समानांतर ओपीडी ने बिगाड़ी एमवाय की व्यवस्थाएं

- एमवाय अस्पताल में समानांतर ओपीडी लगा रहे हैं जूनियर डॉक्टर

By: Lakhan Sharma

Published: 20 Jul 2018, 11:09 AM IST

इंदौर।
चार दिनों से मानदेय बढ़ाने की मांग को लेेकर एमवाय अस्पताल में जूनियर डॉक्टर नियमित ओपीडी की बजाए समानांतर ओपीडी चला रहे हैं, जिससे अस्पताल की व्यवस्थाएं बिगड़ गई है। दरअसल ओपीडी में पर्ची काउंटर पर आने वाले मरीजों को बाहर टेंट में बैठे डॉक्टरों को दिखाने आना पड़ रहा है। यहां जूडा के पास संसाधन भी नहीं है एसे में सिर्फ नाम मात्र की सांंकेतिक ओपीडी ही यहां चल रही है।
गौरतलब है की अन्य प्रदेशों में मिलने वाले मानदेय की चाह में एमवाय अस्पताल के जूनियर डॉक्टर, पीजी स्टुडेंट इन दिनों विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। कई बार इस मांग को वे कॉलेज प्रबंधन और चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारियों के सामने रख चुके हैं, लेकिन इसे बढ़ाया नहीं गया। इसके बाद अब प्रदेशभर में एक साथ इसके लिए अंादोलन शुरू कर दिया गया है। हालांकि इसका सीधा असर अब मरीजों की सेहत पर पडऩे लगा है। इन दिनो ंएमवाय की ओपीडी में मरीजों की संख्या भी बढ़ गई है। मरीजों की संख्या बढ़ जाने से लंबी लंबी लाईने इलाज के लिए लग रही है, एसे में सीनियर डॉक्टर तो ओपीडी में बैठ रहे हैं और जूनियर डॉक्टर ओपीडी के बाहर। कई सीनियर डॉक्टर ओपीडी समय पर नहीं पहुंच रहे हैं जिससे भी मरीजों को परेशानी हो रही है। जूडा के अध्यक्ष डॉ. कृपाशंकर तिवारी ने बताया की हमारी मांग जायज है। २३ जुलाई तक समानांतर ओपीडी लगेगी उसके बार हम सामुहिक अवकाश पर रहेंगे।

 

- इधर हड़ताल की तैयार
एमवाय अस्पताल में २३ जुलाई को बहुत अधिक जरूरत हो तो ही जाएं, क्योंकि इस दिन अस्पताल में सीनियर से लेकर जूनियर डॉक्टर, नर्सिंग स्टॉफ और टेक्निशियन सभी सामुहिक अवकाश पर हैं। इसके चलते अस्पताल की व्यवस्थाएं गड़बढ़ाना तय है। एसे में यहां आने वाले मरीजों को उचित इलाज भी नहीं मिल सकेगा। हालांकि मेडिकल कॉलेज प्रबंधन और एमवाय प्रबंधन इस सामुहिक अवकाश को टालने की जुगत में लगे हैं।
अंादोलन की शुरूआत मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन ने की थी, जिन्होंने अलग अलग मांगो को लेकर एक दिन का सांकेतिक विरोध किया था। तब ही अध्यक्ष डॉ. पूनम माथूर ने २३ जुलाई को विरोध स्वरूप सामुहिक हड़ताल पर रहने की बात कही थी। इसके बाद नर्सिंंग एसोसिएशन ने अलग अलग मांगो को लेकर रैलियां निकाली और दो दिन तक एमवाय अस्पताल के मुख्य गेट पर दो दो घंटे का धरना देकर विरोध प्रदर्शन किया। इन्होंने भी २३ जुलाई को सामुहिक अवकाश पर रहने की घोषणा कर दी। इनके सर्मथन में टेक्निशियन भी आ गए जिनकी कई मांगे लंबे समय से लंबित है। वे भी २३ को सामुहिक अवकाश पर रहेंगे। इन सबसे बाद अस्पताल में अब सिर्फ जूनियर डॉक्टर बचे थे, जो व्यवस्थाए संभालते। लेकिन तीन दिनों पहले जूनियर डॉक्टरों ने प्रदेशभर में मानदेय बढ़ाने के लिए अंादोलन छेड़ दिया है। एमवाय अस्पताल की नियमित ओपीडी में न बैठकर वे अस्पताल परिसर के बाहर समानांतर ओपीडी लगा रहे हैं। साथ ही उन्होंने भी २३ जुलाई को अस्पताल में काम नहीं करने की घोषणा कर दी, वे भी सामुहिक अवकाश पर रहेंगे।

Lakhan Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned