बस चालक से 300 रुपए प्रतिदिन गुंडा टैक्स वसूलने वाला बदमाश गिरफ्तार

बस चालक से 300 रुपए प्रतिदिन गुंडा टैक्स वसूलने वाला बदमाश गिरफ्तार
crime

Krishnapal Singh Chauhan | Updated: 17 May 2019, 06:58:02 AM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

भंवरकुआ थाना क्षेत्र का मामला, चालक को धमकी मिलने के बाद बस एसोसिएशन व ट्रेवल्स संचालकों ने एसएसपी से की थी शिकायत

 

तीन ईमली बस स्टैंड से शहर के बाहर जाने वाली प्रत्येक बस से 300 रुपए गुंडा टैक्स वसूलने वाले लिस्टेड बदमाश को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। बदमाश ने हाल ही में एक बस के चालक को रुपए नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दी थी। घटना के बाद बस एसोसिएशन व ट्रेवल्स संचालक ने एसएसपी से मदद मांगी। वहीं गुंडे को राजनैतिक संरक्षण देने वाले लोगों ने उसे छुडवाने का प्रयास किया। क्षेत्र में उसकी दहशत समाप्त करने के लिए पुलिस ने उसका जुलूस निकाला है।

टीआई संजय शुक्ला के मुताबिक क्षेत्र का लिस्टेड बदमाश आरोपी दीपक पिता गणेश वर्मा निवासी तीन ईमली बस स्टैंड के समीप को गिरफ्तार किया है। बुधवार को आरोपी ने ओम सांई राम ट्रेवल्स के कंडक्टर फरियादी कमल पिता राजभर विश्वकर्मा निवासी नृसिंह कॉलोनी, टीकमगढ़ को धमकाया। कहने लगा की बस को तीन ईमली से ले जाना है तो 300 रुपए प्रतिदिन गुंडा टैक्स देना होगा। रुपए नहीं देने पर बदमाश ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी। घटना के बाद ट्रेवल्स संचालक व एसोसिएशन के लोग शाम को एसएसपी के पास शिकायत करने पहुंचे। उन्होंने बताया की तीन ईमली बस स्टैंड से करीब 100 बस रोज शहर से बाहर जाती है। इस मान से गुंडा करीब 30 हजार रुपए प्रतिदिन वसूल रहा होगा। आदेश मिलते ही टीम ने आरोपी को गिरफ्तार कर उसका घटनास्थल से जुलूस निकाला। उसके साथियों की तलाश में टीम जुटी है। आरोपी लिस्टेड बदमाश है उसके खिलाफ पूर्व में बलवा, घर में घुसकर मारपीट, अवैध वसूली, बलात्कार सहित छह केस दर्ज है। लगातार उसके अपराधिक गतिविधियों में लिप्त रहने पर अप्रैल माह में उसे छह माह के लिए बाउंड ओवर किया। लेकिन उसने शर्तो का उल्लंघन कर फिर से अपराध किया। मामले में उसे एसडीएम कोर्ट पेश किया जहां से उसे अक्टूबर माह तक जेल भेजा है। इसी तरह वसूली के मामले में भी उसका जेल वारंट कटा है।

गुंडे को छुड़ाने में राजनैतिक दल जुटे

पुलिस सूत्रों की माने तो जैसे ही गुंडा टैक्स वसूलने के मामले में बदमाश पकड़ाया। उसके बाद से ही थाने में उसे राजनैतिक संरक्षण देने वालों के फोन आने लगे। कोई कहने लगा की आरोपी उसका अच्छा परिचित है। वह फिर कोई एेसी गलती नहीं करेगा उसे छोड़ दो। तो किसी ने उसे राजनैतिक पार्टी का कार्यकर्ता बता मामले में एफआईआर नहीं करने तक का दबाव बनाया। लेकिन जब थाने से एसएसपी द्वारा मामले में केस दर्ज व आरोपी को गिरफ्तार करने के निर्देश देने की बात राजनैतिक दल से जुड़े लोगों के कान तक पड़ी तो फोन आने बंद हो गए।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned