कुपोषण कैसे दूर करेगा विभाग

कुपोषण कैसे दूर करेगा विभाग

Amit S. Mandloi | Publish: Mar, 14 2018 08:10:10 AM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

पोषण वृद्धि के लिए की जाएगी काउंसलिंग, राष्ट्रीय पोषण मिशन के अंतर्गत की जाएगी काउंसलिंग

इन्दौर. बच्चों को कुपोषण से बचाने, कम वजन के साथ जन्मे बच्चों की संख्या में कमी लाने, एनीमिया के प्रसार में कमी लाने जैसे उ²ेश्यों को लक्षित कर भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय पोषण मिशन शुरु किया गया है। जिसके अंर्तगत कुपोषण को दूर करने समेत विभिन्न लक्ष्य तय किए गए हैं। यह लक्ष्य तीन वर्षों के लिए निर्धारित किए गए हैं। २०१७-१८ से २०१९-२० के मध्य ३ वर्ष की अवधि में ० से ६ वर्ष तक के बच्चों, गर्भवती माताओं के पोषण स्तर में सुधार लाया जाना है। यह लक्ष्य कैसे पूरे होंगे इस संबंध में महिला बाल विकास विभाग के डिस्ट्रिक प्रोग्राम ऑफीसर रजनीश सिन्हा ने बताया कि इन्हें फैमली काउंसलिंग के जरिए पूरा किया जाएगा। हम मॉनीटरिंग करेंगे और उसके बाद काउंसलिंग करेंगे। उन्होंने कहा कि गर्भवती महिला एवं बच्चों के खाने में संतरा, नींबू, चटनी जैसी अन्य चीजें शामिल हो सकें ताकि शरीर में आयरन अवशोषित हो सके इसके लिए लोगों की काउंसलिंग की जाएगी। साथ ही उन्होंने बताया कि राष्टीय पोषण मिशन में मल्टी सेक्टर अप्रोच रखी गई है जिसके तहत महिला बाल विकास विभाग के अलावा पीएचई, हेल्थ, मनरेगा, रूरल डेवलपमेंट सहित विभिन्न विभागों को इसमें जोड़ा गया है जो लक्ष्यपूर्ती के लिए संयुक्त रूप से प्रयास करेंगे।

ये लक्ष्य किए गए निर्धारित

उ²ेश्य लक्ष्य
-ठिगनेपन से बचाव एवं इसमें कमी लाना(० से ६वर्ष) ६ प्रतिशत- २ प्रतिशत प्रति वर्ष

-बच्चों का अल्प पोषण से बचाव एवं इसमें कमी लाना (० से ६वर्ष ६ प्रतिशत- २ प्रतिशत प्रति वर्ष
-बच्चों में एनीमिया के प्रसार में कमी लाना(६ से ५९ माह) ९ प्रतिशत- ३ प्रतिशत प्रति वर्ष

-१५ से ४९ वर्ष की किशोरियों, गर्भवती एवं धात्री माताओं में एनीमिया ९ प्रतिशत- ३ प्रतिशत प्रति वर्ष
के प्रसार में कमी लाना

-कम वजन के साथ जन्म लेने वाले बच्चों की संख्या में कमी लाना ६ प्रतिशत- २ प्रतिशत प्रति वर्ष

सुधार के लिए लोगों में बिहेवियर चेंजेस जरूरी हैं मिशन के अंतर्गत व्यवहार परिवर्तन करके पोषण स्तर में वृद्धि करेंगे इसके लिए हम फैमली काउंसलिंग करेंगे। रजनीश सिन्हा, डिस्ट्रिक प्रोगाम ऑफीसर, महिला बाल विकास विभाग

 

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned