‘तुम्हारा दिल दुखाया, माफ कर देना’ लिख मौत को गले लगा लिया, करवा चौथ के लिए बुक कराया था होटल

‘तुम्हारा दिल दुखाया, माफ कर देना’ लिख मौत को गले लगा लिया, करवा चौथ के लिए बुक कराया था होटल
‘तुम्हारा दिल दुखाया, माफ कर देना’ लिख मौत को गले लगा लिया, करवा चौथ के लिए बुक कराया था होटल

Hussain Ali | Updated: 11 Oct 2019, 01:34:04 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

  • नवविवाहिता प्रोफेसर की खुदकुशी का मामला
  • सदमे में मौसी की भी चली गई जान
  • राजेंद्र नगर थाना क्षेत्र का मामला

कृष्णपालसिंह चौहान @ इंदौर. राजेंद्र नगर क्षेत्र की पॉश कॉलोनी रॉयल बंगला शिवालय निवासी निजी कॉलेज की प्रोफेसर और नवविवाहिता प्रिया मुंशी भाटिया (30) ने में बुधवार शाम बेडरूम में फांसी लगा ली। खबर जैसे ही भंवरकुआं क्षेत्र निवासी उनकी मौसी तक पहुंची, तो सदमे में उनकी भी जान चली गई। एफएसएल टीम ने भी जांच की। कमरे से मिले सुसाइड नोट में प्रिया ने लिखा है, ‘हनी, आइ एम सॉरी, आइ हर्ट यू’। घटना से परिवार बदहवास है। बाद में सभी के विस्तृत बयान लिए जाएंगे।

‘तुम्हारा दिल दुखाया, माफ कर देना’ लिख मौत को गले लगा लिया, करवा चौथ के लिए बुक कराया था होटल

टीआइ सुनील शर्मा ने बताया कि सूचना जेठ गुरुराज सिंह भाटिया ने दी। उन्होंने बताया, सिमरनजीत और प्रिया की शादी ९ महीने पूर्व हुई थी। शाम के वक्त गुरुराज की पत्नी सुखविंदर कौर और प्रिया घर पर थीं। मां रवींद्रकौर टहलने के लिए घर से निकलीं। इसके बाद पत्नी ने फोन पर बताया, प्रिया कमरे का दरवाजा नहीं खोल रही है। उस वक्त गुरुराज और उनके भाई सिमरनजीत, सियागंज में थे। उन्होंने प्रिया के मुंहबोले भाई फखरूद्दीन आरिफ निवासी हैदरी टाउनशिप को फोन पर जानकारी देते हुए घर जाने को कहा। रात साढ़े आठ बजे दोनों घर पहुंचे तो पता चला प्रिया ने खुदकुशी कर ली है। फखरूद्दीन ने बताया कि उसने घर पहुंचते ही प्रिया को कई फोन किए। रिंग जाने के बाद भी नहीं उठाने पर उन्होंने कमरे का दरवाजा तोड़ा, तो देखा प्रिया साड़ी के फंदे पर लटकी हुई है।

‘तुम्हारा दिल दुखाया, माफ कर देना’ लिख मौत को गले लगा लिया, करवा चौथ के लिए बुक कराया था होटल

अंतिम दौर में थी पीएचडी की तैयारी, करवाचौथ के लिए होटल बुक कराया

ससुर मनमोहन सिंह भाटिया ने बताया, उनकी सांवेर रोड पर पाइप फैक्ट्री है। बेटे फैक्ट्री संभालते हैं। प्रिया और सिमरनजीत ने साथ पढ़ाई की। २००० में प्रिया के परिवार का पंजाब में एक्सीडेंट हो गया था, जिसमें सात लोगों की जान चली गई थी। प्रिया भी एक्सीडेंट में घायल हुई थी। इसके बाद से वह दादी के साथ रहती। पारिवारिक संबंध के चलते हम भी उसकी देखरेख करने लगे। बेटे और उसकी शादी नौ माह पूर्व की। प्रिया आइपीएस कॉलेज में पढ़ाने सुबह घर से निकलती और दोपहर को लौटती थी। उसकी पीएचडी की पढ़ाई अंतिम दौर में थी। हाल में उसने करवाचौथ कार्यक्रम के लिए होटल बुक किया था।

भाभी से बोलीं थी- बाद में खाना खाऊंगी

बुधवार को वह कॉलेज से घर पहुंची, भाभी ने खाने के लिए बुलाया तो वह कमरे में किताबें जमाते हुए बोलीं- इसके बाद खाना खाऊंगी। कमरा बंद होने पर परिजन ने सोचा शायद सो गई होगी। शाम को यह कदम उठा लिया। आखिरकार एेसी क्या वजह हो गई कि यह कदम उठाया। प्रिया के चाचा मुंबई में रहते है। वे शहर आ रहे हैं, शहर में रहने वाले रिश्तेदार आ चुके हैं।

होस्टल भी संचालित करती थी

भंवरकुआं क्षेत्र के भोलाराम उस्ताद मार्ग के समीप प्रिया की मौसी का परिवार रहता है। जिला हॉस्पिटल शव का पीएम कराने पहुंचे मौसेरे भाई ने बताया, प्रिया छोटी बहन थी। खुदकुशी करने की सूचना मिलते ही सभी घबरा गए। मां ने जैसे ही सुना, सदमे में आ गई। तबीयत बिगडऩे के बाद उनकी जान चली गई। घर में बहन की शादी की तैयारी चल रही थी। प्रिया होस्टल संचालित करने के साथ ही कॉलेज में पढ़ाती थी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned