scriptNaturopathy will cure these diseases, people are adopting fast | मिट्टी, पानी, धूप और हवा से होगा इन बीमारियों का इलाज, कोरोना में भी फायदेमंद | Patrika News

मिट्टी, पानी, धूप और हवा से होगा इन बीमारियों का इलाज, कोरोना में भी फायदेमंद


वहीं करीब 30 चिकित्सक 15 से अधिक क्लिनिक का संचालन कर रहे हैं....

इंदौर

Published: November 18, 2021 05:36:25 pm

इंदौर। आयुष चिकित्सा पद्धति में आयुर्वेद, यूनानी और होम्योपैथी के साथ ही नेचुरोपैथी यानी प्राकृतिक चिकित्सा भी प्रमुख है। अब इस पद्धति को भी लोग तेजी अपना रहे है, क्योंकि इसमें बिना दवा के इलाज किया जाता है। आकाश, वायु, अग्नि, जल और पृथ्वी के माध्यम के उपचार होता है। इतना ही नहीं कोरोनाकाल में भी यह पद्धति कई मरीजों के लिए फायदेमंद रही है। जो लोग या संत दवाइयों का उपयोग नहीं करते हैं वे इस पद्धति से इलाज कराते हैं। इंदौर में करीब 3 चिकित्सालय है जहां भर्ती कर मरीजों का इस पद्धति से इलाज किया जाता है। वहीं करीब 30 चिकित्सक 15 से अधिक क्लिनिक का संचालन कर रहे हैं।

_650x_2019062616583986.jpg
नेचुरोपैथी

धूप, हवा और आकाश इंटरनेशनल नेचुरोपैथी ऑर्गनाइजेशन के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. एके जैन ने बताया, नैचरोपैथी एक ऐसी पद्धति है जिसमें दवाओं का उपयोग नहीं होता है। प्रकृतिक तत्वों से ही इलाज किया जाता है। मिट्टी, पानी, धूप, हवा और आकाश इसके आधार हैं। ये पंच तत्व प्रकृति के दिए हुए हैं इन्हीं से उपचार किया जाता है। इस पैथी के अनुसार हर बीमारी की जड़ वीजातीय तत्व को माना जाता है।

कोरोना में भी फायदेमंद

पैथी के सिद्धांत के अनुसार विजातीय तत्व ही कोरोना के रूप में शरीर में प्रवेश करते हैं। इसे बाहर निकालकर मरीज को ठीक किया जा सकता है। कई प्रक्रिया नैचरोपैथी में शामिल है। कई मरीज इस पैथी से ठीक भी हुए हैं। विजातीय तत्वों को बाहर निकालने की कई प्रक्रिया होती है। नाक और मुंह से वायरस अंदर जाता है। ऐसे में नाक और मुंह का म्यूकस यानी चिपचिपा पदार्थ और कफ से शरीर में वायरस बढ़ता है। इस मार्ग को नेति से शुद्ध किया जाता है। शरीर और बीमारी के अनुसार नेति, कुंजल, स्टीम, सूर्य स्नान, मिट्टी चिकित्सा और मसाज के माध्यम से इलाज किया जाता है। विभिन्न तरीके के गरारे-भाप से इम्यूनिटी बढ़ाने और संक्रमण को खत्म किया जाता है।

इम्यूनिटी को बनाए रखने के कई उपाय

इस पद्धति के अनुसार प्रकृति के साथ रहना अहम है। वॉकिंग, व्यायाम, दौड़, आहार-विहार से इम्यूनिटी मजबूत होती है। सीजनल-रीजनल फलों को भोजन में शामिल करें। पत्तेदार और हरी सब्जियां खाएं। तेल, मिर्च-मसाला, शक्कर और घी के सेवन से बचना चाहिए। दिन में नाक में नारियल तेल और रात में घी लगाने से वायरस निष्क्रिय होकर शरीर में नहीं जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावCorona Cases In India: देश में 24 घंटे में कोरोना के 2.68 लाख से ज्यादा केस आए सामने, जानिए क्या है मौत का आंकड़ाJob Reservation: हरियाणा के युवाओं को निजी क्षेत्र की नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण आज से लागूअब हर साल 16 जनवरी को मनाया जाएगा National Start-up DayArmy Day 2022: क्‍यों मनाया जाता है सेना दिवस, जानिए महत्व और इतिहास से जुड़े रोचक तथ्यभीम आर्मी प्रमुख चन्द्र शेखर ने अखिलेश यादव पर बोला हमला, मुलाकात के बाद आजाद निराशछत्तीसगढ़ में तेजी से बढ़ रहे कोरोना से मौत के आंकड़े, 24 घंटे में 5 मरीजों की मौत, 6153 नए संक्रमित मिले, सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट दुर्ग मेंयूपी विधानसभा चुनाव 2022 पहले चरण का नामांकन शुरू कैराना से खुला खाता, भाजपा के लिए सीटें बचाना है चुनौती
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.