‘जय तुमसे सबसे ज्यादा प्यार था लेकिन मुझ पर भरोसा नहीं किया, मर जाऊंगी तो बहुत खुश होंगे लोग’

‘जय तुमसे सबसे ज्यादा प्यार था लेकिन मुझ पर भरोसा नहीं किया, मर जाऊंगी तो बहुत खुश होंगे लोग’
‘जय तुमसे सबसे ज्यादा प्यार था लेकिन मुझ पर भरोसा नहीं किया, मर जाऊंगी तो बहुत खुश होंगे लोग’

Hussain Ali | Updated: 11 Oct 2019, 02:45:00 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

  • नीट की तैयारी कर रही युवती ने लगाई फांसी
  • सुसाइड नोट में बयां किया अपना दर्द
  • लसूडिय़ा इलाके में स्कीम 78 की घटना

चिंतन विजवर्गीय @ इंदौर. लसूडिय़ा इलाके की स्कीम 78 स्थित होस्टल में रहकर नीट की तैयारी कर रही युवती ने बुधवार रात फांसी लगा ली। सुसाइड नोट में उसने लिखा कि लोग मुझे बुरा साबित करने में लगे हैं, मुझे नीचा दिखा रहे हैं। इसलिए आत्महत्या कर रही हूं।

must read : ‘तुम्हारा दिल दुखाया, माफ कर देना’ लिख मौत को गले लगा लिया, करवा चौथ के लिए बुक कराया था होटल

लसूडिय़ा पुलिस ने बताया, रुचि (18) पिता महेश अहिरवार मूल रूप से महरोली उत्तरप्रदेश की रहने वाली थी। इंदौर में रहकर नीट की तैयारी कर रही थी। उसकी रूममेट अपने घर गई हुई है। बुधवार शाम से रुचि ने न दरवाजा नहीं खोला और न ही होस्टल की किसी युवती का फोन उठाया। दरवाजा तोड़ा तो वह फांसी पर लटकी मिली। पुलिस ने शव को एमवाय अस्पताल भिजवाया। गुरुवार को गांव से उसके चाचा व चाची और भोपाल से ममेरा भाई इंदौर पहुंचे। पोस्टमॉर्टम के बाद वे शव को गांव ले गए। जांचकर्ता नरसिंह यादव ने बताया, रुचि काफी गरीब परिवार से थी। उसकी पढ़ाई का खर्च चाचा उठा रहे थे। इसी के चलते युवती को ताने मारे जाते, जिससे वह तनाव में रहने लगी। लसूडिय़ा पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू की है।

must read : दशहरे पर जिन्हें पहनाना थे नए कपड़े वो कफन में हुए विदा, मां की चीत्कार से फट गया कलेजा

‘मुझे नीचा दिखाने की प्लानिंग नहीं करना पड़ेगी’

टीआइ संतोष दूधी ने बताया, रुचि के पास मिले सुसाइड नोट में लिखा है - चाचा में आपको कभी धोखा नहीं देना चाहती थी। सब लोग आपके और मेरे बीच गलतफहमी पैदा करना चाहते हैं। मुझे आपसे अलग करना चाहते हैं। मैं नहीं चाहती कि आप मुझसे नफरत करने लगो, इसलिए यह कदम उठा रही हूं। आत्महत्या किसी के दबाव में नहीं कर रही हूं। जो कर रही हूं, अपनी मर्जी से कर रही हूं। चाचा आपसे विनती है कि मेरे भाई व बहनों को पढ़ाना। उन्हें भी बाहर भेजना और पूरी आजादी देना। उन पर पूरा विश्वास करना।

must read : तीन पीढिय़ों का कत्ल करने वाली नेहा ने जेल में मचा रखा है ‘उत्पात’, मिल चुकी है फांसी की सजा

इस समय मेरे साथ कोई नहीं है

मेरे मरने के बाद कई लोग खुश हो जाएंगे। फिर उन्हें प्लानिंग नहीं करना पड़ेगी, मुझे नीचा दिखाने के लिए। जय मैं अपने परिवार व चाचा के अलावा तुमसे सबसे ज्यादा प्यार करती थी, लेकिन बाकी लोगों की बातों में आकर तुमने मुझ पर भरोसा करना बंद कर दिया। इस समय मेरे साथ कोई नहीं है। सभी की नजरों में काफी बुरी बन चुकी हूं। अब जिंदा रहने का कोई मतलब नहीं है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned