दादागीरी ऐसी कि दूसरी बसों में बैठने ही नहीं देते, नामजद शिकायत के बाद भी नहीं हुई कार्रवाई

दादागीरी ऐसी कि दूसरी बसों में बैठने ही नहीं देते, नामजद शिकायत के बाद भी नहीं हुई कार्रवाई

Hussain Ali | Publish: Jul, 19 2019 02:10:53 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

कब खत्म होगा शुक्ला ब्रदर्स का खौफ: ऑनलाइन बुकिंग कराने वाले यात्रियों से लेकर अन्य बसों के चालक भी हैं डरे हुए, अनुमति की आड़ में सड़क पर कर कब्जा

इंदौर. इंदौर से उज्जैन तक पूरे सड़क मार्ग पर शुक्ला ब्रदर्स के कथित एजेंटों ने यात्रियों को उनकी जागीर समझ रखा है। दादागीरी ऐसी है कि किसी अन्य बस में सवारी बैठने ही नहीं दी जाती। ऑनलाइन बुकिंग कराने पर भी यात्रियों को बसों में चढऩे से रोका जाता है। इसे लेकर कई बार विवाद की स्थिति भी बनी है और नौबत तोडफ़ोड़ तक आ गई, लेकिन जिम्मेदार सुन कर भी अनसुना कर देते हैं। इसका सबसे अधिक खामियाजा शासन के अंतर्गत चल रही अटल इंदौर सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विसेज लि. (एआईसीटीएसएल) की बसों को भुगतना पड़ता है। ट्रेवल्स संचालन से जुड़े दो लोगों के खिलाफ पुलिस में कई बार नाामजद शिकायतें भी हो चुकी हैं, लेकिन पुलिस कार्रवाई करने से बचती रही है।

must read : बच्चों ने बस से देखा तो खून से लथपथ पड़ी थी उनकी मैडम, खड़े - खड़े तमाशा देख रहे थे लोग

निजी बस ऑपरेटर ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि शुक्ला ब्रदर्स के नाम से चलने वाली बसों से जुड़े एजेंट खुलेआम दादागीरी करते हैं। इनके एजेंट मरीमाता चौराहा, अरविंदो हॉस्पिटल के बाहर और लवकुश चौराहे पर तैनात रहते हैं। शुक्ला ब्रदर्स व गोलू लिखी बसों के अलावा किसी अन्य बस में यात्रियों को बैठने नहीं दिया जाता। एआइसीटीएसएल की बसों के ड्राइवर कंडक्टर भी परेशान हैं।

indore

मैं दादागिरी के खिलाफ, लगाया शिकायत बॉक्स

भाजपा नेता गोलू शुक्ला ने कहा, दंपती के साथ पुलिस द्वारा की गई मारपीट व उससे जुड़े विवाद में हमारा कोई लेना देना नहीं है। हमारी बस टक्कर मारती तो लोग नंबर नोट करते। हमारी सारी बसें नियम से चलती हैं, सभी गाडिय़ों के टैक्स भरे हैं, परमिट हैं। दादागिरी जैसी कोई बात नहीं है। ड्राइवर-कंडक्टर को सख्त हिदायत है कि लोगों से अच्छा व्यवहार करें। आफिस में शिकायत बॉक्स लगाए हैं। ताकि कोई भी व्यक्ति आकर उनकी शिकायत कर सके।

must read :  जीआई टैग के लिए इंदौरी पोहा को मिली एमएसएमई की मंजूरी, अब विदेशों में बढ़ेगा व्यापार

मरीमाता से नहीं चल सकी एसी बसें, बस स्टैंड से ही यात्री बैठाना मजबूरी

एआइसीटीएसएल ने सिंहस्थ के समय इस रुट पर चार एसी बसें शुरू की थी। इन्हें मरीमाता चौराहे से संचालित नहीं होने दिया था। अब ये एबी रोड स्थित एआइसीटीएसएल के बस स्टैंड से चलती हैं। चालकों ने बताया कि ऑनलाइन बुकिंग कराने पर जब यात्री अरबिंदो हॉस्पिटल चौराहे से बस में सवार होना चाहते हैं तो एजेंट दादागीरी करते हुए उन्हें बस में बैठने नहीं देते। अफसरों को भी इसकी जानकारी दी, लेकिन कोई भी रसूखदारों के खिलाफ बोलने को तैयार नहीं होता। इस कारण जो बस स्टैंड पर आ जाता है उसे ही गाड़ी में बैठाते हैं। अरबिंदो के पास से यात्री बैठाना ही बंद करना पड़ा है। बस संचालकों ने बताया कि इंदौर ही नहीं सांवेर में भी कई बार यात्री बैठाने को लेकर तोडफ़ोड़ हो चुकी है।

must read : स्कूल टीचर ने दोस्ती से किया इंकार, सिरफिरापहुंच गया घर, घंटी बजाकर करता रहा परेशान

परमिट 27 बसों के, चला रहे 47
आरोप है कि इंदौर-उज्जैन रुट पर 27 बसों को चलाने के लिए परमिट ले रखा है, लेकिन इस रूट पर रसूख के चलते एक ही नाम से 47 से अधिक बसें बेरोकटोक दौड़ रही हैं। कई बार विवाद हो जाने पर अवैध परमिट की बसों के संचालन की शिकायतें आरटीओ तक पहुंचती भी हैं, लेकिन परिवहन विभाग की टीम इस रूट पर कार्रवाई करने आती ही नहीं है। बड़े रसूख के कारण कभी कोई कार्रवाई नहीं की गई।

must read : मंत्री के आश्वासन पर टली डॉक्टरों की हड़ताल

शिकायत आई थी, हमने केस दर्ज किया है

एक बार शिकायत आई थी, तो केस दर्ज किया था। हमने बस ऑपरेटरों को कहा है कि वे किसी से डरें नहीं, पुलिस उनकी सुरक्षा के लिए तैनात है।
एमपी वर्मा टीआई, सांवेर

बिना परमिट बसें चलने की जानकारी नहीं है,

indore

इंदौर- उज्जैन नहीं बल्कि आरटीओ में रजिस्टर्ड सभी रूटों पर बसों की नियमित जांच की जाती है। हमारे पास आने वाली शिकायतों के अलावा सीएम हेल्प लाइन की शिकायतों का भी निराकरण किया जाता है। उज्जैन रूट पर बिना परमिट बसें चलने की जानकारी नहीं है, यदि ऐसा है तो सख्त करवाई कर बसें जब्त करेंगे। ओवर लोडिंग और फिटनेस की जांच नियमित की जाती है। - जितेंद्र सिंह रघुवंशी आरटीओ

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned