संकट में गजब मप्र का पर्यटन, एक महीने से बंद

सैलानी टापू का रास्ता, पर्यटन विकास निगम को हो रहा नुकसान, जल महोत्सव में लगे विभाग के अफसर, नहीं दे रहे ध्यान

By: amit mandloi

Published: 10 Nov 2017, 07:53 PM IST

इंदौर. ओंकारेश्वर के पास पर्यटन विकास निगम द्वारा बनाए गए सैलानी टापू का रास्ता एक माह से बंद है। पर्यटकों को यहां से लौटना पड़ रहा है। बांध का जल स्तर बढऩे से जो अस्थाई रास्ता बना था, वह तीन फीट डूब गया है। इस पर टूरिज्म बोर्ड और पर्यटन विकास निगम के अफसरों का ध्यान नहीं है, जबकि हनुवंतिया से ज्यादा पर्यटक यहां पहुंचते हैं।


पर्यटन विकास निगम द्वारा जल महोत्सव का आयोजन हनुवंतिया में किया जा रहा है। ढाई माह के इस जल महोत्सव में इस बार टूरिज्म बोर्ड की दखलंदाजी बढ़ गई है, जिसके चलते पर्यटन विकास निगम सिर्फ नाम का ही रह गया है। सैलानी टापू पर अब सिर्फ वे पर्यटक ही पहुंच रहे हैं, जो यहां रात को रुकना चाहते हैं। इनके द्वारा यहां के कॉटेज की प्री बुकिंग करने के बाद इन्हें स्पीड बोट के सहारे टापू तक ले जाया जा रहा है।


हर माह होती थी लाखों की कमाई
लोकल पर्यटकों की आमद सैलानी टापू में बंद होने से पर्यटन विकास निगम की हर माह होने वाली लाखों रुपए की आय बंद हो गई है। ओंकारेश्वर समीप होने के कारण यहां सैकड़ों पर्यटक पूरे दिन के लिए आते थे और शाम तक लौट जाते थे, लेकिन पिछले एक माह से इन पर्यटकों के लिए सैलानी टापू के द्वार बंद हो गए हैं। दरअसल, पर्यटन विकास निगम ने यहां जो कॉटेज बनाए हैं, उनका किराया 5 से 7 हजार रुपए तक है। ऐसे में ज्यादातर पर्यटक सुबह से शाम तक बोट क्लब में आकर वापस चले जाते थे। पर्यटन विकास निगम को इससे ही हर माह लाखों रुपए की कमाई होती थी।


तलाश रहे हैं विकल्प
हमने वरिष्ठ अधिकारियों से इस संबंध में बात की है। इसका विकल्प तलाशा जा रहा है। अभी लोकल टूरिस्ट यहां नहीं आ पा रहे हैं। जो कॉटेज की बुकिंग कर रहे हैं, उन्हें यहां लाने की व्यवस्था हमने की है।
नितिन कटारे, मैनेजर, सैलानी टापू


शुरू हुई एंट्री फीस
पर्यटन विकास निगम ने एक माह पहले ही एंट्री फीस भी लेना शुरू कर दी। यहां 15 रुपए प्रति व्यक्ति लिए जा रहे हैं। दरअसल, अनावश्यक लोगों की संख्या बढऩे से अधिकारियों ने फीस लेना शुरूकिया। इधर, हनुवंतिया में निगम ने 10 रुपए एंट्री फीस रखी है। गौरतलब है कि निगम द्वारा पहले हनुवंतिया रिजॉर्ट शुरू किया गया था, बाद में सैलानी टापू। सैलानी टापू की दूरी हनुवंतिया की अपेक्षा इंदौर से आधी है। यह महज 80 किमी दूर है और यहां पास ही ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग है। ऐसे में पर्यटक यहां ज्यादा आते थे।

फाइल फैक्ट
निगम ने बनाए हैं २३ कॉटेज, वाटर स्पोट्र्स के लिए आते हैं सैकड़ों पर्यटक
ओंकारेश्वर से है महज एक किमी दूर, हनुवंतिया से ज्यादा यहां होती है कमाई
एक माह से नहीं जा पा रहे लोकल टूरिस्ट, रेस्टोरेंट और कैफे के साथ बनाया है कॉन्फ्रेंस हॉल

amit mandloi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned