scriptLoss of tolerance, increased distrust, homes being broken by mobile | सहनशीलता में कमी, अविश्वास बढ़ा, मोबाइल से टूट रहे घर | Patrika News

सहनशीलता में कमी, अविश्वास बढ़ा, मोबाइल से टूट रहे घर

कोरोना काल में बढ़े पति-पत्नी के झगड़े, इंदौर कुटुंब न्यायालय में 11 महीने में आए 2500 केस

- 2018 के बाद हर साल हो रहा तलाक के मामलों में इजाफा

इंदौर

Published: December 18, 2021 08:18:32 pm

विकास मिश्रा, इंदौर

कोरोना काल के दौरान पति-पत्नी के झगड़ों में इजाफा हुआ है। सहनशीलता में कमी, एक-दूसरे पर अविश्वास और मोबाइल का अधिक इस्तेमाल भी घर टूटने की बड़ी वजह बन रहा है। इंदौर कुटुंब न्यायालय में पिछले 11 महीने में तलाक से जुड़े करीब 2500 केस रजिस्टर्ड हुए हैं। 11 महीनों में इतने केस का यह सबसे बड़ा आंकड़ा बताया जा रहा है।
सहनशीलता में कमी, अविश्वास बढ़ा, मोबाइल से टूट रहे घर
सहनशीलता में कमी, अविश्वास बढ़ा, मोबाइल से टूट रहे घर
इन केसों पर रिसर्च में विवाद की यह वजह

- पति-पत्नी में सहनशीलता कम हुई है।

- छोटी-छोटी बातों पर विवाद में अलग रहने का निर्णय लिया।

- मोबाइल पर अधिक समय बिताना, फोन में पासवर्ड होने से भी दूरियां बढ़ीं।
- मायके वालों का अधिक हस्तक्षेप होने से भी रिश्तों में आई खटास।

लगातार बढ़ रहे केस

आरटीआइ में मिली जानकारी के अनुसार, इंदौर कुटुंब न्यायालय में वर्ष 2018 में 2250 और 2019 में 2400 केस तलाक के लिए रजिस्टर्ड हुए। 2020 में लॉकडाउन और कोरोना कफ्र्यू के चलते कोर्ट कम समय के लिए खुली, इसके बावजूद करीब 1700 केस आए। 2021 में नवंबर तक 2500 केस आए हैं। ये केस हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के तहत धारा 13 ए (एकतरफा तलाक), 13-बी (आपसी सहमति से तलाक) एवं धारा 9 (विवाह की पुनस्र्थापना) से जुड़े हैं। भरण पोषण, इसकी वसूली और बच्चों की कस्टडी से जुड़े केस अलग हैं।
100 में सात जोडिय़ां टूटने की कगार पर

पारिवारिक विवादों से जुड़े केसों पर रिसर्च कर चुके लॉ प्रोफेसर पंकज वाधवानी ने बताया, पिछले एक दशक में भारत में तलाक के केसों में इजाफा हुआ है। 2010 से पहले औसतन 1 हजार में से सात जोड़े तलाक का केस लगाते थे, लेकिन अब यह आंकड़ा हर 100 केस में सात तक पहुंच गया है।
विदेशों से बेहतर हम

वाधवानी ने बताया, तलाक के बढ़ते आंकड़ों के बावजूद भारत में दांपत्य जीवन को अधिक सम्मान दिया जा रहा है। फैमेली रिसर्च फाउंडेशन और इंटरनेशनल फैमेली हैप्पीनेस इंडेक्स के आंकड़े भारत को अन्य देशों की तलुना में बेहतर बताते हैं। अमरीका में हर 100 में करीब 50, स्वीडन में 54, रूस में 43, इंग्लैंड में 42, जर्मनी में 39, सिंगापुर में 17, इजराइल में 14, जापान में 2 और श्रीलंका में करीब 1.5 प्रतिशत मामलों में तलाक की स्थिति बनती है।
इंदौर कोर्ट में आए मामले

केस-1

रेनू और सचिन (परिवर्तित नाम) की शादी 2018 में हुई। शादी के बाद रेनू नौकरी करना चाहती थी, जिसे सचिन के घर वालों ने नहीं माना। नौकरी की इच्छा पूरी नहीं होने और मायके का हस्तक्षेप बढऩे से विवाद हुए और नौबत तलाक तक पहुंची। तलाक का मुकदमा लंबित है।
केस-2

महेश और निशा (परिवर्तित नाम) की शादी 2015 में हुई। दोनों की एक संतान है। सोशल मीडिया पर महेश की अन्य महिलाओं से बातचीत को लेकर निशा को अविश्वास हुआ और दोनों ने अलग होने का फैसला कर लिया। दो साल से केस विचाराधीन है।
केस- 3

रौनक और संदीप (परिवर्तित नाम) की 2016 में अरेंज कम लव मैरिज हुई। कोरोना कफ्र्यू के बाद भी दोनों ने एक-दूसरे के बजाए मोबाइल को अधिक समय दिया। मायके पक्ष का हस्तक्षेप और अविश्वास के चलते तलाक की परिस्थितियां बनीं। केस विचाराधीन है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

Uttarakhand Election 2022: रुद्रप्रयाग में अमित शाह ने पूछा, कैसी सरकार चाहिए, विकास या भ्रष्टाचार वाली?शिवराज सरकार के मंत्री ने राष्ट्रपिता को बताया फर्जी पिता, तीन पूर्व पीएम पर भी साधा निशानापूर्व CM अशोक चव्हाण ने किया खुलासा: BJP सांसद मुरली मनोहर जोशी ने रिपोर्ट में खुद कहा 'PM मोदी सेना के साथ खिलवाड़ कर रहे'NeoCov: नियोकोव वायरस के लक्षण, ठीक होने की दर, जानिए सबकुछPandit Jasraj Cultural Foundation: संगीत के क्षेत्र में भी होना चाहिए तकनीक और आईटी का रिवॉल्यूशन: PM ModiCorona: गुजरात में कोरोना को मात दे चुके हैं 10 लाख से अधिक लोगकाशी विश्वनाथ मॉडल पर बनेगा महांकाल कॉरीडोर, सिंहस्थ-28 पर अभी से कामCovid-19 Update: महाराष्ट्र में बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,948 नए मामले, 103 मरीजों की मौत हुई।
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.