शिक्षा मंत्री बोले - ' ये परीक्षा ही है, जो अच्छा नहीं लिखेगा वो फ़ेल होगा '

कॉलेज खोलने के मामले में सरकार की ओर से जो भी गाइड लाइन आएगी, उसका पालन करेंगे...

By: Ashtha Awasthi

Published: 15 Sep 2020, 11:55 AM IST

इंदौर। बीते दिन उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव शहर में पहुंचे थे। यहां पर उन्होंने स्टूडेंट्स के लिए कई जरूरी बाते कहीं। उन्होंने कहा कि यूजीसी के निर्देश के अनुसार हमने जनरल प्रमोशन न करते हुए ओपन बुक परीक्षा कराई। हम भी इसी पक्ष में थे कि विद्यार्थियों की परीक्षा हो। हमने ओपन बुक परीक्षा का ऐसा सिस्टम बनाया जिसमें गुणवत्ता से समझौता नहीं किया गया।

 

सोशल डिस्टेंश के साथ 3628 छात्रों ने दी हायर सेकंडरी पूरक परीक्षा

उन्होंने यह भी कहा कि नई एजुकेशन पॉलिसी अगले साल लागू होगी। यह पॉलिसी पहले एग्जाम सिस्टम में लागू होगी। मीडिया से चर्चा में मंत्री ने कहा हमने पूरे प्रदेश में यूजी-पीजी की फाइनल एग्जाम करवाई। यूजी की तो ख़त्म भी हो गई। कोरोना संकट में भले ही ओपन बुक एग्जाम सिस्टम लागू किया, लेकिन यह सामान्य परीक्षा की तरह ही है। जिसने परचा अच्छे से हल नहीं किया, वह फेल भी होगा।

कोरोना संकट काल में हुई परिक्षाओं में इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि छात्र को उसकी गुणवत्ता के आधार पर अंक मिले। ऐसा इसलिए क्योंकि पीजी में एडमिशन की मेरिट पारदर्शिता के साथ बन सके। डॉ. यादव ने कहा कि गेस्ट औऱ विजिटिंग फेकल्टी से जुड़े मामलों का भी समाधान निकाल रहे हैं, लेकिन उन्हें कॉलेज आकर काम तो करना पड़ेगा। साथ ही साथ कॉलेज खोलने के मामले में जो भी गाइडलाइन आएगी, उसका पूर्ण पालन करेंगे।

Ashtha Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned