मजदूर बोले-जब तक हमें अपने गांव नहीं जाने देंगे तब तक नहीं हटेंगे

कोरोना : मालवा-निमाड़ राउण्डअप - सोमवार सुबह फिर डेढ़ घंटे किया चक्काजाम

By: रमेश वैद्य

Published: 05 May 2020, 02:13 AM IST

मालवा और निमाड़ में शामिल धार, खंडवा और बड़वानी जिला रेड जोन में शामिल है। लॉकडाउन 03 में कुछ स्थानों पर छूट दी गई है। धार में सोमवार किराना,खाद बीज की दुकानों को छूट दी गई। छूट मिलने पर ग्रामाीण किसान कृषि दवाई, बीज और उपकरण लेने के लिए धार पहुंच। कंटेनमेंट एरिया में सख्ती रही। पूरे शहर में चहल-पहल नजर आई। इस दौरान छूट का फायदा उठाते हुए बेवजह लोग घूमते भी नजर आए।

4 दिन में 180 किमी पहुंचे

बिजासनघाट (बड़वानी). बड़वानी जिले के बिजासन स्थित मध्यप्रदेश-महाराष्ट्र बॉर्डर पर रविवार रात रुकने के बाद यूपी और बिहार के लोगों ने सोमवार सुबह 8.30 बजे फिर चक्काजाम कर दिया। मजदूर अपने गांव जाने की मांग पर अड़े रहे। एसपी डीआर तेनीवर और ग्रामीण थाना प्रभारी वीडीएस परिहार बल के साथ मौके पर पहुंचे और मजदूरों को समझाइश दी। इसके बाद भी वह नहीं माने। मजदूरों का कहना था कि जब तक हमें अपने गांव नहीं जाने देंगे तब तक हम नहीं हटेंगे। एसपी ने निर्णय लेते हुए मजदूरों को छोड़े ने की बात कही। उसके बाद ये मजदूर करीब 10.30 बजे रोड से हटे और अपने-अपने वाहनों में बैठकर रवाना हो गए। पुलिस अधीक्षक के निर्णय के बाद किसी को रोका नहीं गया। वाहन और पैदल जा रहे मजदूरों को बॉर्डर से जाने दिया गया।
संगीता पति काशीराम झापड़ीपाडला ने बताया कि हम यवला में मजदूरी करने गए थे। काम बंद होने व खाने-पीने की समस्या के चलते पैदल ही अपने गांव निकल पड़े। रोजाना 30 से 40 चलकर बिजासन तक 4 दिन में 180 किमी पहुंचे। 5 माह की बच्ची को लेकर चलने को मजबूर थे। वहीं मेरे पति भी 3 साल की बच्ची को कंधे व 6 साल की बच्ची को पैदल ही चलकर लाए। झापड़ीपाड़ला से यवाला की दूरी 240 किमी से अधिक है।
रवींद्र पिता काशीराम ने बताया कि यवला में काम करने गए थे। काम बंद होने से खाने-पीने रहने की समस्या के चलते अपने गांव सेंधवा के पास थिगली पैदल ही निकले। पति-पत्नी व 2 बच्चे सहित यवला से थिगली की दूरी 205 किमी है। एक दिन में 50 किमी चलकर अभी चौथे दिन बिजासन तक पहुंचे है। शकील अहमद निवासी अहरिया जिला बिहार ने बताया कि हम 50 लोग मुंबई से आए है। एक दिन में 75 किमी से अधिक का सफर तय कर रहे है।

सब्जी खरीदने पर 200 रुपए जुर्माने का प्रावधान
खंडवा. जिला रेड जोन में है, इसलिए यहां बाजार खोलने की अनुमति भी जारी नहीं की गई है। सोमवार सुबह से बाजार में चहल पहल दिखी। लोग दोपहिया और चारपहिया वाहनों से बाजार में निकले। ज्यादा भीड़ बढ़ी तो पुलिस सख्त हुई। बेवजह घूम रहे लोगों को उठक-बैठक लगवाई तो वहीं सडक़ पर कसरत भी कराई। कुछ पर डंडे भी बरसाए। उधर, कंटेनमेंट क्षेत्रों में लोग नियमों का मखौल उड़ाकर बेरिकेड्स कूदते नजर आए। इस बीच पेट्रोल पंपों पर पहले और दूसरे लॉक डाउन के मुकाबले ज्यादा भीड़ नजर आई। जिला अस्पताल की ओपीडी में भी संख्या बढ़ी है। बता दें कि यहां 17 मई तक जरूरी सामान की सिर्फ होम डिलीवरी हो सकेगी, दुकानें नहीं खुलेंगी। थोक मंडी में आमजन द्वारा सब्जी खरीदने पर 200 रुपए जुर्माने का प्रावधान है। बग़ैर मास्क के घूमने पर 100 रुपए का जुर्माना तो लगेगा ही, साथ में 10 रुपए का मास्क खरीदना भी अनिवार्य है।

पुलिस ने समझाइश देकर भिजवाया घर
बड़वानी. बड़वानी जिले को भी रेड जोन में शामिल किया गया है। यहां अभी तक कुल 26 पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं। रेड जोन में होने के कारण जिले मे बाजार खोलने की अनुमति जारी नहीं की गई। हालांकि इसके बाद भी कुछ लोग बाजारों में पहुंचे। इन्हें पुलिस ने समझाइश देकर घर भिजवाया।
शहर में सख्ती, अंचल में छुटपुट दुकानें खुली
खरगोन . शहरी क्षेत्रों में लॉक डाउन की सख्ती से बाजार की रौनक गायब है। सोमवार को मुख्यमंत्री के संदेश की बाद ओरेंज जोन वाले इलाकों में सशर्त दुकानें खुलने की घोषणा हुई थी, लेकिन देर शाम जिला प्रशासन ने आदेश जारी करते हुए 17 मई तक कफ्यऱ् के पालन करने की बात कही। इससे दुकानें खुलने को लेकर भ्रम की स्थिति रही। शहर में मेडिकल स्टोर को छोडक़र सभी प्रतिष्ठान बंद रहे। मंडलेश्वर में सोमवार सुबह 7 बजे किराना सहित हार्डवेयर आदि दुकानें खोल दी गई थी। इसकी सूचना मिलते ही पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए दुकानों को फिर बंद करा दिया। सेगांव, गोगावा, बिस्टान, धरगांव संवाददाता से मिली जानकारी के इक्का-दुक्का किराना दुकाने ही कुछ समय के लिए खुल रही है। वही प्रशासन कब आदेश पर खाद बीज की दुकानें सुबह 10 से शाम 4 बजे तक खुली रखने की छूट मिली है।
बुरहानपुर. शहर में कोरोना पॉजिटिव केस मिलने के बाद प्रशासन ने शिकंजा कस दिया। 2 मई से बुरहानपुर में कफ्र्यू के आदेश जारी कर दिए गए हैं। कफ्र्यू 4 मई तक जारी रहेगा। इसलिए शहर में किसी तरह की कोई छूट नहीं दी गई। सोमवार को फिर नए 16 केस सामने आए हैं। यह देखते हुए प्रशासन और सख्ती बढ़ा दी।
झाबुआ . आदिवासी बहुल जिला झाबुआ ग्रीन जोन में है। सोमवार को सुबह यहां लॉकडाउन में कुछ शर्तो के साथ 6 घंटे के लिए बाजार खुला। बाजार खुलते ही यहां भीड़ उमड़ी। इस दौरान कई जगह सोशल डिस्टेंसिंग टूटती नजर आईं। वहीं कई ग्रामीण तो बिना मास्क के घूमते दिखे। हालांकि यहां अभी तक एक भी पॉजिटिव केस नहीं आया है। दोपहर में करीब 1 बजे कलेक्टर प्रबल सिपाहा और एसपी विनीत जैन शहर के हालात का जायजा लिया। बस स्टैंड के नजदीक छतरी चौक पर उन्होंने मास्क पहने बिना घूम रहे ग्रामीणों को बुलाकर समझाइश दी।

बडनग़र विधायक संदिग्ध कोरोना पॉजिटिव, 10 केस आए
उज्जैन. जिले की बडनग़र तहसील के कांग्रेस विधायक मुरली मोरवाल प्रीजेंटिव पॉजिटिव पाए गए हैं, वे इलाज कराने के लिए इंदौर गए हैं। सोमवार की सुबह प्राप्त कोरोना की रिपोर्ट में चार पॉजिटिव बडनग़र के हैं। इनमें से दो जो संदिग्ध पॉजिटिव है। उसमें विधायक मुरली मोरवाल और उनके परिवार का एक अन्य सदस्य भी शामिल है। विधायक लॉकडाउन के बाद से ही सेवा कार्य में लगे थे एवं कई क्षेत्रों में जा रहे थे, संभवत: इसी दौरान वे कोरोना वायरस की चपेट में आए, विधायक का कहना है कि 5 लोग पहले भी संभावित पॉजिटिव आए थे जिन्होंने इंदौर पहुंचकर इलाज कराया और ठीक हो गए। सोमवार को उज्जैन में 10 नए पॉजिटिव मामले आए हैं, अब जिले में आंकड़ा 166 हो गया है व 35 की मौत हुई है।
रतलाम में एक और कोरोना पॉजिटिव हुआ ठीक
रतलाम. जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या सोमवार को स्थिर रही, रतलाम में लॉकडाउन के दौरान अब तक करीब 16 कोरोना पॉजिटिव मिले है, इनमें से पहले 9 फिर 2 और अब एक संक्रमित ठीक हो गया है, इस तरह जिले में कुल 12 लोगों ने कोरोना को मात दे दी है, अब 4 अन्य पॉजिटिव मरीज शेष है।
देवास में 8 मरीजों की रिपोर्ट आई नेगेटिव, संख्या स्थिर
देवास। जिले में लगातार तीसरे दिन सोमवार को भी कोरोना से राहत रही। सोमवार की शाम तक 8 रिपोर्ट आई, सभी नेगिटिव निकली। जिले में अब तक कुल पॉजिटिव मरीज 28, है, जबकि 11 डिस्चार्ज होकर घर लौट गए हैं। वहीं, 7 मरीजों की विभिन्न स्थानों पर 7 मौत हो चुकी है, जिले में अब 10 संक्रमितों का उपचार किया जा रहा है।
मंदसौर-नीमच-शाजापुर-आगर में कोई नया केस नहीं
उधर, मंदसौर, नीमच, शाजापुर और आगर-मालवा जिलों में सोमवार की शाम तक कोई नया केस नहीं आया। इन जिलों में कोरोना पॉजिटिव की संख्या अब स्थिर होने लगी है।

रमेश वैद्य Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned