मॉडर्न मेडिकल कॉलेज के फरार चेयरमैन गिरफ्तार, पुलिस करेगी पूछताछ

मॉडर्न मेडिकल कॉलेज के फरार चेयरमैन गिरफ्तार, पुलिस करेगी पूछताछ

By: nidhi awasthi

Published: 24 May 2018, 04:28 PM IST

इंदौर. मॉडर्न मेडिकल कॉलेज के फरार चेयरमेैन को पुलिस गिरफ्तार कर इंदौर ले आई है। पुलिस ने उसे आगे की कार्रवाई के लिए कनाडिय़ा पुलिस के हवाले कर दिया है। वह उससे पूछताछ करेगी। चेयरमैन के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज है।

आरोपित ने कॉलेज में पढऩे वालों के साथ में धोखाधड़ी की थी। इस मामले में कनाडिय़ा पुलिस ने धोखाधड़़ी का केस भी दर्ज कर लिया था। रिपोर्ट दर्ज होने के बाग से ही फरार चल रहा था। कल दिल्ली से पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। उसके पुलिस का दल इंदौर ले आया है और कनाडिय़ा पुलिस के हवाले किया गया। अब कनाडिय़ा पुलिस इस मामले में कार्रवाई कर रही है। एएसपी क्राइम अमरेंद्रसिंह ने बताया कि वह इंदौर से भागने के बाद में दिल्ली के एक होटल में रुका हुआ था।

छात्र-छात्राओं के साथ लाखों की धोखाधड़ी के आरोप में फरार मॉडर्न मेडिकल कॉलेज के चेयरमैन को क्राइम ब्रांच ने बुधवार शाम दिल्ली से पकड़ लिया। वह एक होटल में छिपकर अग्रिम जमानत की फिराक में था। उसके खिलाफ कई थानों में धोखाधड़ी और धमकाने की शिकायतें दर्ज हैं। उसकी गिरफ्तारी पर 20 हजार रुपए का इनाम था।

क्राइम ब्रांच के एएसपी अमरेंद्र सिंह के मुताबिक कनाडिय़ा पुलिस ने एक महीने पूर्व एमबीबीएस छात्रा सुरभि माहेश्वरी की शिकायत पर डॉ. रमेश बदलानी के खिलाफ धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज किया था।

छात्रा ने बताया कि उसने वर्ष 2016 में राज्य सरकार द्वारा करवाई गई काउंसलिंग के जरिये मॉडर्न मेडिकल कॉलेज (कनाडिय़ा) में एडमिशन लिया था। जनवरी 2018 से कॉलेज में अनियमितता शुरू हो गई और स्टाफ व फैकल्टी ने कॉलेज आना बंद कर दिया। उनका आरोप था कि चेयरमैन का पार्टनर से विवाद होने के कारण उन्होंने वेतन रोक लिया।

छात्र शिवम पाटीदार, सौरभ मंडलोई, रिंकू पाटीदार, श्रद्धा द्विवेदी, मयंक वैध, नीलू जैन और अभिषेक तिवारी ने एमसीआई, डीएमई, मुख्यमंत्री, कलेक्टर और डीआईजी को भी शिकायत दर्ज करवाई थी। कार्रवाई नहीं होने पर पीडि़त छात्र-छात्राएं डीआईजी ऑफिस के सामने भूख हड़ताल पर बैठ गए थे। मामले में सांसद प्रतिनिधि ने मध्यस्था की और पार्टनर अशोक अग्रवाल से समझौता करवाया।

टीआई बचाने में जुटे, डीआईजी ने पकड़ाया

छात्रों का आरोप था कि हड़ताल के दौरान उन्होंने डॉ.बदलानी से मिलने की कोशिश की तो वे कनाडिय़ा थाने से पुलिस बल और बाउंसर लेकर मिलने आए। व्यथा बताने पर गुस्से में अपशब्दों का प्रयोग किया। महिला एचओडी से अभद्रता करने लगे। टीआई एमएल चौहान ने बदलानी का पक्ष लिया। डीआईजी ने आरोपित की गिरफ्तारी के लिए टीम का गठन किया और दिल्ली से पकड़ लिया।

nidhi awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned