सांठगांठ उजागर : नैक का दौरा कराने के बजाय कॉलेज वाले टीम को घुमाते रहे उज्जैन-ओंकारेश्वर

सांठगांठ उजागर : नैक का दौरा कराने के बजाय कॉलेज वाले टीम को घुमाते रहे उज्जैन-ओंकारेश्वर
सांठगांठ उजागर : नैक का दौरा कराने के बजाय कॉलेज वाले टीम को घुमाते रहे उज्जैन-ओंकारेश्वर

Hussain Ali | Updated: 11 Oct 2019, 03:10:00 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

  • ए ग्रेड के लिए कराई महाकाल भस्मारती की बुकिंग
  • पहले दिन कमरे में बैठकर निपटा दिए 20 विभाग
  • दूसरे दिन सीधे एक्जिट मीटिंग में लिया हिस्सा

अभिषेक वर्मा @ इंदौर. न्यू जीडीसी में 4 और 5 अक्टूबर को हुए नैक दौरे में कॉलेज प्रबंधन और नैक टीम की सांठगांठ उजागर हुई है। प्रबंधन ने चुनिंदा विभागों की ही उपलब्धियां बताते हुए दौरा निपटा दिया। जब टीम को विभाग-विभाग घूमकर पड़ताल करना थी, तब कॉलेज के प्रशासनिक अधिकारी उन्हें ओंकारेश्वर का दौरा करा रहे थे।

must read : ‘जय तुमसे सबसे ज्यादा प्यार था लेकिन मुझ पर भरोसा नहीं किया, मर जाऊंगी तो बहुत खुश होंगे लोग’

नैक की पीयर टीम में शामिल गुजरात की डॉ. संगीता शर्मा, महाराष्ट्र के डॉ. एस. फागारे और आंध्रप्रदेश के डॉ. सुरेश वर्मा को 130 बिंदुओं पर कॉलेज का आकलन करना था। 4 अक्टूबर को दौरे की शुरुआत हुई। इस मौके पर कुलपति प्रो. रेणु जैन भी न्यू जीडीसी पहुंचीं। लंच तक प्रेजेंटेशन के बाद टीम ने एक ही जगह बैठकर करीब 20 विभागों की जानकारी बुलाकर दौरा निपटा लिया।

must read : एमवाय अस्पताल की पांचवी मंजिल से बुजुर्ग ने लगाई छलांग, रातभर पड़ी रही लाश

दूसरे दिन कॉलेज स्टाफ को सुबह 8 बजे बुला लिया गया, लेकिन 9 बजे तक भी टीम का कोई सदस्य नहीं आया। स्टाफ को पता चला, पीयर टीम ओंकारेश्वर दर्शन करने गई है। दोपहर में आई टीम दौरा करने के बजाय कागजी खानापूर्ति में जुट गई। सूत्रों के अनुसार, टीम ने एक्जिट मीटिंग में ए ग्रेड का आश्वसन दिया है। कॉलेज के पास अभी बी ग्रेड है।

स्टाफ में भी आक्रोश

नैक से आकलन नहीं होने पाने से कॉलेज के कई फैकल्टी और स्टाफ सदस्यों में आक्रोश है। कुछ विभाग 6 महीने से नैक के लिए कड़ी तैयारी कर रहे थे। फैकल्टी का आरोप है, नैक टीम ने न तो उनके विभाग में विजिट की और न ही विभाग से जुड़ी जानकारी ली। औपचारिकता ही करना थी तो इतने महीने से तैयारी किसलिए कराई गई। शहर के ख्यात नैक एक्सपर्ट के अनुसार, किसी भी कॉलेज का दौरा करने जाने वाली टीम को एक्जिट मीटिंग से पहले स्थानीय जगह घूमने की भी फुरसत नहीं मिलती। न्यू जीडीसी जैसे बड़े कॉलेज के दौरे में किसी के लिए भी शहर से बाहर जाना संभव नहीं है।

must read : ‘तुम्हारा दिल दुखाया, माफ कर देना’ लिख मौत को गले लगा लिया, करवा चौथ के लिए बुक कराया था होटल

उज्जैन भी ले गए प्रशासनिक अधिकारी

कॉलेज के विभागों का दौरा कराने के बजाय टीम को ज्योतिर्लिंगों के दर्शन कराने की योजना कॉलेज के प्रशासनिक अधिकारी डॉ. आरके पाठक ने बनाई। उन्होंने दो लक्जरी गाडिय़ों का इंतजाम किया। वे भी टीम के साथ ओंकारेश्वर गए। 5 अक्टूबर की रात टीम के साथ उज्जैन भी रवाना हुए। 6 अक्टूबर की सुबह भस्मारती करवाई। टीम की एक सदस्य के अनुसार, उन्होंने नैक का दौरा निपटाने के बाद बचे समय में धार्मिक स्थलों की यात्रा की।

कहां घूमने गई जानकारी नहीं है

नैक टीम ने ईमानदारी से दौरा किया है। सदस्यों ने करीब-करीब हर विभाग से जुड़ी जानकारी ली। एक्जिट मीटिंग में दस्सय संतुष्ट थे। वे कहां घूमने गए इसकी जानकारी नहीं है।

-प्रो. कुसुमलता निंगवाल, प्राचार्य, न्यू जीडीसी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned