवर्स ब्लॉक सडक़ के चालू होते ही परेशानी का कारण बनेेंगे। यहां पर ठेकेदार द्वारा सिर्फ सडक़ के गड्ढे भरने के बाद ब्लॉक लगाने का काम शुरू कर दिया है, जबकि इसके लिए ठोस बेस बनाने की जरूरत होती है। ऐसे में किए जा रहे इस कमजोर काम की वजह से आने वाले दिनों में वाहनों के गुजरते ही इनकी पकड़ ढीली हो जाएगी और फिर से सडक़ का उखडऩा शुरू हो जाएगा।
जांच करवाई जाएगी
गहरी खुदाई की गई है, इस वजह से वहां पहले पेवर्स ब्लॉक लगाना जरूरी है। हालांकि हमने इसकी मोटाई ज्यादा रखी है। लेकिन फिर भी यदि ब्लॉक लगाने में यदि किसी तरह की गलती की जा रही है तो उसकी जांच करवाई जाएगी। साथ ही काम जल्द पूरा करने के निर्देश दिए जाएंगे। - देवेंद्र सिंह, अपर आयुक्त

रमेश वैद्य Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned