खुद बीमार हो रहा सरकारी अस्पताल

खुद बीमार हो रहा सरकारी अस्पताल

nidhi awasthi | Publish: Feb, 15 2018 06:13:25 PM (IST) | Updated: Feb, 15 2018 06:13:26 PM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

बिना आवेदन दिए छुट्टी पर डॉक्टर

पीथमपुर. उद्योग नगरी के सागोर स्थित सरकारी अस्पताल के लंबे समय से हाल-बेहाल हैं। अब तो हालात ये हो गए हैं कि यहां पदस्थ महिला चिकित्सक बिना अवकाश आवेदन दिए खुद को उस समय अवकाश पर बताती हैं। जब पुलिस द्वारा एक शव पीएम के लिए भिजवाया जाता है। लंबे समय से पीएम के इंतजार में रखे शव को देख परिजनों के लिए भी असहज परिस्थितियां निर्मित हो जाती हैं, लेकिन सागोर अस्पताल के जवाबदारों को जरा-भी मानवीय संवेदनाओं का एहसास नहीं होता।
मामला मंगलवार का है, जब एक महिला की मौत होने पर सागोर पुलिस ने मर्ग कायम कर पीएम के लिए शव सरकारी अस्पताल भिजवाया। सागोर थाने में कायम सभी मर्ग का पीएम पीथमपुर अस्पताल में सागोर के चिकित्सकों द्वारा किया जाता है, लेकिन यहां पदस्थ डॉ. सपना शर्मा के मनमानी और गैर जिम्मेदाराना व्यवहार ने न सिर्फ मानवीय संवेदनाओं का मजाक उड़ाया बल्कि वरिष्ठ विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत की ओर भी संकेत स्पष्ट कर दिए कि किस तरह बिना अवकाश आवेदन दिए डॉक्टर जैसे महत्वपूर्ण जिम्मेदार पद पर आसीन सरकारी अधिकारी मनमानी करते हैं।
कई ग्रामीणो ने भी बताया कि डॉ. शर्मा लगभग प्रतिदिन करीब सुबह 11 बजे इंदौर से यहां अस्पताल आती हैं और दोपहर एक-डेढ़ बजे तक वापस चली जाती हैं। वे इंदौर से अप-डाउन करती हैं। इस संबंध में डॉ. सपना शर्मा ने कहा कि वे हेड क्वार्टर लीव का आवेदन दे चुकी हैं। उस दिन वे ड्यूटी पर नहीं थी, इसलिए पीएम नहीं किया। वैसे भी वे पीएम जैसे संवेदनशील कार्य में असहजता महसूस करती हैं। यह बात वे वरिष्ठ अधिकारियों को भी बता चुकी हैं।
किसने क्या कहा
चूंकि मामला मानवीय संवेदनाओं से संबंधित था कि मंगलवार से शव पीएम के लिए पड़ा है और संबंधित डॉक्टर खुद के अवकाश पर होने से खुद को इटारसी में होना बता रही थीं, इसलिए यहां की डॉक्टर सुषमा बोरीवाल से बुधवार को पीएम कराया गया ताकि मृतक के परिजनों को और अधिक मानसिक संताप न झेलना पड़े और शव का शीघ्र अंतिम संस्कार किया जा सके।
- डॉ. एनके खांडे, प्रभारी, शासकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पीथमपुर
सागोर में पदस्थ डॉ. सपना शर्मा ने मंगलवार के लिए किसी प्रकार का कोई अवकाश का आवेदन दिया हो, यह मेरी जानकारी में नहीं है। उन्होंने अपना ऐसा कोई आवेदन कार्यालय पहुंचाया भी हो तो पता कराता हूं। मामले की शीघ्र जांच की जाएगी।
- डॉ. जयप्रकाश मकवाना, एलबीएमओ, नालछा
डॉ. सपना शर्मा को इस संबंध में शो-कॉज नोटिस जारी किया जा रहा है। केवल हेड क्वार्टर लीव देकर भी बिना वरिष्ठ अधिकारी की अनुमति के अस्पताल जैसे विभाग में अन्यत्र नहीं जा सकते। उन्हें पीएम सहित अन्य चिकित्सकीय कार्य की ट्रेनिंग भी दी जा चुकी है। इस मामले में शीघ्र कार्रवाई की जा रही है।
- डॉ. आरसी पनिका, सीएमएचओ, धार

Ad Block is Banned