महू लिफ्ट हादसा : मौत के कोहराम के बीच खुशियां लेकर आई 'नन्ही परी'

गम के बीच खुशियां समेट लाई सारा

 

By: रीना शर्मा

Published: 03 Jan 2020, 01:03 PM IST

इंदौर/महू. पातालपानी हादसे में जान गंवाने वाले उद्योगपति पुनीत अग्रवाल की बहू साक्षी ने गुरुवार को बेटी को जन्म दिया। मौत के कोहराम के बीच ये नन्ही परी खुशियां लेकर परिवार में आई। उसका नाम सारा रखा गया है। दरअसल, यह नाम पुनीत और अग्रवाल परिवार ने पहले से ही तय कर लिया था। सुबह 10.30 बजे हुई सारा के जन्म के दौरान पिता निपुण और अन्य करीबी मौजूद थे। इस बीच, हादसे में मृत गौरव और उनके बेटे आर्यवीर का मुंबई में अंतिम संस्कार कर दिया गया। हादसे में घायल गौरव की पत्नी निधि की हालत में फिलहाल कोई सुधार नहीं है।

महू लिफ्ट हादसा :  मौत के कोहराम के बीच खुशियां लेकर आई 'नन्ही परी'

सारा के साथ काटा केक

पुनीत अग्रवाल के पुत्र निपुण का गुरुवार को जन्मदिन था और इसी दिन पुत्रवधू साक्षी की सिजेरियन डिलेवरी हुई। साक्षी ने बेटी को जन्म दिया। परिवार से जुड़े राजेश अग्रवाल और विनय बाकलीवाल ने बताया कि बेटी का नाम सारा रखा गया है। परिवार ने अस्पताल की खुशनुमा तस्वीर भी जारी की। इसमें निपुण अपनी मां नीति और सारा के साथ केक काट रहे हैं।

महू लिफ्ट हादसा :  मौत के कोहराम के बीच खुशियां लेकर आई 'नन्ही परी'

31 दिसंबर को पुनीत समेत 6 लोगों की मौत हुई थी

महू में 31 दिसंबर की पार्टी के दौरान पातालपानी स्थित फार्म हाउस में कैप्सूल लिफ्ट पलटने से उद्योगपति पुनीत अग्रवाल समेत 6 लोगों की मौत हो गई थी। हादसे में पुनीत, उनके दामाद ट्रांसपोर्टर पलकेश पुत्र मुकेश अग्रवाल निवासी डीबी सिटी इंदौर, बेटी पलक, पोते नव, पलकेश के जीजा गौरव अग्रवाल निवासी मुंबई, गौरव के बेटे आर्यवीर की मौत हो गई। गौरव की पत्नी निधि गंभीर रूप से जख्मी हैं।

महू लिफ्ट हादसा :  मौत के कोहराम के बीच खुशियां लेकर आई 'नन्ही परी'

लिफ्ट में लोड ज्यादा होने से निपुण ऊपर ही रह गए थे

पातालपानी को ऊंचाई से देखने के लिए 100 फीट ऊंचा टावर बनाया था। परिवार के लोगों ने बताया था कि लिफ्ट से टावर से नीचे आते वक्त निपुण भी सवार होने वाला था, लेकिन उसे लगा कि ज्यादा लोग हो गए हैं, तो वह रुक गया। उसने पुनीत को बोला कि पापा आप लोग पहले चले जाओ, मैं बाद में आता हूं। इसके बाद लिफ्ट कुछ ही नीचे आई और हादसा हो गया। उधर, फार्म हाउस के कर्मचारी का कहना है किसर (पुनीत अग्रवाल) जब महू में रहते थे, तब सुबह साइकिल से फार्म हाउस आते थे। लिफ्ट अभी 20-25 दिन पहले ही लगी है। इसमें सामान चढ़ाने-उतारने का काम होता था। टावर में सीढ़ी भी बन रही है। घटना के बाद निपुण सर उसी से नीचे उतरे होंगे।

सब कुछ आंखों के सामने छीन लिया

हादसे से पुनीत की पत्नी नीति पथरा सी गईीं। बेटे निपुण के सामने चुप्पी तोड़ते हुए कहा, बेटा... भगवान ने सब कुछ आंाों के सामने छीन लिया। पति पोते के शव घर आए तो चुपचाप देाती रहीं।

रीना शर्मा Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned