बंपर पैदावार फिर भी अन्नदाता के हाथ खाली

लॉकडाउन में खेतों में सड़ रहीं सब्जियां और फल

मालवा-निमाड़. कोरोना की रोकथाम के लिए लागू किए गए लॉकडाउन में मालवा-निमाड़ के किसानों की परेशानियां दिनोंदिन बढ़ रही हैं। महीनों की मेहनत के बाद सब्जियों और फलों की उपज आई तो बाजार और मंडियां बंद हैं। कसानों को लागत दाम तक नहीं मिल रहे। ऐसे में फलों-सब्जियों की तुड़ाई महंगी पड़ रही है, लिहाजा उपज को खेत में ही छोड़ दिया गया है। नुकसान के बाद अब किसानों के सामने आगामी फसल की तैयारियां करना मुश्किल हो रहा है।

खरगोन: कम दाम में बेच रहे उपज
तरबूज, केला, टमाटर, हरी सब्जियां और प्याज का बेहतर उत्पादन हुआ, लेकिन मंडियां नहीं खुलने से लागत दाम भी नहीं मिल रहे। झिरन्या, भीकनगांव और चिरिया क्षेत्र के किसान राजेंद्र सिंह बताते हैं कि प्याज खेतों में खराब हो रही है। व्यापारी ३०० से ४०० रुपए क्विंटल का भाव दे रहे हैं, जो लागत से कम है।
खंडवा: नहीं मिल रहे खरीदार
जिले में १८ हजार हेक्टेयर में उद्यानिकी फसल बोई गई थीं। पांच हजार हेक्टेयर में प्याज का बंपर उत्पादन हुआ है। १५०० हेक्टेयर में तरबूज है। मंडी बंद होने एवं जिले की सीमाएं सील होने से खरीदार नहीं मिल रहे। किसान धरमचंद गुर्जर ने १० एकड़ में पपीता लगाया था। लॉकडाउन के कारण व्यापारी नहीं आए। पेड़ों से फल गिर रहे हैं।
बुरहानपुर: किसानों के लिए घाटे का सौदा
केले की नीलामी बंद होने से किसानों को नुकसान हो रहा है। वर्तमान में केले की खरीदी मंडी के बाहर हो रही है, पर किसानों को लागत दाम भी नहीं मिल रहे। समर्थन मूल्य १७६० रुपए क्ंिवटल है, पर बिचौलिए ९०० से १२०० रुपए क्विंटल में खरीदी कर रहे हैं।

मंदसौर से आगे बढ़ा झूंड, नीमच सीमा पर डेरा
मंदसौर जिले में दो दिनों से टिड्डियों का आतंक बढ़ता ही जा रहा है, राजस्थान के भीलवाड़ा और चित्तौड़ के रास्ते नीमच होते हुए मंदसौर जिले में टीड्डियों के दल ने दस्तक दी, हालांकि कृषि विभाग के अधिकारियों का दावा है कि अभी खेतों में फसल नहीं है तो नुकसान नही है लेकिन एक झुंड में जिस पेड़ पर बैठती है और जहां बैठती है उस पौधे और पेड़ को पूरी तरह खत्म कर रही है। नीमच जिले में गुरुवार-शुक्रवार की रात लगातार दूसरी रात टिड्डी दल रुका। बुधवार को टिड्डियों को पहला दल घसुंडी जागीर के समीप रुका था। जिसे वहीं नियंत्रण किया गया किंतु शुक्रवार रात को जिले के दो अलग अलग ग्रामों ग्वाल तालाब एवं गादोला में दो टिड्डी दल पहुंच गया। टिड्डियों के तीन और दल राजस्थान से नीमच जिले की ओर बढ़ रहे हैं। शनिवार को भी नीमच की राजस्थान से लगने वाली सीमा के कई गांव के आसपास सुबह के समय टिड्डी के समूह खेतों के आसपास मंडराते नजर आए हैं।

रमेश वैद्य Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned