जूडा की हड़ताल के बाद नया संकट अब नर्सेस ने शुरु किया आंदोलन

लंबित मागों को लेकर नर्सिंग एसोसिएशन 9 जून से 15 जून तक करेगी चरणबद्ध आंदोलन

By: Hitendra Sharma

Published: 09 Jun 2021, 02:48 PM IST

इंदौर. मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के बीच एक सप्ताह चली आ रही जूनियर डाक्टरों की हड़ताल को खत्म हुए दो दिन भी नहीं हुए कि सरकार को नए संकट ने घेर लिया है। अस्पतालों में अब नए संकट के रूप में नर्सेस आंदोलन दिखाई दे रहा है। मध्यप्रदेश नर्सेस एसोसिएशन ने बुधवार से प्रदेशव्यापी नर्सेस आदोलन का एलान कर दिया है। आज पहले दिन नर्सेस ने काली पट्टी बांधकर विरोध जताया और सरकार से सभी लंबित मांगों को पूरा करने की मांग की।

Must see: MP में कोरोना के ताजा आंकड़े

प्रदेश में पिछले दिनों से सभी मेडिकल कॉलेज के 3 हजार जूनियर डाक्टर के हड़ताल पर चले गए थे। सरकार के मांगे मानने और उच्च न्यायालय के आदेश के बाद जूडा सोमवार के ही काम पर लोटे हैं। जूडा के बाद मध्य प्रदेश के सभी शासकीय मेडिकल कॉलेज की 6 हजार नर्सेस ने आदोलन करने का एलान कर दिया। आदोलन की शुरुआत 9 जून से की गई आज प्रदेश के 6 मेडिकल कॉलेज की नर्सेस ने काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन किया हालांकि नर्सेस के विरोध प्रदर्शन का अस्पताल में किसी काम पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा। सभी नर्सेस काली पट्टी बांधकर काम करती रही। मध्यप्रदेश नर्सेस एसोसिएशन न कहा है कि प्रदेश सरकार स्टाफ नर्स की लंबित मांगों पर विचार नहीं कर रही है। इसके लिये कई बार ज्ञापन भी दिए गए। अब आंदोलन ही आखिरी रास्ता बचा है।

Must see: एमपी में गुमनाम अस्पताल के नाम पर टीके की 10 हजार डोज खरीदी

मध्य प्रदेश नर्सेस एसोसिएशन की प्रदेश अध्यक्ष रेखा परमार ने कहा कि कोरोना संकट के समय नर्सेस ने अपनी जान जोखिम में डालकर काम किया है। अपनी और अपने परिवार की चिंता किए बगैर काम करती रही है इस महामारी ने कई नर्सेस को भी अपनी चपेट में ले लिया। लेकिन सरकार को हमारी लंबित मांगों का स्मरण नहीं है। परमार ने प्रदेश के सीएम और चिकित्सा शिक्षा मंत्री से मांग की है कि स्टाफ नर्सेस की मांगों पर विचार कर जल्द उनके आदेश जारी किए जाएं।

Must see: 25 लाख की जनसंख्या वाले जिले में सिर्फ 5.50 लाख को टीका

Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned