सिपाही को सरकारी पिस्टल देने के मामले में टीआई को नोटिस, जानिए क्या था मामला

सिपाही को सरकारी पिस्टल देने के मामले में टीआई को नोटिस, जानिए क्या था मामला

Reena Sharma | Publish: Apr, 17 2019 12:45:55 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

बाणगंगा थाने में हुई मारपीट : टीआई सहित चार दोषी, दो सिपाही को क्लीनचिट, होगी विभागीय जांच

इंदौर. बाणगंगा थाने में लेन-देन को लेकर पिछले दिनों हुई पुलिसकर्मियों के बीच मारपीट मामले में टीआई सहित चार पुलिसकर्मियों की विभागीय जांच की अनुशंसा की गई है। मामले में दो सिपाहियों को दोषी माना गया है, जबकि दो को क्लीन चिट दी गई है। सिपाही को सरकारी पिस्टल आवंटन के मामले में टीआई को नोटिस दिया गया है।

पांच अप्रैल को बाणगंगा थाने में पुलिसकर्मियों के बीच मारपीट हुई थी। आरोप है, एक सिपाही ने दूसरे सिपाही पर पिस्टल तानकर गोली चलाने की भी कोशिश की थी। आरोप था कि एएसपी के रूप में सिपाही भूपेंद्र ने विक्रम पर गोली चलाने की कोशिश की थी। मारपीट के कारण दोनों सिपाहियों की एमएलसी भी कराई गई थी। पहले तो मामले को दबाने का प्रयास हुआ, लेकिन बाद में अफसरों तक सूचना पहुंची और सीएसपी को जांच सौंपी गई। मामला सामने आने के बाद एसपी पूर्व मो. यूसुफ कुरैशी ने सिपाही भूपेंद्र सिंह, विक्रमसिंह जादौन, सौरभ सिंह व रवींंद्र सिंह को थाने से

हटाकर अपने ऑफिस में अटैच किया था।

एसपी कुरैशी के मुताबिक सीएसपी ने अपनी जांच में सिपाही भूपेंद्र व विक्रम को मारपीट को लेकर दोषी माना है। सिपाही सौरभ व रवींद्र को क्लीन चिट दी गई है। रिपोर्ट में सिपाही भूपेंद्र के पास सरकारी पिस्टल होने पर अफसरों ने गंभीर माना है। इसके लिए टीआई इंद्रमणि पटेल व एएसपी केसरसिंह की लापरवाही मानी है। नियमानुसार सिपाही को सरकारी पिस्टल का आवंटन नहीं किया जा सकता पर यहां टीआई के कहने पर केसरसिंह ने उसको पिस्टल आवंटित की थी। टीआई ने अफसरों के सामने तर्क दिया कि धार, टांडा में बदमाशों की तलाश में गई टीम की सुरक्षा के लिए एएसआई को पिस्टल देने के लिए कहा था। एसपी के मुताबिक टीआई, एएसपी, भूपेंद्र और विक्रम की विभागीय जांच की अनुशंसा कर सभी को नोटिस दिए हैं। चारों को अब इन्हें बाणगंगा थाने नहीं भेजा जाएगा। जवाब मिलने पर सजा तय होगी।

पब मामले में डीएसपी को बयान के लिए बुलाया

विजयनगर क्षेत्र के ट्रांस पब को लेकर चल रही जांच में एएसपी शैलेंद्रसिंह चौहान ने डीएसपी पल्लवी शुक्ला को बयान के लिए बुलाया है। 24 मार्च की रात गश्त कर रही पल्लवी को रात डेढ़ बजे पब खुला था। छापा मारा तो संचालक ने कहा, 50-60 पुलिसकर्मियों को पैसा देता हूं और उनकी मौखिक अनुमति पर पब देर रात तक खुला रहता है। सांठगांठ सामने आने पर एसएसपी ने जांच को कहा था।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned